लाइव टीवी

जनवरी में निवेशकों ने Gold ETFs में लगाए ₹200 करोड़, 7 साल में सबसे ज्यादा

भाषा
Updated: February 11, 2020, 4:06 PM IST
जनवरी में निवेशकों ने Gold ETFs में लगाए ₹200 करोड़, 7 साल में सबसे ज्यादा
सात साल का सबसे ऊंचा स्तर

दुनिया के विभिन्न हिस्सों में उभरे भू-राजनीतिक तनाव (Geopolitical Tensions) और वैश्विक अर्थव्यवस्था में सुस्ती (Slowdown in Global Economy) को देखते हुये निवेशक सुरक्षित विकल्पों की ओर रुख कर रहे हैं. यह लगातार तीसरा महीना रहा जबकि Gold ETFs में नेट निवेश आया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (Gold ETFs) में जनवरी में नेट निवेश 200 करोड़ रुपये रहा है. यह सात साल का सबसे ऊंचा स्तर है. दुनिया के विभिन्न हिस्सों में उभरे भू-राजनीतिक तनाव (Geopolitical Tensions) और वैश्विक अर्थव्यवस्था में सुस्ती (Slowdown in Global Economy) को देखते हुये निवेशक सुरक्षित विकल्पों की ओर रुख कर रहे हैं. यह लगातार तीसरा महीना रहा जबकि Gold ETFs में नेट निवेश आया है.

सात साल का सबसे ऊंचा स्तर
एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (Amfi) के आंकड़ों के अनुसार जनवरी में गोल्ड ईटीएफ में 202 करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश हुआ. इससे पिछले महीने यह निवेश 27 करोड़ रुपये रहा था. नवंबर में इसमें 7.68 करोड़ रुपये का निवेश हुआ था. हालांकि, अक्टूबर में स्वर्ण ईटीएफ से 31.45 करोड़ रुपये की निकासी की गई थी. सितंबर में इन कोषों में 44 करोड़ रुपये और अगस्त में 145 करोड़ रुपये का निवेश हुआ था. गोल्ड ईटीएफ में ताजा मासिक निवेश दिसंबर, 2012 के बाद का सबसे ऊंचा स्तर है. उस समय इसमें 474 करोड़ रुपये का निवेश हुआ था. ये भी पढ़ें: ATM मशीन में अटक गया है डेबिट कार्ड, वापस पाने का है ये आसान तरीका



मॉर्निंगस्टार इन्वेस्टमेंट एडवाइजर इंडिया के वरिष्ठ शोध विश्लेषक हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा, Gold ETFs में जनवरी में निवेश का प्रवाह काफी मजबूत रहा. दिसंबर के 27 करोड़ रुपये की तुलना में यह काफी अधिक है. दुनिया के विभिन्न हिस्सों में जियोपॉलिटिकल टेंशन और वैश्विक अर्थव्यवस्था में सुस्ती की वजह से निवेशक सोने जैसे निवेश के सुरक्षित विकल्पों की ओर रुख कर रहे हैं.

क्या है गोल्ड ईटीएफ?
सोने को शेयरों की तरह खरीदने की सुविधा को गोल्ड ईटीएफ कहते हैं. यह म्यूचुअल फंड की स्कीम है. इसमें सोने की खरीद यूनिट में की जाती है. इसे बेचने पर आपको सोना नहीं बल्कि उस समय के बाजार मूल्य के बराबर राशि मिलती है. यह सोने में निवेश के सबसे सस्ते विकल्पों में से एक है. इसकी खरीद यूनिट में की जाती है. आमतौर पर ईटीएफ के लिए डीमैट खाता जरूरी होता है. ये भी पढ़ें: 1 अप्रैल से बदलेगा इन 3 बैंकों का नाम, जानिए आपके खाते और पैसे का क्या होगा?

कभी भी बेचने की सुविधा
शेयरों की तरह बेचने की सुविधा की वजह से जरूरत पड़ने पर किसी भी कारोबारी दिन इसे बेच सकते हैं. यह ज्वैलरी में निवेश करने की बजाय गोल्ड ईटीएफ में निवेश ज्यादा फायदेमंद है. गोल्ड ईटीएफ में रख-रखाव शुल्क कम है.

ये भी पढ़ें: इन बैंकों में FD कराने पर सबसे फास्ट होगा आपका पैसा डबल, 9% ब्याज पाने का मौका

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 11, 2020, 4:06 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर