अल्ट्रा लो कॉस्ट के मॉडल पर दांव लगा रही है GoAir, कंपनी ने बनाई विस्तार की योजना

एविएशन सेक्टर की दिग्गज कंपनी गोएयर

एविएशन सेक्टर की दिग्गज कंपनी गोएयर

गोएयर के सीईओ कौशिक खोना ने कहा ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि यूएलसीसी (Ultra Low Cost Carrier) मॉडल गोएयर के लिए विशिष्ट ग्रोथ रूट तैयार करेगा.

  • Share this:
नई दिल्ली. एयरलाइन सेक्टर कोरोना वायरस (Coronavirus) की दूसरी लहर से जूझ रहा है. वहीं इसके बीच बजट एयरलाइन गोएयर (GoAir) नेटवर्क और अपने विमानों के बेड़े में बड़े विस्तार की योजना बनाई है. एयरलाइन अब अल्ट्रा लो कॉस्ट के विमानन मॉडल पर दांव लगाने जा रही है. गोएयर बाजार में उन कुछ भारतीय एयरलाइंस में हैं, जो मुनाफा कमा रही हैं.

गोएयर के सीईओ कौशिक खोना ने कहा, ''हालांकि, क्षेत्र के समक्ष कुछ अस्थायी दिक्कतें आ रही है, लेकिन गोएयर में हमारा मानना है कि एयरलाइन अपने विरासत वाले अल्ट्रा लो कॉस्ट के ढांचे के साथ विशिष्ट स्थिति में है. इसकी वजह से हम हमेशा टिके रहे हैं.''

मार्च में कंपनी के प्रबंधन से हट गए थे जेह वाडिया

मार्च में एयरलाइन के प्रमोटर फैमिली के जेह वाडिया (Jeh Wadia) कंपनी के प्रबंधन से हट गए थे. एयरलाइन ने बेन बाल्डान्जा (Ben Baldanza) को प्रमोट कर वाइस चेयरमैन नियुक्त करने की घोषणा की थी. ग्लोबल एयरलाइन प्रोफेशनल बाल्डांजा को अमेरिका में स्पिरिट एयरलाइंस के रिकवरी का श्रेय दिया जाता है.
विस्तार के लिए फंड भी जुटा रही है कंपनी

इस तरह की भी चर्चाएं हैं कि गोएयर अपने विस्तार के लिए फंड भी जुटा रही है. खोना ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि यूएलसीसी (Ultra Low Cost Carrier) मॉडल गोएयर के लिए विशिष्ट ग्रोथ रूट तैयार करेगा.

उन्होंने कहा, ''इन सबसे हमें अपने परिचालन को सुगम और कुल लागत ढांचे को निचले स्तर पर रखने में मदद मिलती है. इसमें पायलटों और इंजीनियरिंग टीमों के लिए साझा कौशल सेट की जरूरत होती है.'' खोना ने कहा कि भारतीय विमानन बाजार का अभी पूरा दोहन नहीं हुआ है. उन्होंने कहा कि एक बार महामारी समाप्त होने के बाद इसमें भारी मांग देखने को मिलेगी.



ये भी पढ़ें- Covid-19: स्टील कंपनियों ने पिछले साल सितंबर से अब तक 1.43 लाख मीट्रिक टन मेडिकल ऑक्सीजन की सप्लाई की

उन्होंने कहा, ‘‘हम बड़ी संख्या में पहली बार उड़ान भरने वालों और गैर-बिजनेस श्रेणी के यात्रियों की मांग पूरी करते हैं. छोटे शहरों से हमें मजबूत वृद्धि देखने को मिल रही है. इन शहरों से लोग रेलवे की तुलना में कम समय में यात्रा पूरी करना चाहते हैं. इसके अलावा महामारी के बाद लोगों की थोड़े समय के लिए छुट्टियां बिताने की मांग भी बढ़ेगी.''
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज