अपना शहर चुनें

States

Coronavirus की वजह से सबसे ज्यादा नुकसान में विमान कंपनियां, इस कंपनी ने अपने कर्मचारियों को बिना सैलेरी छुट्टी पर भेजा

35% कर्मचारियों को एक महीने के लिए बिना वेतन की छुट्टी
35% कर्मचारियों को एक महीने के लिए बिना वेतन की छुट्टी

कंपनी ने कर्मचारियों को क्रमिक आधार पर अवकाश पर भेजने का फैसला किया है. मतलब की इन छुट्टियों की सैलरी उन्हें नहीं दी जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 18, 2020, 10:48 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. घरेलू विमानन कंपनी गोएयर (Go Air) ने कोरोना वायरस (Coronavirus) संकट के मद्देनजर मंगलवार से अपनी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें निलंबित करने की घोषणा की है. उड़ानों की संख्या में कमी के चलते कंपनी क्रमिक आधार पर अपने कर्मचारियों को बिना वेतन के छुट्टी पर भेजेगी. सूत्रों ने जानकारी दी कि कंपनी किस्तों में कर्मचारियों के वेतन में 20 प्रतिशत कटौती करने की भी योजना बना रही है. कंपनी ने समाचार एजेंसी को दिए बयान में कहा कि कोरोना वायरस संकट की सबसे ज्यादा मार विमानन उद्योग पर पड़ी है. क्योंकि कई सरकारों ने यात्रा प्रतिबंध लगाए हैं. लोगों को यात्रा टालने या कम करने के परामर्श जारी किए हैं. कंपनियों ने भी अपने कर्मचारियों के यात्रा को सीमित किया है. विशेष समारोहों की तारीखें भी खिसकायी जा रही हैं.

 17 मार्च से 15 अप्रैल तक इंटरनेशनल फ्लाइट्स कैंसिल
कंपनी ने कहा कि मौजूदा समय में हवाई यातायात में आ रही तेज कमी का उसने पहले कभी अनुभव नहीं किया था. इसे देखते हुए उसने 17 मार्च से 15 अप्रैल तक अपनी सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें निलंबित करने की घोषणा की है. गोएयर कुल 35 शहरों के बीच उड़ान सेवा देती है.

ये भी पढ़ें: LIC स्कीम- सारी किस्त चुकाने के बाद भी मिलता रहेगा फायदा, होगा लाखों का मुनाफा
इसमें आठ विदेशी स्थल भी शामिल हैं. कंपनी ने अपनी फुकेट, माले, मस्कट, अबू धाबी, दुबई, बैंकॉक, कुवैत और दम्माम की अंतरराष्ट्रीय उड़ानें 15 अप्रैल तक निलंबित कर दी हैं. इन उड़ानों को रद्द करने के बाद कंपनी की दैनिक उड़ानों की संख्या 325 से घटकर 280 रह गयी है.



35% कर्मचारियों को एक महीने के लिए बिना वेतन की छुट्टी 
बयान के अनुसार कंपनी ने कर्मचारियों को क्रमिक आधार पर अवकाश पर भेजने का फैसला किया है. इन छुट्टियों की अवधि का वेतन नहीं दिया जाएगा. क्रमिक रूप से एक समय कुछ कर्मचारियों को कार्यस्थल से दूर रखा जाएगा. इससे कंपनी को उड़ानों की संख्या में कटौती के असर से निपटने में मदद मिलेगी. कंपनी ने कहा कि वह जानती है कि इससे प्रभावित कर्मचारियों पर वित्तीय बोझ बढ़ेगा. लेकिन उसने इस निर्णय पर पहुंचने के लिए अन्य देशों में कंपनियों द्वारा अपनायी जा रही प्रक्रियाओं का अध्ययन किया है. इसलिए इसे हल्के में नहीं लिया जाना चाहिए. सूत्रों के अनुसार अभी कंपनी की योजना अपने कार्यबल के 35 प्रतिशत को एक महीने के लिए बिना वेतन की छुट्टी पर भेजने की है. इसमें विदेशी हवाईअड्डों पर काम करने वाले कर्मचारी भी शामिल हैं.

ये भी पढ़ें: कोरोना वायरस की वजह से 100 ट्रेनों को किया गया कैंसिल, चेक करें लिस्ट
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज