• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • घर बैठे लोगों ने 1 साल में Gold से ऐसे की जमकर कमाई, आप भी पाएं मोटा मुनाफा

घर बैठे लोगों ने 1 साल में Gold से ऐसे की जमकर कमाई, आप भी पाएं मोटा मुनाफा

बैंकों ने सस्ता किया गोल्ड लोन जानिए क्यों Gold Loan को बढ़ावा दे रहे हैं बैंक

पिछले एक साल के दौरान गोल्ड ETF में 1600 करोड़ रुपये का इन्वेस्टमेंट हुआ है, जोकि बीते 6 साल का रिकॉर्ड स्तर है. कोरोना वायरस की वजह से गोल्ड ETF में इन्वेस्टमें सबसे सुरक्षित विकल्पों में से एक है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. वित्त वर्ष 2019-20 में इन्वेस्टर्स ने गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (Gold ETF) में 1,600 करोड़ रुपये का निवेश किया है. इसके पहले लगातार 6 साल तक इन्वेस्टर्स ETF में निवेश कम कर रहे थे. कोरोना वायरस आउटब्रेक (Coronavirus Outbreak) को लेकर वैश्विक अर्थव्यवस्था और मार्केट को तगड़ा झटका लगने का डर सता रहा है. बता दें कि गोल्ड ETF म्यूचुअल फंड का ही एक प्रकार है, जो सोने में निवेश करता है. इस म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) योजना की यूनिट्स स्टॉक एक्सचेंज में लिस्ट होती हैं.

    इसके साथ ही मार्च 2020 तक गोल्ड फंड्स एसेट अंडर मैनेजमेंट (AUM) में 79 फीसदी का इजाफा हुआ है और यह 7,949 करोड़ रुपये के स्तर पर पहुंच गया है. इसके पहले यह 4,447 करोड़ रुपये ही था. यह एसोसिएशन आफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया के आंकड़ो से पता चलता है.

    एक साल में 1613 करोड़ रुपये का इन्वेस्टमेंट
    पिछले एक साल के दौरान, रिटेट इन्वेस्टर्स ने गोल्ड ETF की तुलना में इक्विटी में अधिक निवेश किया है. इस दौरान उन्हें ​इक्विटी में बेहतर रिटर्न मिला है. डेटा के अनुसार, पिछले वित्त वर्ष में इन्वेस्टर्स ने 14 गोल्ड लिंक्ड ETF में 1,613 करोड़ रुपये का इन्वेस्टमेंट किया है. इसके उलट वित्त वर्ष 2018-19 में उन्होंने 412 करोड़ रुपये की निकासी की थी.

    यह भी पढ़ें: कोरोना से लगेगा बड़ा झटका, गरीबी घटाने का फायदा गंवा देगा द. एशिया- विश्व बैंक

    क्या रहा पिछले 6 साल का हाल?
    अन्य वित्त वर्ष में देखें तो 2017-18 के दौरान 835 करोड़ रुपये, 2016-17 के दौरान 775 करोड़ रुपये, 2015-16 के दौरान 903 करोड़ रुपये, 2014-15 में 1,45 करोड़ रुपये और 2013-14 के दौरान ने 2,293 करोड़ रुपये की निकासी की गई थी. जानकारों का मानना है कि कोरोना वायरस महामारी के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए इन्वेस्टर्स ने सोना में निवेश करना बेहतर विकल्प समझा है.

    फरवरी 2020 में रिकॉर्ड इन्वेस्टमेंट
    हाल के दिनों यह इन्वेस्टमेंट एक ऐसे दौर में बढ़ा है, जब ब्रॉडर मार्केट में भारी बिकवाली देखने को मिल रही है और अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में लगातार गिरावट का दौर जारी है. जनवरी के बाद से ही गोल्ड ETF में सबसे अधिक निवेश देखने को मिला है. जनवरी में यह आंकड़ा 202 करोड़ रुपये का रहा, जोकि पिछले 7 साल का उच्चतम स्तर है. वहीं, फरवरी में 1,483 करोड़ रुपये का इन्वेस्टमेंट हुआ. फरवरी महीने में यह अब तक का सबसे अधिक इन्वेस्टमेंट है. हालांकि, प्रॉफिट बुकिंग की वजह मार्च के दौरान इसमें 195 करोड़ रुपये आउटफ्लो भी देखने को मिला है.

    यह भी पढ़ें: PPF और सुकन्या समृद्धि अकाउंट पर सरकार की राहत, लेकिन इन बातों का रखें ध्यान

    गोल्ड ईटीएफ में आप कैसे निवेश कर सकते हैं?
    इसके लिए आपको किसी शेयर ब्रोकर के पास अपना ट्रेडिंग और डीमैट अकाउंट खुलवाना होगा. आप इन्हें लम्प-सम या सिस्टमैटिक इनवेस्टमेंट प्लान (SIP) द्वारा नियमित अंतराल से भी खरीद सकते हैं. आप एक ग्राम सोना भी खरीद सकते हैं. इस तरह बाजार को ज्यादा समय देने के बजाय सिस्टमैटिक तरीके से निवेश करें.

    किसी शेयर ब्रोकर के पास अपना ट्रेडिंग और डीमैट अकाउंट खुलवाएं.अपने लॉगिन आईडी और पासवर्ड से ब्रोकर के ऑनलाइन पोर्टल पर लॉगिन करें.गोल्ड ईटीएफ चुनें जिसे आप खरीदना चाहते हैं. जितनी यूनिट आप खरीदना चाहते हैं उतनी गोल्ड ईटीएफ यूनिट्स के लिए अपना पर्चेज ऑर्डर दें. आपके खाते से पैसा कट जाएगा.ट्रेड करने वाले दिन या अगले दिन यूनिट्स आपके डिमेट अकाउंट में क्रेडिट हो जाएंगी.

    यह भी पढ़ें: EPFO ने सब्सक्राइबर्स को भेजे SMS, PF से पैसा निकालना है तो करें ये काम

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन