Global AI Summit RAISE 2020: मुकेश अंबानी ने कहा, अब देशों के बीच डिजिटल कैपिटल को लेकर होगी प्रतिस्‍पर्धा

रिलायंस ग्रुप के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने कहा कि भारत के युवा और इंडस्ट्री वो एजेंडा लागू करने को तैयार हैं जो आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को बढ़ाएंं.

ग्‍लोबल एआई समिट रेज 2020 (Global AI Summit RAISE 2020) में रिलायंस ग्रुप के चेयरमैन मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) ने कहा कि भारत के पास ऐसे सभी साधन तैयार हैं, जिनकी मदद से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सेक्‍टर में दुनिया का नेतृत्‍व कर सकते हैं. आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर ये ग्‍लोबल वर्चुअल समिट (Global Virtual Summit) पांच दिन चलेगा.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) पर पांच दिन के ग्लोबल वर्चुअल समिट (Global AI Summit RAISE 2020) का उद्घाटन किया. इससे पहले रिलायंस इंडस्‍ट्रीज लिमिटेड (RIL) के चेयरमैन मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) ने कहा कि पहले सभी देश फिजिकल कैपिटल, फाइनेंशियल कैपिटल, ह्यूमन कैपिटल और इंटेलेक्‍चुअल कैपिटल के स्‍तर पर प्रतिस्‍पर्धा कर रहे थे. अब राष्‍ट्राें के बीच डिजिटल कैपिटल को लेकर प्रतिस्‍पर्धा होगी. साथ ही कहा कि इस समय भारत के पास ऐसे सभी साधन उपलब्‍ध हैं, जिनकी मदद से हम आर्टिफिशियल सेक्‍टर में वर्ल्‍ड लीडर बन सकते हैं.

    '99 फीसदी से ज्‍यादा लोगों तक पहुंचाया जा चुका ब्रॉडबैंड'
    रिलायंस इंंडस्‍ट्रीज के चेरयमैन मुकेश अंबानी ने कहा कि 6 साल पहले पीएम मोदी ने डिजिटल इंडिया अभियान की शुरुआत की थी और इसे देश की शीर्ष प्राथमिकता बनाया. इसके शानदार नतीजे सामने आए हैं. देश में 99 फीसदी से ज्‍यादा नागरिकों तक 4G ब्रॉडबैंड पहुंचाया जा चुका है. मोबाइल डाटा उपभोग के मामले में भारत 155वें पायदान से दुनिया में पहले नंबर पर पहुंच चुका है. वहीं, 5G को लेकर तैयारी पूरी है. इससे भारत इस सेक्‍टर में अपनी स्थिति मजबूत बनाए रहेगा. वहीं, भारतनेट पहल के जरिये हर घर और कार्यालय को इंटरनेट से जोड़ने को प्राथमिकता दी गई. इसी के तहत देश के शहरों और कस्‍बों ही नहीं 6 लाख गांवों को भी ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क के जरिये जोड़ने की कवायद जारी है. इससे भारत फिक्‍स्‍ड ब्रॉडबैंड सेवा के मामले में भी दुनिया के शीर्ष देशों में शामिल होगा.

    ये भी पढ़ें- Indian Railways का एक और कारनामा! भारत-पाक के बीच चलने वाली 92 साल पुरानी ट्रेन को किया अपग्रेड

    'आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के लिए कच्‍चा माल होता है डाटा'
    मुकेश अंबानी ने कहा कि ये ग्लोबल समिट पीएम मोदी के विजन का उदाहरण है. साथ ही कहा कि डाटा आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) के लिए कच्चा माल है. यह राष्‍ट्र की अहम संपत्ति है. यह सही समय है और हमारे पास सभी साधन तैयार हैं, जिनसे भारत आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सेक्‍टर में वर्ल्ड लीडर की तरह काम कर सकता है. भारत के युवा, इंडस्ट्री और पूरा देश उस एजेंडा को लागू करने के लिए तैयार है, जो आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को बढ़ावा दे. देश हर उस एजेंडा को लागू करने को तैयार है जो देश को मजबूत और नया भारत बनाने के लिए काम करे. इस पर प्रोफेसर राज रेड्डी ने कहा, 'मैं मुकेश अंबानी को मुबारकबाद देना चाहता हूं कि उन्होंने घर-घर तक फाइबर पहुंचाने की शुरुआत की.'

    ये भी पढ़ें- मोदी सरकार की इस योजना का लाभ 72 करोड़ लोगों को मिला, आप भी उठा सकते हैं इसका फायदा

    'आने वाले समय में देश डिजिटल कैपिटल पर करेगा प्रतिस्‍पर्धा'
    मुकेश अंबानी ने कहा कि मेक इन इंडिया (Make in India) के जरिये हम देश में ही डिजिटल डिवाइस, सेंसर और दूसरे उपकरणों का अफोर्डेबल मैन्‍युफैक्‍चरिंग क्षमता तैयार कर रहे हैं. यही नहीं, भारत वर्ल्‍ड-क्‍लास डाटा सेंटर्स की मदद से कंप्‍यूटर पावर के मामले में दुनिया का नेतृत्‍व कर रहा है. मॉडर्न टेक्‍नोलॉजी की मदद से प्रोडक्टिविटी को बढ़ावा मिल रहा है. देश की अर्थव्‍यवस्‍था के सभी सेक्‍टरों में अप्रत्‍याशित स्‍तर पर क्षमता बढ़ी है. बता दें कि 'रिस्पॉन्सिबल आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस फॉर सोशल एंपावरमेंट' या RAISE 2020 का आयोजन इंडस्‍ट्रीज और एजुकेशन सेक्‍टर की पार्टनशिप में किया जा रहा है. इस समिट का मकसद स्वास्थ्य, शिक्षा और कृषि क्षेत्रों में परिवर्तन करना है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.