• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • VIDEO: घर में रखे सोने पर मुनाफा कमाना हुआ और आसान, फटाफट जानें

VIDEO: घर में रखे सोने पर मुनाफा कमाना हुआ और आसान, फटाफट जानें

आप अब अपने घर पर सोने के जरिए ज्यादा मुनाफा कमा सकते हैं. RBI ने इसके लिए बड़ा कदम उठाया है. आइए जानते हैं इसके बारे में...

  • Share this:
    आप अब अपने घर पर सोने के जरिए ज्यादा मुनाफा कमा सकते हैं. दरअसल गोल्‍ड मोनेटाइजेशन स्‍कीम (जीएमएस) को और अधिक आकर्षक बनाने के लिए RBI ( रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया) ने बड़े बदलाव किए हैं. नए बदलाव के तहत अब गोल्‍ड डिपॉजिट अकाउंट खोलना आसान हो गया है. साथ ही, अब बैंक को तय रिटर्न देना ही होगा. आइए जानते हैं और स्कीम में क्या बदलाव किए गए हैं.

    (1) अकाउंट खोलने के नियम आसान- आरबीआई के जारी नोटिफिकेशन में अकाउंट खोलने के नियमों में ढील दी गई है. मतलब साफ है कि अब आप स्कीम में अकाउंट आसानी से खुलवा पाएंगे.

    (2) बैंक को तय रिटर्न देना ही होगा- . रिजर्व बैंक ने एक नोटिफिकेशन में कहा कि शॉर्ट टर्म डिपॉजिट को बैंक की बैलेंस शीट पर लायबिलिटी की तरह माना जाना चाहिए. मतलब साफ है कि आपका मुनाफा पक्का है.

    (3) स्कीम की अवधि अब आप तय कर सकते हैं- नोटिफिकेशन में कहा गया है कि यह डिपॉजिट डेजिग्‍नेटेड बैंकों में एक से तीन साल (रोलओवर सुविधा के साथ) के लिए किया जाएगा. इसके अलावा, डिपॉजिट ब्रोकेन अवधि के लिए यानी 1 साल 3 महीने, 2 साल 4 महीने 5 दिन आदि भी हो सकता है. आरबीआई के अनुसार, ब्रोकेन अवधि के लिए ब्याज दर का आकलन पूरे हुए वर्ष और शेष दिन के लिए देय ब्याज पर तय किया जाएगा. यानी अब पैसे लगाने की अवधि आप तय करेंगे

    इन 10 देशों के पास है सबसे ज्यादा सोना, भारत के पास है इतना


    साल 2015 में शुरू हुई थी
    सरकार ने 2015 में यह स्‍कीम शुरू की थी. इसका मकसद घरों और संस्थानों में रखे सोने को बाहर लाना और उसका बेहतर उपयोग करना है. मिडियम टर्म गवर्नमेंट डिपॉजिट (एमटीजीडी) 5 से 7 साल के लिए और लॉन्‍ग टर्म गवर्नमेंट डिपॉजिट (एलटीजीडी) 12 साल के लिए किया जा सकता है. इस बारे में केंद्र सरकार समय - समय पर फैसला करेगी. इसके अलावा अन्य अवधि (एक साल तीन महीने, दो साल चार महीने पांच दिन आदि) के लिये भी जमा किया जा सकता है.

    ऐसे समझें पूरी स्कीम
    इस स्‍कीम के तहत बैंक कस्‍टमर को घर में पड़े सोने को निश्चित अवधि के लिए जमा कर सकते हैं. इस पर 2.25 से 2.50 फीसदी ब्‍याज मिलता है. इस स्कीम के जरिए अब तक कई लोगों और संस्थानों ने बैंक में सोना जमा किया है. कुछ बड़े मंदिरों ने भी इसके तहत बैंकों में सोना जमा कराया. जैसे, दक्षिण भारत के तिरुमाला तिरुपति देवस्‍थानम मंदिर ने गोल्‍ड मोनेटाइजेशन स्‍कीम के तहत 2780 किलो सोना जमा कराया. आकलन के अनुसार मंदिर को इस योजना में जमा गोल्‍ड के बदले करीब 807 करोड़ रुपए का ब्‍याज हर साल मिलेगा.

    किस बैंक में मिलेगी यह फैसिलिटी
    आरबीआई के तहत नॉमिनेटेड सभी कमर्शियल बैंकों को इस स्कीम को शुरू करने की इजाजत मिली हुई है. आरबीआई के मुताबिक, बैंकों को गोल्ड डिपॉजिट पर खुद ब्याज दरें तय करने की अनुमति दी गई है. मैच्योरिटी पर लोगों के पास यह ऑप्शन होगा कि वे या तो पैसे या फिर अपना सोना वापस ले सकेंगे. यह पेमेंट उस समय सोने की कीमत के मुताबिक होगा. जब आप डिपॉजिट करने जाएंगे, तब आपको यह बता देना होगा कि आप कौन सा ऑप्शन चुनने जा रहे हैं. इसे बाद में बदला नहीं जा सकेगा.

    यह भी पढ़ें
    VIDEO: सोने में पैसा लगाने वालों को अब क्यों नहीं मिल रहा मुनाफा, जानिए इसकी वजहें
    VIDEO: सोने की ज्वैलरी खरीदने पर आपको होता है ये मुनाफा, जानें यहां

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज