VIDEO: जानिए अब कब होगा गोल्ड पॉलिसी और छोटे कारोबारियों के लिए राहत पैकेज पर फैसला

ज्वैलर्स के लिए गोल्ड पॉलिसी और छोटे कारोबारियों के लिए राहत पैकेज पर फैसला अब नई सरकार लेगी. माना जा रहा है कि अब नई सरकार के आने के बाद जुलाई में इन पर फैसला हो सकता हैं.

News18Hindi
Updated: March 16, 2019, 5:52 PM IST
VIDEO: जानिए अब कब होगा गोल्ड पॉलिसी और छोटे कारोबारियों के लिए राहत पैकेज पर फैसला
VIDEO: जानिए अब कब होगा गोल्ड पॉलिसी और छोटे कारोबारियों के लिए राहत पैकेज पर फैसला
News18Hindi
Updated: March 16, 2019, 5:52 PM IST
ज्वैलर्स के लिए गोल्ड पॉलिसी और छोटे कारोबारियों के लिए राहत पैकेज पर फैसला अब नई सरकार लेगी. माना जा रहा है कि अब नई सरकार के आने के बाद जुलाई में इन पर फैसला हो सकता हैं. आचार संहिता लागू होते ही अब कई अहम फैसले लटक गए हैं. आपको बता दें कि चुनाव तारीखों के ऐलान के साथ ही कई लोगों की उम्मीदों पर पानी फिर गया है. छोटे कारोबारी आस लगाए बैठे थे कि मुफ्त दुर्घटना बीमा समेत विशेष राहत पैकेज की घोषणा हो जाएगी. प्रस्ताव पर कारोबारियों और सरकार के बीच चर्चा भी हो चुकी थी.

इनके लिए अब करना होगा इंतजार
>>
ये प्रस्ताव कैबिनेट की मंजूरी के लिए तैयार थे. लेकिन अब चुनाव आचार संहिता लागू हो चुकी है. इसी तरह वित्त मंत्री ने बजट भाषण में गोल्ड पॉलिसी लाने का वादा किया था.

ये भी पढ़ें-खुशखबरी! अब SBI के ATM से निकाले बिना कार्ड के रुपये, जानिए नई सर्विस के बारे में सबकुछ...

>> गोल्ड पॉलिसी के तहत ज्वैलरी सेक्टर को संगठित उद्योग के तौर पर विकसित करने योजना है. कई बार चर्चाओं का दौर चला. कैबिनेट के लिए मसौदा भी तैयार हो गया.



>> लेबर रिफॉर्म के लिए इंडस्ट्रियल कोड सरकार ने तैयार कर लिया है. लेकिन अब ये अटक गया. अलग अलग इंडस्ट्री के विकास के लिए इंडस्ट्रियल पॉलिसी का मसौदा भी तैयार था.

भी पढ़ें-Railway ने होली से पहले बदल दिया Tatkal टिकट बुक करने का नियम, फटाफट जानें यहां
Loading...

>> पुरानी गाड़ियों को बेचने पर रियायत देने वाली स्क्रैपेज पॉलिसी पर भी कई दौर की चर्चा हो चुकी है. लेकिन अब ये सब नई सरकार के आने पर ही आगे बढ़ पाएगी.

ये भी पढ़ें-चीन को 17 साल में लगा सबसे बड़ा झटका! तेजी से लोग हो रहे है बेरोज़गार

>> सिर्फ ये पॉलिसी ही नहीं बल्कि ऐसे फैसले जिसके अमल से राजनितिक तौर पर नुकसान हो सकता है, वो भी फिलहाल ठंडे बस्ते में ही समझिए. जैसे सरकारी कंपनियों के बंद करने, टैक्स की वसूली के लिए बड़े पैमाने पर छापेमारी. जैसे रास्तों पर सरकार अब काफी धीमी रफ्तार से चलेगी.
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...