होम /न्यूज /व्यवसाय /ग्लोबल रेटिंग एजेंसी S&P का दावा, सुस्ती से निबटने के लिए मजबूत स्थिति में है भारत

ग्लोबल रेटिंग एजेंसी S&P का दावा, सुस्ती से निबटने के लिए मजबूत स्थिति में है भारत

डिमांड में मजबूत ग्रोथ और कास्ट प्रेशर में लगातार कमी देखने को मिल रही है.

डिमांड में मजबूत ग्रोथ और कास्ट प्रेशर में लगातार कमी देखने को मिल रही है.

एसएंडपी ग्लोबल रेटिंग्स के डायरेक्टर (एशिया पैसिफिक सॉवरेन रेटिंग्स) एंड्रयू वुड ने एक वेबिनार में कहा, “लेकिन हमें ध्य ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

भारत का मर्चेंडाइज इम्पोर्ट बिल खासा बढ़ गया है
भारत का बाह्य संतुलन खासा मजबूत
29 जुलाई 2022 को समाप्त सप्ताह के दौरान भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 573.5 अरब डॉलर रह गया

नई दिल्ली. भारतीय अर्थव्यवस्था की मजबूती को लेकर अच्छी खबर आई है. दरअसल, ग्लोबल रेटिंग एजेंसी एसएंडपी (S&P Global Ratings) ने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था अपने फॉरेन एक्सचेंज रिजर्व में कुछ गिरावट का सामना करने के लिए तैयार है, क्योंकि उसकी एक्सटर्नल पोजिशन खासी मजबूत है. एसएंडपी ग्लोबल रेटिंग्स के डायरेक्टर (एशिया पैसिफिक सॉवरेन रेटिंग्स) एंड्रयू वुड ने गुरुवार को कहा कि पिछले 6 महीनों के दौरान भारत निश्चित रूप ट्रेड के मामले में गिरावट से प्रभावित हुआ है. इससे फॉरेन रिजर्व एक्सचेंज में कमी आई है, जिसमें गिरावट दिख रही है.

भारत के लिए ज्यादा चिंतित होने की जरूरत नहीं
वुड ने एक वेबिनार में कहा, “लेकिन हमें ध्यान में रखना होगा और यह संदर्भ वास्तव में अहम है कि भारत का बाह्य संतुलन खासा मजबूत है. इसलिए बैलेंसशीट में मार्जिन में इस गिरावट की समय के साथ निश्चित रूप से भरपाई हो सकती.” उन्होंने कहा कि रेटिंग एजेंसी को लगता है कि भारत के लिए ज्यादा चिंतित होने की जरूरत नहीं है.

ये भी पढ़ें-  Indian Railways: रेलयात्र‍ियों को सौगात, महाराष्‍ट्र, गुजरात, राजस्‍थान के इन खास शहरों के ल‍िए कल से चलेगी स्‍पेशल ट्रेन, तुरंत बुक करें ट‍िकट

पहली छमाही में 30 अरब डॉलर की निकासी
दुनिया में कमोडिटी की कीमतों में बढ़ोतरी के साथ मई, जून और जुलाई में मासिक ट्रेड डेफिसिट के रिकॉर्ड हाई पर पहुंचने के साथ भारत का मर्चेंडाइज इम्पोर्ट बिल खासा बढ़ गया है. इसके अलावा, वैश्विक स्तर पर मौद्रिक सख्ती के चलते विदेशी पूंजी प्रवाह में कमी आई है. 2022 की पहली छमाही में भारत से लगभग 30 अरब डॉलर की निकासी हुई है. कुल मिलाकर, इसके चलते 2022 में रुपया 6 फीसदी कमजोर हो चुका है. 19 जुलाई को पहली बार डॉलर की तुलना में रुपया 80 के ऊपर चला गया था.

विदेशी मुद्रा भंडार में 2.4 अरब डॉलर का इजाफा
29 जुलाई को भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में 2.4 अरब डॉलर का इजाफा हुआ. उससे पहले लगातार चार हफ्ते तक कमी देखी गई थी. चार हफ्ते बाद जारी डाटा में रिजर्व बैंक ने जानकारी दी कि 29 जुलाई 2022 को समाप्त सप्ताह के दौरान भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 573.5 अरब डॉलर रह गया.

Tags: Economy, GDP growth, Indian economy

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें