होम /न्यूज /व्यवसाय /

Gold ETFs : डगमगाया निवेशकों का विश्‍वास, जुलाई में 457 करोड़ रुपये की हुई निकासी

Gold ETFs : डगमगाया निवेशकों का विश्‍वास, जुलाई में 457 करोड़ रुपये की हुई निकासी

जून, 2022 में ईटीएफ में 135 करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश आया था.

जून, 2022 में ईटीएफ में 135 करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश आया था.

जुलाई, 2022 में गोल्ड ईटीएफ (Gold ETFs) का AUM घटकर 20,038 करोड़ रुपये रह गया है, जो जून में 20,249 करोड़ रुपये थीं. हालांकि इस अवधि में फोलियो की संख्या 37,500 बढ़कर 46.43 लाख पर पहुंच गई. इसे बाजार जानकार अच्‍छा संकेत मानते हैं.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

सोने को शेयरों की तरह खरीदने की सुविधा को गोल्ड ईटीएफ कहते हैं.
इसे बेचने पर निवेशक को सोना नहीं बल्कि उस समय के बाजार मूल्य के बराबर राशि मिलती है.
पिछले महीने निवेशकों ने ईटीएफ से 457 करोड़ रुपये की निकासी की है.

नई दिल्‍ली. गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) के लिए जुलाई का महीना शुभ नहीं रहा है. एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया के आंकड़ों से सामने आया है कि पिछले महीने निवेशकों ने ईटीएफ से 457 करोड़ रुपये की निकासी की है. बाजार जानकारों का कहना है कि सोने की कीमतों में गिरावट के कारण निवेशकों ने गोल्‍ड ईटीएफ से पैसा निकालकर अन्‍य एसेट क्‍लास में लगाया है और अपने पोर्टफोलियो को रिबैलेंस किया है. जून, 2022 में ईटीएफ में 135 करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश आया था.

इस निकासी के साथ गोल्ड ईटीएफ में प्रबंधन के तहत परिसंपत्तियां (AUM) घटकर 20,038 करोड़ रुपये रह गया है. यह जून में 20,249 करोड़ रुपये था. हालांकि इस अवधि में फोलियो की संख्या 37,500 बढ़कर 46.43 लाख पर पहुंच गई. एलएक्‍सएमई की फाउंडर प्रीति राठी का कहना है कि निवेशकों ने गोल्‍ड ईटीएफ से पैसा निकालकर अन्‍य एसेट में लगाया है. यह निवेशकों ने पोर्टफोलियो रिबैलेंसिंग रणनीति के तहत किया है.

ये भी पढ़ें-  Hybrid Mutual Funds : 3 फंड्स ने 15 साल में किया निवेशकों को मालामाल, बाजार में अस्थिरता पर भी नहीं घटा रिटर्न

यह है निकासी का कारण
मनीकंट्रोल की एक रिपोर्ट के अनुसार, मॉर्निंगस्टार इंडिया में वरिष्ठ विश्लेषक कविता कृष्णन ने कहा कि बढ़ती ब्याज दरों के कारण पीली धातु की कीमतों में गिरावट के कारण गोल्ड ईटीएफ से निवेशकों ने निकासी की है. उन्होंने कहा कि रुपये में गिरावट ने भी सोने की मांग और आपूर्ति को प्रभावित किया है. यह प्रवृत्ति वैश्विक स्तर पर भी देखी गई है, जिसमें सोने की कम कीमतों के कारण गोल्ड ईटीएफ में निवेशकों ने निकासी की है.

कविता का कहना है कि जुलाई में भारी निकासी के कारण गोल्ड ईटीएफ का AUM घटकर 20,038 करोड़ रुपये रह लेकिन फोलियो की संख्या में बढ़ोतरी हुई है. यह वृद्धि इस बात का संकेत हैं कि निवेशक अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाने और बाजार के जोखिमों से बचाव के साधन के रूप में गोल्ड ईटीएफ में निवेश जारी रख सकते हैं.

ये भी पढ़ें-  NPS : अब टियर-II अकाउंट में आप नहीं कर पाएंगे क्रेडिट कार्ड से पेमेंट, जानिए PFRDA ने क्‍यों लगाई रोक?

क्‍या है गोल्ड ईटीएफ?
सोने को शेयरों की तरह खरीदने की सुविधा को गोल्ड ईटीएफ कहते हैं. इसमें सोने की खरीद यूनिट में की जाती है. इसे बेचने पर निवेशक को सोना नहीं बल्कि उस समय के बाजार मूल्य के बराबर राशि मिलती है. यह सोने में निवेश के सबसे सस्ते विकल्पों में से एक है.

Tags: Business news, Gold, Gold ETF

अगली ख़बर