RBI की आम आदमी को बड़ी राहत! अब गोल्‍ड पर 90% तक मिलेगा लोन, जानें कैसे करें अप्‍लाई

RBI की आम आदमी को बड़ी राहत! अब गोल्‍ड पर 90% तक मिलेगा लोन, जानें कैसे करें अप्‍लाई
आरबीआई ने आम आदमी और छोटे कारोबारियों को राहत देते हुए गोल्‍ड ज्‍वेलरी पर लोन वैल्‍यू को 90 फीसदी तक बढ़ा दिया है.

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने कोरोना संकट के बीच आम आदमी को बड़ी राहत देते हुए गोल्ड ज्वेलरी पर लोन वैल्यू (Gold Loan) बढ़ाकर 90 फीसदी तक कर दी है. आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास (Shaktikanta Das) ने बताया कि का यह नियम 31 मार्च 2021 तक प्रभावी रहेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 8, 2020, 7:30 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना संकट के बीच रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने आम आदमी और छोटे कारोबारियों को बड़ी राहत देते हुए गोल्ड ज्वेलरी पर लोन वैल्यू बढ़ा दी है. अब कोई भी व्‍यक्ति जरूरत महसूस होने पर अपने घर या बैंक के लॉकर में पड़ी गोल्‍ड ज्‍वेलरी की कीमत के 90 फीसदी तक लोन (Gold Loan) ले सकता है. इससे पहले तक आपकी गोल्ड ज्‍वेलरी की अधिकतम 75 फीसदी कीमत के बराबर लोन लेने का नियम था. बता दें किआरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास (Shaktikanta Das) ने बृहस्‍पतिवार को मौद्रिक नीति का ऐलान करते हुए बताया कि नया नियम 31 मार्च 2021 तक प्रभावी रहेगा.

बैंक मौजूदा माहौल में ज्‍यादा सुरक्षित मान रहे गोल्‍ड लोन
कोरोना संकट के बीच बैंकों में गोल्ड आधारित लोन ज्‍यादा लोकप्रिय हुआ है. दरअसल, बैंक मौजूदा माहौल में गोल्‍ड आधारित लोन को ज्‍यादा सुरक्षित मान रहे हैं. रिजर्व बैंक का कहना है कि चालू वित्त वर्ष के दौरान आर्थिक विकास दर में गिरावट आ सकती है, क्योंकि महामारी के चलते दुनियाभर में कारोबारी गतिविधियां बुरी तरह प्रभावित हुई हैं. इस बात को लेकर चिंता भी बढ़ी है कि लोगों को बिजनेस और पर्सनल लोन के भुगतान में दिक्कतें आएंगी. ऐसे में गोल्ड लोन कंपनियों के अलावा कई सरकारी और निजी बैंक ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए गोल्ड लोन की पेशकश कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें- RBI का आदेश- बैंक खाते पर कैश या ओवरड्राफ्ट सर्विस लेने वालों का नहीं खुलेगा करंट अकाउंट
वैश्विक महामारी के असर को देखते हुए लिया फैसला


आरबीआई गवर्नर ने कहा, 'अब तक सोने के आभूषणों पर बैंक गैर-कृषि उद्देश्यों के लिए गोल्ड की कीमत का 75 फीसदी से ज्यादा लोन नहीं दे सकते थे. आम लोगों, उद्यमियों और छोटे कारोबारियों पर वैश्विक महामारी के आर्थिक असर को देखते हुए अब सोने के आभूषणों की कीमत के 90 फीसदी तक लोन देने का नियम बना दिया गया है. आसान शब्‍दों में समझें तो गिरवी रखे जाने वाले गोल्ड पर लोन टू वैल्यू रेश्यो (LTV) मौजूदा 75 फीसदी से बढ़ाकर 90 फीसदी किया गया है. गोल्ड लोन के लिए यह छूट 31 मार्च 2021 तक लागू रहेगी.

ये भी पढ़ें- RBI का बड़ा फैसला! Startups को प्रायॉरिटी सेक्टर लैंडिंग में किया शामिल, आसानी से मिलेगा बैंक लोन

नए नियम से बढ़ेगी बैंक और एनबीएफसी की चिंता
गोल्ड लोन के तहत कोई भी व्‍यक्ति सोने के आभूषण या बुलियन बैंक या नॉन-बैंकिंग फाइनेंस कंपनियों के पास गिरवी रखकर कर्ज हासिल कर सकता है. हालांकि, विशेषज्ञों का कहना है कि आरबीआई के इस फैसले से आम आदमी को राहत जरूर मिलेगी, लेकिन इससे बैंक और एनबीएफसी की चिंता बढ़ेगी. दरअसल, गोल्‍ड क कीमतें इस समय आसमान छू रही हैं. ऐसे में अगर आगे सोने में बड़ी गिरावट हुई तो बैंकों और एनबीएफसी के लिए कर्ज वसूलना फिर मुसीबत बन सकता है. उनके पास गारंटी के तौर पर सिर्फ 10 फीसदी गोल्‍ड ही रह जाएगा.

ये भी पढ़ें- Gold Rate: देश में बिक रहा है अब तक का सबसे महंगा सोना, चांदी 75 हजार रुपये के पार

गोल्‍ड लोन के लिए आय प्रमाण देना जरूरी नहीं
देश का सबसे बड़ा बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) पर्सनल गोल्ड लोन स्कीम के तहत न्यूनतम कागजी कार्रवाई और कम ब्याज दरों के साथ 20 हजार रुपये से लेकर 20 लाख रुपये तक गोल्‍ड लोन दे रहा है. बता दें कि 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी व्यक्ति पर्सनल गोल्ड लोन के लिए आवेदन कर सकते हैं. इस लोन के लिए आय प्रमाण देने की भी जरूरत नहीं है. ग्राहक लिए गए लोन का भुगतान अलग-अलग अवधि में कर सकते हैं. गोल्ड लोन के मूलधन और ब्याज की अदायगी डिस्बर्समेंट के महीने से शुरू हो जाती है. गोल्ड लोन के लिए अप्लाई करते समय दो फोटो, आईडी प्रूफ और एड्रेस प्रूफ देना होता है.

यह भी पढ़ें- बड़ी खबर! RBI ने बदला चेक से पैसों के लेन-देन का सिस्टम, अब लागू होंगे नए नियम

गोल्‍ड लोन के लिए चाहिए होंगे कौन से दस्‍तावेज
गोल्‍ड लोन के लिए अप्‍लाई करने वाले ग्राहक आईडी प्रूफ के तौर पर पैन कार्ड, पासपोर्ट, आधार, ड्राइविंग लाइसेंस या कोई अन्य पहचान पत्र दे सकते हैं. एड्रेस प्रूफ के लिए आपके पास आधार कार्ड, बिजली का बिल, टेलीफोन बिल, पानी का बिल, राशन कार्ड में से कोई भी एक होना चाहिए. कई बैंक आपके हस्ताक्षर की जांच के लिए पासपोर्ट या ड्राइविंग लाइसेंस की मांग कर सकते हैं. इसके साथ ही दो पासपोर्ट साइज फोटो भी जरूरी हैं. अगर कस्टमर अनपढ़ है तो विटनेस लेटर जमा करना होता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज