लाइव टीवी

भारत में घटी गोल्ड की मांग, 10 महीने में सोने का आयात 9 फीसदी घटा

भाषा
Updated: February 16, 2020, 3:04 PM IST
भारत में घटी गोल्ड की मांग, 10 महीने में सोने का आयात 9 फीसदी घटा
सोने का आयात घटा

Gold Import: सोने के आयात में पिछले साल जुलाई से ही गिरावट दर्ज की जा रही है. हालांकि पिछले साल अक्टूबर और नवंबर में इसमें सकारात्मक वृद्धि हुई. वहीं दिसंबर में करीब 4 प्रतिशत और इस साल जनवरी में 31.5 प्रतिशत की गिरावट आयी.

  • Share this:
नई दिल्ली. देश में सोने का आयात (Gold Import) चालू वित्त वर्ष में अप्रैल-जनवरी (April-January) के दौरान करीब 9 फीसदी घटकर 24.64 अरब डॉलर (1.74 लाख करोड़ रुपये) रहा. वाणिज्य मंत्रालय (Commerce Ministry) के आंकड़े के अनुसार इससे पूर्व वित्त वर्ष (Financial Year) 2018-19 की इसी अवधि में मूल्यवान धातु (Precious Metal) का आयात 27 अरब डॉलर था. सोने (Gold) के आयात में कमी से देश का व्यापार घाटा (Trade deficit) कम होकर अप्रैल-जनवरी अवधि में 133.27 अरब डॉलर रहा जबकि एक साल पहले इसी अवधि में यह 163.27 अरब डॉलर था. पीली धातु के आयात में पिछले साल जुलाई से ही गिरावट दर्ज की जा रही है. हालांकि पिछले साल अक्टूबर और नवंबर में इसमें सकारात्मक वृद्धि हुई. वहीं दिसंबर में करीब 4 प्रतिशत और इस साल जनवरी में 31.5 प्रतिशत की गिरावट आयी.

भारत सोने का सबसे बड़ा इम्पोर्टर
भारत सोने का सबसे बड़ा आयातक है. मुख्य रूप से आभूषण उद्योग की मांग को पूरा करने के लिये इसका आयात किया जाता है. मात्रा के हिसाब से देश में सालाना 800 से 900 टन सोने का आयात होता है. सोने के आयात का व्यापार घाटा और चालू खाते के घाटे पर नकारात्मक प्रभाव को कम करने के लिये सरकार ने धातु पर आयात शुल्क 10 प्रतिशत से बढ़ाकर 12.5 प्रतिशत कर दिया है. ये भी पढ़ें: FASTag के लिए अपने पैसे नहीं करने होंगे खर्च, 29 फरवरी तक यहां मिल रहा मुफ्त





10 महीने में 9 फीसदी घटा इम्पोर्ट
उद्योग विशेषज्ञों का दावा है कि इस क्षेत्र में काम कर रही इकाइयां उच्च शुल्क के कारण अपना विनिर्माण आधार पड़ोसी देश में स्थापित कर रहे हैं. रत्न एवं आभूषण निर्यात चालू वित्त वर्ष में अप्रैल-जनवरी के दौरान 1.45 प्रतिशत घटकर 25.11 अरब डॉलर रहा. देश का सोने का आयात 2018-19 में करीब 3 प्रतिशत घटकर 32.8 अरब डॉलर रहा.

रिजर्व बैंक के आंकड़े के अनुसार चालू खाते का घाटा मौजूदा वित्त वर्ष में जुलाई-सितंबर के दौरान घटकर सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का 0.9 प्रतिशत यानी 6.3 अरब डॉलर रहा. एक साल पहले इसी अवधि में यह जीडीपी का 2.9 प्रतिशत या 19 अरब डॉलर था. ये भी पढ़ें: इन बैंकों में है सेविंग अकाउंट तो हो जाएं खुश! मिल रहा है 7 फीसदी ब्याज



रत्न एवं आभूषण निर्यात संवर्द्धन परिषद के आंकड़े के अनुसार बिना तराशे यानी कच्चे हीरों का आयात चालू वित्त वर्ष में अप्रैल-जनवरी के दौरान 15.54 प्रतिशत घटकर 11 अरब डॉलर रहा. हालांकि सोने की छड़ों का आयात आलोच्य अवधि में 3.56 प्रतिशत बढ़कर 6.6 अरब डॉलर रहा.

यह भी पढ़ें:

बहुत सारे नोट छापकर RBI क्यों नहीं बना सकता भारत के हर नागरिक को करोड़पति! अर्थशास्त्रियों ने दिए ये जवाब

अप्रैल से सुकन्या और PPF खाते को लेकर होगा बड़ा बदलाव! अब भी नहीं चुकाना होगा इन 9 आय पर टैक्स
तीसरी प्राइवेट ट्रेन काशी महाकाल एक्सप्रेस- कराएगी तीन ज्योतिर्लिंगों के दर्शन, जानिए रूट और किराए के बारे में...
Loan लेना चाहते हैं तो जान लें ये जरूरी बातें, बैंक हो या नान-बैंकिंग कंपनी, फटाफट करेंगे अप्रुव

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 16, 2020, 3:01 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर