31 मार्च से पहले करा लें हेल्थ चेकअप, ऐसे मिल सकता है टैक्स में छूट का लाभ

हेल्‍थ चेकअप के जरिये आप टैक्स बेनिफिट का फायदा भी उठा सकते, लेकिन यह काम 31 मार्च के पहले करना हाेगा.

हेल्‍थ चेकअप के जरिये आप टैक्स बेनिफिट का फायदा भी उठा सकते, लेकिन यह काम 31 मार्च के पहले करना हाेगा.

इनकम टैक्स के सेक्शन 80D के तहत मेडिकल इंश्याेरेंस के लिए दिए जाने वाले प्रीमियम पर टैक्स बचाया जा सकता है. पार्टनर के लिए या बच्चाें के लिए प्रीमियम अदा करते हैं ताे 25000 रुपये तक टैक्स बचा सकते हैं. वहीं, आप अपने 60 साल से ऊपर के माता-पिता के लिए हेल्थ इंश्याेरेंस प्रीमियम चुकाते हैं ताे यह छूट 50000 रुपये तक हाे जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 22, 2021, 5:06 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. काेराेना वायरस (Coronavirus) के फिर तेजी से बढ़ते मामलों के बीच यदि आप अपना या परिवार का फैमिली चेकअप (family checkup ) करवाते हैं ताे इससे आप टैक्स छूट का फायदा (Tax benefit) भी उठा सकेंगे. इसके लिए आपकाे चेकअप 31 मार्च 2021 के पहले कराना हाेगा. कई हॉस्पिटल्स ने भी इम्यूनिटी पैकेजस (immunity package) डिजाइन किए हैं. इनमें महिला, पुरुषाें और सीनियर सिटीजन के लिए अलग-अलग पैकेज हैं. ऐसा करके आप अपनी जांच के साथ इम्यूनिटी भी बूस्ट कर सकते हैं और इनकम टैक्स का बेनिफिट भी. जानना चाहते हैं कैसे ताे चलिए आपकाे बताते हैं.



इनकम टैक्स के सेक्शन 80D (Income tax section 80D) के तहत मेडिकल इंश्याेरेंस के लिए दिए जाने वाले प्रीमियम पर टैक्स बचाया जा सकता है. अगर आप खुद के लिए, पार्टनर के लिए या बच्चाें के लिए प्रीमियम अदा करते है ताे 25000 रुपये तक टैक्स बचा सकते है. वहीं आप अपने 60 साल से ऊपर के माता-पिता के लिए हेल्थ इंश्याेरेंस प्रीमियम चुकाते है ताे यह छूट 50000 रुपये तक हाे जाएगी. यदि माता पिता दाेनाें वरिष्ठ नागरिक है ताे एक वित्तीय वर्ष में अधिकतमा एक लाख रुपये की कटाैती का दावा किया जा सकता है. 



ये भी पढ़ें - क्या पैसों की तंगी से जूझ रहे हैं आप‌? तो अपनाएं ये 4 तरीका, मिलेगा मनमुताबिक पैसा



कैश पेमेंट में नहीं मिलेगा लाभ 

लेकिन यह यह बात ध्यान रखनी हाेगी कि यदि आप काेई भी पॉलिसी कैश में खरीदते है ताे फिर आपकाे इसका लाभ नहीं मिलेगा. इसका फायदा आपकाे तभी मिलेगा जब आप कैश के अतिरिक्त प्रीमियम भरने के दूसरे विकल्पाें काे चुनते है जिनमें चैक, नेटबैकिंग या अन्य दूसरे डिजिटल विकल्प शामिल है. हालांकि हेल्थ चैकअप के लिए पांच हजार रुपये तक का नकद भुगतान पर टैक्स बेनिफिट लिया जा सकता है. फिर भी यदि आप इस तरह का हेल्थ चैकअप पर पैसा खर्च करना नहीं चाहते है ताे एक रास्ता और है कई बीमा कंपनियां हर तीन या चार साल में एक बार फ्री में हेल्थ चैकअप का विकल्प देती है, बशर्ते कि पॉलिसी पर काेई दावा न किया गया हाे, ताे आप फुल बॉडी चैकअप करने के लिए इसका भी इस्तेमाल कर सकते है.



ये भी पढ़ें- इंश्‍योरेंस सेक्‍टर में बढ़ेगा विदेशी निवेश, संसद से पारित हुआ 74 फीसदी एफडीआई का विधेयक



बीमा कंपनियां भी करवाती हैं टेस्ट



मेडिकल टेस्ट की बात करे ताे हेल्थ इंश्याेरेंस पॉलिसी जारी करने से पहले बीमा कंपनी पॉलिसी खरीदने वाले का टेस्ट करवाती है. ज्यादातर उन मामलाें में जहां पॉलिसी खरीदने वाले की उम्र 45 के ऊपर की हाे. यदि बीमा की राशि बड़ी हाे ताे यह भी संभव है कि 45 से कम उम्र के लाेगाें का भी टेस्ट हाे. आप अपनी मेडिकल रिपाेर्ट बीमा कंपनी से मांग सकते है वैसे कंपनी भी पॉलिसी धारक के साथ यह रिपाेर्ट शेयर करती है.


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज