होम /न्यूज /व्यवसाय /कर्ज का जंजाल नहीं पूंजी का बेहतरीन जरिया बन सकता है गोल्ड लोन, बस इस गलती से बचें

कर्ज का जंजाल नहीं पूंजी का बेहतरीन जरिया बन सकता है गोल्ड लोन, बस इस गलती से बचें

भारत में 2/3 गोल्ड लोन असंगठित क्षेत्र में दिया जाता है. (फोटो- न्यूज18)

भारत में 2/3 गोल्ड लोन असंगठित क्षेत्र में दिया जाता है. (फोटो- न्यूज18)

आईआईएम, अहमदाबाद के इंडिया गोल्ड पॉलिसी सेंटर के एक सर्वे में यह सामने आया था कि भारत में सबसे ज्यादा गोल्ड 2-10 लाख की ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

सोना भारतीय घरों में लंबे समय से एसेट के रूप में देखा जाता रहा है.
भारत में लोगों के पास करीब $1.5 ट्रिलियन का गोल्ड होने की संभावना है.
सोने पर ऋण भी काफी पुराने समय से चला आ रहा है.

नई दिल्ली. सोने को भारतीय घरों में हमेशा से विशेष स्थान दिया गया है. इसकी सीमित मात्रा, मजबूती और सुंदरता ने कई सालों से इसे संपन्नता के प्रतीक रूप में पेश किया है. इतना ही सोना भारतीय घरों में मुसीबत के समय पूंजी जुटाने का भी एक बेहतरीन तरीका होता है. सोने पर कर्ज कई सैकड़ों सालों से चला आ रहा है. हालांकि, असंगठित क्षेत्र होने और कोई रेगुलेशन नहीं होने के कारण इसका नाजायज लाभ भी उठाया गया है.

समय में बदलाव के साथ यह स्थिति भी बदली और अब सोने पर कर्ज लेना पहले से अधिक सुरक्षित है. असंगठित क्षेत्र में कुछ बहुत बड़ी समस्याएं थी जिन्हें संगठित क्षेत्र ने खत्म कर दिया है. मसलन, सोने से लिए कर्ज पर मनमाने ब्याज, उसके भुगतान के लिए आजमाए जाने वाले हथकंडे और संदेह कि क्या कर्जदार को दोबारा वहीं सोना वापस मिलेगा जो उसने गिरवी रखते समय दिया था. वहीं, अब कागजी कार्यवाहियों, रेगुलेशन, निगरानी और तय ब्याज दरों ने इन परेशानियों को खत्म कर दिया है.

ये भी पढ़ें- महंगाई के दौर में ‘बिस्कुट’ का सहारा! बिगड़ने लगा खान-पान का बजट तो तेजी से बढ़ी बिस्किट की ब्रिकी, इन आंकड़ों ने चौंकाया

मध्यम वर्ग के सबसे बड़ा उपभोक्ता

आईआईएम, अहमदाबाद के इंडिया गोल्ड पॉलिसी सेंटर के एक सर्वे में यह सामने आया था कि भारत में सबसे ज्यादा गोल्ड 2-10 लाख की सालाना इनकम वाले परिवारों द्वारा खरीदा जाता है. बीते 5 वर्षों में देश में सोने की कुल खपत का औसतन 56 फीसदी इसी वर्ग में गया है. भारत में 75 फीसदी से अधिक परिवार किसी न किसी तरह से सोने को अपने पास रखने के पक्ष में हैं. वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल के अनुसार, भारत में लोगों के पास कुल 1.5 लाख करोड़ डॉलर का सोना हो सकता है.

असंगठित क्षेत्र का वर्चस्व

गोल्ड लोन देने के लिए कई संस्थान आ गए हैं. केवल बैंक ही नहीं कई गैर-बैकिंग वित्तीय संस्थान भी गोल्ड लोन दे रहे हैं. हालांकि, इसके बावजूद लोगों का असंगठित क्षेत्र से मोह कम नहीं हुआ है. अभी गोल्ड पर जितना लोन दिया जा रहा है उसका 2/3 हिस्सा असंगठित क्षेत्र से है. केपीएमजी के अनुसार, 2019 में गोल्ड लोन का केवल 5.5 हिस्सा संगठित क्षेत्र के पास था.

संगठित क्षेत्र का लाभ उठाएं

जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया कि असंगठित क्षेत्र में ऊंच ब्याज दरें, अविश्वसनीयता और पारदर्शिता की कमी है. वहां, भले ही आपको जल्द लोन मिल जाए या कागजी कार्यवाही कम हो लेकिन लंबी अवधि में आपके कर्ज के जाल में फंसने की अधिक आशंका रहती है. वहीं, दूसरी ओर संगठित क्षेत्र में कागजी कार्यवाही शायद थोड़ी अधिक होगी, लेकिन आपके सोने के साथ छेड़छाड़ की आशंका बहुत कम है. इसके अलावा आपसे मनमानी ब्याज दरें नहीं ली जाएंगी और न ही भुगतान के निपटारे के लिए गैर-कानूनी तरीकों का इस्तेमाल किया जाएगा.

Tags: Business news, Gold, Gold Loan

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें