लाइव टीवी

घर में रखे आपके सोने को लेकर सरकार कर रही है नई तैयारी! बैंकों को दिया आदेश

News18Hindi
Updated: January 7, 2020, 7:41 PM IST

घरों में पड़े सोने (Gold) को बैंक तक पहुंचाने के लिए मुहिम तेज हो गई है. CNBC-आवाज़ को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक वित्त मंत्रालय (Finance Ministry) ने बैंकों से कहा है कि वो हर तिमाही के हिसाब से टारगेट फिक्स करें कि गोल्ड मोनेटाइजेशन स्कीम (Gold Monetisation Scheme) के तहत कितना सोना ग्राहकों से जमा लेना है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 7, 2020, 7:41 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. घर में रखे आपके सोने (Gold) पर अब बैंकों की नजर रहेगी. घर के सोने के बैंक तक पहुंचाने की मुहिम तेज हो गई है. CNBC-आवाज़ को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक, वित्त मंत्रालय (Finance Ministry) ने बैंकों से कहा है कि वो हर तिमाही के हिसाब से लक्ष्य तय करें कि गोल्ड मोनेटाइजेशन स्कीम (Gold Monetization Scheme) के तहत कितना सोना ग्राहकों से जमा लेना है. वित्त मंत्रालय ने हर तिमाही लक्ष्य तय करने का निर्देश दिया है.

सूत्रों के मुताबिक, इस मुद्दे पर वित्त मंत्रालय में बैंक और गोल्ड सेक्टर (Gold Sector) के लोगों की बैठक हुई है. गोल्ड मोनेटाइजेश स्कीम के लिए खास पोर्टल बनाने की भी योजना है. बैंकों को HNI की पहचान करने के निर्देश दिए गए हैं. बैंकों को स्कीम सफल बनाने के लिए अपने प्लान सौंपने के निर्देश भी दिए गए हैं.

ये भी पढ़ें: सरकार ने IT रिटर्न में किया बड़ा बदलाव, 1 लाख का बिजली बिल भरने वालों को अब नहीं भरना होगा ये फॉर्म

Gold Monetization Scheme
घर के सोने को बैंक तक पहुंचाने की मुहिम तेज


सूत्रों के मुताबिक, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) ने 5 लाख ग्राहकों की पहचान भी की है. मंदिर ट्रस्ट के गोल्ड को स्कीम में लाने पर भी जोर दिया जा रहा है. सूत्रों के मुताबिक FY20 में SBI ने 3.5 टन सोना जमा किया है. FY21 में बैंक ऑफ बड़ौदा (BoB) ने 200 किलो सोना जमा करने का लक्ष्य रखा है. वहीं, आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank) ने 41 किलो सोना जमा कर लिया है.

बता दें कि भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने मोदी सरकार द्वारा 2015 में शुरू की गई गोल्‍ड मोनेटाइजेशन स्‍कीम (Gold Monetisation Scheme) की नियमों में बदलाव किया है. नियमों में बदलाव के बाद जमाकर्ता अपना सोना (Gold) सीधे बैंकों, रिफाइनरों या कलेक्शन और प्योरिटी टेस्टिंग सेंटर (CPTCs) में जमा कर सकते हैं. फिलहाल, इस स्कीम में BIS द्वारा प्रमाणित CPTCs में पहले ग्राहकों को सबसे पहले पहुंचना पड़ता है.

CPTCs देते हैं सोने की शुद्धता का सर्टिफिकेटबैंकों को सोने की शुद्धता की जांच के केंद्रों (CPTCs) के साथ व्यवहार में कुछ दिक्कतें आ रही थीं. बैंक CPTCs की विश्वसनीयता को लेकर सवाल उठाते रहे हैं. CPTCs सोना इकट्ठा कर शुद्धता की जांच करते हैं. इसके बाद उपभोक्ताओं को उनके सोने के लिए शुद्धता का सर्टिफिकेट मिलता है. खाता खुलवा कर उपभोक्ता अपने सोने को क्रेडिट भी करा सकते हैं. इसके बाद सीपीटीसी सोने को रिफाइनरी भेजते हैं जहां से अंतिम शुद्धता सर्टिफिकेट मिलता है.

ये भी पढ़ें: UIDAI ने शुरू की नई सर्विस Aadhaar Card को लेकर है कोई सवाल तो मिनटों में मिलेगा जवाब, जानिए सबकुछ

क्या है गोल्ड मोनेटाइजेशन स्कीम?
गोल्ड मोनेटाइजेशन स्कीम के तहत आप अपना सोना बैंक में जमा कर सकते हैं. इस पर आपको बैंक ब्याज देंगे. इस स्कीम की खास बात यह भी है कि पहले आप अपने सोने को लॉकर में रखते थे. लेकिन अब आपको लॉकर लेने की जरूरत नहीं हैं और निश्चित ब्याज भी मिलता है. स्कीम के तहत इसमें कम से कम 30 ग्राम 995 शुद्धता वाला सोना बैंक में रखना होगा. इसमें बैंक गोल्ड-बार, सिक्के, गहने (स्टोन्स रहित और अन्य मेटल रहित) मंजूर करेंगे.

समझें पूरी स्कीम
इस स्‍कीम के तहत बैंक कस्‍टमर को घर में पड़े सोने को निश्चित अवधि के लिए जमा कर सकते हैं. इस पर 2.25 से 2.50 फीसदी ब्‍याज मिलता है. इस स्कीम के जरिए अब तक कई लोगों और संस्थानों ने बैंक में सोना जमा किया है. कुछ बड़े मंदिरों ने भी इसके तहत बैंकों में सोना जमा कराया. जैसे, दक्षिण भारत के तिरुमाला तिरुपति देवस्‍थानम मंदिर ने गोल्‍ड मोनेटाइजेशन स्‍कीम के तहत 2780 किलो सोना जमा कराया. आकलन के अनुसार मंदिर को इस योजना में जमा गोल्‍ड के बदले करीब 807 करोड़ रुपए का ब्‍याज हर साल मिलेगा.

(लक्ष्मण रॉय, इकोनॉमिक पॉलिसी एडिटर, CNBC आवाज़)

ये भी पढ़ें:
बेहद शानदार है LIC की 'बीमा श्री' पॉलिसी! होगी कम से कम 10 लाख की बचत, जानें सबकुछ
8 करोड़ PF खाताधारकों को लग सकता है झटका! PF पर घट सकता है ब्याज

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 7, 2020, 7:14 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर