65 हजार रुपये के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच सकता है सोना, लेकिन अब सता रहा इस बात का डर

65 हजार रुपये के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच सकता है सोना, लेकिन अब सता रहा इस बात का डर
संकट के इस समय निवेश के सुरक्षित विकल्प के रूप में सोने का आकर्षण बढ़ा है.

सोने की कीमतों (Gold Price) में लगातार तेजी देखने को मिल रही है. यही कारण है कि यह निवेशकों के लिए सबसे बेहतर विकल्प बना हुआ है. मौजूदा महामारी के बीच निवेशकों को बढ़ती कीमतों से फायदा हो रहा है. लेकिन, आभूषण बाजार में खास हलचल नहीं है.

  • Share this:
मुंबई. आभूषण उद्योग (Jewellery Industry) का मानना है कि अर्थव्यवस्था में सुस्ती के बीच सोने की कीमतों (Gold Price) में तेजी से पीली धातु की उपभोक्ता मांग घट सकती है. कोविड-19 महामारी की वजह से पैदा हुई अनिश्चितता के चलते भारत और वैश्विक सर्राफा बाजारों में सोना नित नई ऊंचाई पर पहुंच रहा है. इसकी वजह है कि संकट के इस समय निवेश के सुरक्षित विकल्प के रूप में सोने का आकर्षण बढ़ा है. शुक्रवार को मुंबई में सोना 50,919 रुपये प्रति 10 ग्राम पर था, जबकि राष्ट्रीय राजधानी में यह 51,946 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर पर पहुंच गया. वैश्विक बेंचमार्क हाजिर सोने का भाव 1,900 डॉलर प्रति औंस के करीब नौ साल के उच्चस्तर पर चल रहा है.

सुस्त है आभूषण कारोबार
अखिल भारतीय रत्न एवं आभूषण घरेलू परिषद (AIEGJDC) के चेयरमैन अनंत पद्मनाभन ने कहा, ‘‘मांग पहले से सुस्त है. अर्थव्यवस्था में सुस्ती, रोजगार को लेकर अनिश्चितता, सामाजिक दूरी और कोविड-19 की वजह से लागू लॉकडाउन की वजह से सामान्य दिनों के मुकाबले सिर्फ 20 से 25 फीसदी कारोबार हो रहा है.’’

कीमतें थमने का इंतजार कर रहे लोग
पद्मनाभन ने कहा कि लोग शादी- ब्याह की खरीदारी भी नहीं कर रहे हैं, क्योंकि इस समय बहुत अधिक शादियां नहीं हो रही हैं. लोग बड़े आयोजनों से बच रहे हैं. उन्होंने कहा कि वास्तव में लोग सोने की कीमतों में उतार-चढ़ाव थमने का इंतजार कर रहे हैं. उसके बाद बाद वे खरीदारी के बारे में फैसला करेंगे.



यह भी पढ़ें: आत्‍मनिर्भर भारत के लिए सरकार का बड़ा कदम! इस सेक्‍टर को दी करोड़ाें की मदद

निवेशक खुश, उपभोक्ता चिंतित
विश्व स्वर्ण परिषद (WGC) के प्रबंध निदेशक (भारत) सोमसुंदरम पी आर ने कहा कि सोने के दाम 50,000 रुपये के ऊपर जाना एक महत्वपूर्ण घटनाक्रम है. इस पर जो प्रतिक्रिया आ रही है, वह स्वाभाविक है. यानी निवेशक खुश, उपभोक्ता चिंतित. उन्होंने कहा, ‘‘जनवरी, 2019 से सोने के दाम 60 फीसदी चढ़ चुके हैं. अगस्त, 2019 से इसमें काफी तेजी आई है. हालांकि, डॉलर अपने सर्वकालिक उच्चस्तर के पार नहीं गया है, लेकिन फिलहाल सोना अपने सर्वकालिक उच्चस्तर पर है.’’

पुणे मुख्यालय वाले आभूषण ब्रांड पीएन गाडगिल के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी सौरभ गाडगिल ने कहा कि कोविड-19 परिदृश्य की वजह से उपभोक्ता मांग काफी कम है. लोग सोने का छोटा सामान ही खरीद रहे हैं. हालांकि, निवेश की दृष्टि से मांग काफी ऊंची है. उन्होंने कहा कि इस समय सोना निवेशकों के बीच निवेश का सुरक्षित विकल्प बना हुआ है.

यह भी पढ़ें: पेट्रोल पंप पर कम तेल देना पड़ेगा भारी! ग्राहक की शिकायत पर रद्द होगा लाइसेंस

65 हजार रुपये तक पहुंच सकता है सोना
गाडगिल ने कहा कि कोविड-19 संकट और अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव की वजह से अगले 12 माह में सोना और चढ़ेगा. उन्होंने कहा, ‘‘हमारा अनुमान है कि अगले 12 माह में घरेलू बाजार में सोना 65,000 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर पर होगा. अंतरराष्ट्रीय बाजार में यह 2,500 डॉलर प्रति औंस के स्तर को छू जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading