FMCG सेक्टर में सबसे ज्यादा सैलरी पाने वाले हैं ये शख्स, देखें टॉप 10 सीईओ की लिस्ट

गोदरेज कंज्यूमर प्रॉडक्ट्स (Godrej Consumer Products) के मैनेजिंग डायरेक्ट (MD) और चीफ एक्सक्यूटिव ऑफिसर (CEO) विवेक गंभीर को पिछले साल 20.09 करोड़ रुपये का मेहनताना मिला.

पीटीआई
Updated: August 12, 2019, 2:46 PM IST
FMCG सेक्टर में सबसे ज्यादा सैलरी पाने वाले हैं ये शख्स, देखें टॉप 10 सीईओ की लिस्ट
FMCG सेक्टर में ये 10 CEO पाते हैं सबसे ज्यादा सैलरी
पीटीआई
Updated: August 12, 2019, 2:46 PM IST
गोदरेज कंज्यूमर प्रॉडक्ट्स (Godrej Consumer Products) के मैनेजिंग डायरेक्ट (MD) और चीफ एक्सक्यूटिव ऑफिसर (CEO) विवेक गंभीर को पिछले साल 20.09 करोड़ रुपये का मेहनताना मिला. इस लिहाज से वह FMCG क्षेत्र में सबसे अधिक वेतन पाने वाले एक्सक्यूटिव रहे. हिन्दुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड (HUL) के संजीव मेहता को 18.88 करोड़ रुपये बतौर मेहनताना मिला. वह इस सूची में दूसरे स्थान पर रहे.

देश की टॉप FMCG कंपनियां
रोजमर्रा के इस्तेमाल का सामान बनाने वाली हिन्दुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड (HUL), नेस्ले इंडिया (Nestle India), गोदरेज कंज्यूमर प्रॉडक्ट्स लिमिटेड (GCPL), डाबर (Dabur), मैरिको (Marico) और इमामी (Emami) देश की प्रमुख FMCG कंपनियां हैं.

ये भी पढ़ें: फार्मा इंडस्ट्री में सर्वाधिक मेहनताना पाने वाले हैं ये शख्स

कौन-किस पायदान पर रहे
>> नेस्ले इंडिया (Nestle India) के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक सुरेश नारायणन 11.09 करोड़ रुपये के मेहनताना के साथ इस सूची में तीसरे स्थान पर रहे. नेस्ले इंडिया जनवरी से दिसंबर वित्त वर्ष का पालन करता है.

>> डाबर इंडिया (Dabur India) के पूर्णकालिक निदेशक पीडी नारंग 10.77 करोड़ रुपये के वेतन के साथ चौथे स्थान पर रहे. उनका वेतन कंपनी के पूर्व सीईओ सुनील दुग्गल से थोड़ा ही ज्यादा रहा, जो वित्त वर्ष 2018-19 के आखिर में सेवानिवृत्त हुए. दुग्गल को 10.74 करोड़ रुपये का वेतन मिला.
Loading...

>> मैरिको लिमिटेड (Marico) के प्रबंध निदेशक और सीईओ सौगत गुप्ता को वित्त वर्ष 2018-19 में 9.21 करोड़ रुपये का वेतन मिला. वह इस सूची में छठें स्थान पर रहे.

>> जीएसपीएल (GCPL) की कार्यकारी चेयरमैन निसाबा गोदरेज को 6.87 करोड़ रुपये का मेहनताना मिला.
कोलकाता की इमामी लिमिटेड (Emami Ltd) के एक्सक्यूटिव चेयरमैन आरएस अग्रवाल और पूर्णकालिक निदेशक आरएस गोयनका को पिछले साल 6.54-6.54 करोड़ रुपये का वेतन मिला.

फार्मा इंडस्ट्री में सबसे ज्यादा मेहनताना पाते हैं ये शख्स
डिविस लैबोरेटरीज (Divis Labs) के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर मुरली के. डिवी को 2018-19 में वेतन और कमिशन समेत कुल 58.80 करोड़ रुपये का पारिश्रमिक (Remuneration) दिया गया. यह भारतीय दवा कंपनियों (Indian pharmaceutical industry) में किसी भी कार्यकारी को मिला सर्वाधिक मेहनताना है. कंपनी की वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार मुरली के पारिश्रमिक में पिछले साल की तुलना में 46.30 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है.

ये भी पढ़ें: Reliance AGM 2019: अगले 18 महीने में कर्जमुक्त कंपनी होगी रिलायंस इंडस्ट्रीज
First published: August 12, 2019, 2:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...