सोना अभी भी देगा जबरदस्त कमाई का मौका! क्रिस्टोफर वुड लगा रहे 5500 डॉलर तक की उम्मीद

सोना अभी भी देगा जबरदस्त कमाई का मौका! क्रिस्टोफर वुड लगा रहे 5500 डॉलर तक की उम्मीद
गोल्ड के भाव में आगे भी बड़ी तेजी का अनुमान है.

Gold Price: अगस्त 2020 के शुरुआत में ही सोने का भाव अब तक के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच चुका था. अब कई ब्रोकरेज फर्म्स को उम्मीद है कि लंबी अवधि में यह तेजी जारी रहेगी. क्रिस्टोफर वुड (Christopher Wood) का मानना है कि सोने का भाव मौजूदा स्तर से 5,500 डॉलर प्रति आउंस तक पहुंच सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 21, 2020, 5:30 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस महामरी के बीच सोने के दाम (Gold Rates) में लगातार तेजी देखने को मिल रहा है और यह ​पहले ही रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच चुका है. अब Jefferies के ग्लोबल इक्विटी हेड क्रिस्टोफर वुड (Christopher Wood) का कहना है कि सोने के दाम में मौजूदा तेजी जारी रहेगी और यह 5,500 डॉलर प्रति आउंस के स्तर पर पहुंच सकता है. मौजूदा स्तर से देखें तो यह 180 फीसदी ज्यादा है, जबकि 2020 के शुरुआत में वुड द्वारा ही लगाये गये अनुमान से 31 फीसदी से ज्यादा है. इस साल के शुरुआत में वुड ने अनुमान लगाया था कि गोल्ड का भाव 4,200 डॉलर प्रति आउंस के स्तर तक पहुंच सकता है. उन्होंने यह अनुमान अमेरिकी पर कैपिटा डिस्पोजेबल इनकम (US Per Capita Disposable Income) के आधार पर लगाया था. यह जनवरी 1980 में सोने के भाव 850 डॉलर प्रति आउंस के आधार पर कैलकुलेट किया गया था.

क्या है वुड का तर्क?
वुड ने इन्वेस्टर्स को लिखे एक नोट में अपने इस अनुमान का तर्क दिया है कि उस दौरान गोल्ड का भाव यूएस डिस्पोजेबल इनकम पर कैपिटा का 9.9 फीसदी था, जो कि 8,547 डॉलर पर था. अब अमेरिका में सोने का मौजूदा भाव 53,747 डॉलर के पर कैपिटा डिस्पोजेबल इनकम का 3.6 फीसदी है. फिलहाल यूएस में सोने का भाव 1,952 डॉलर के करीब है. जनवरी 1980 के 9.9 फीसदी के स्तर पर पहुंचने के लिए गोल्ड का भाव 5,345 डॉलर होना चाहिए. इसका मतलब है कि 5,500 डॉलर प्रति आउंस का भाव मौजूदा स्थिति को देखते हुए तर्कसंगत है.

दूसरे ब्रोकरेज फर्म्स को भी सोने में तेजी की उम्मीद
अन्य प्रमुख ब्रोकरेज फर्म्स भी वुड की बात से सहमति रखते हैं. BoFA सिक्योरिटीज फंंड मैनेजर सर्वे (FMS) ने अगस्त के लिए कहा है कि गोल्ड में ग्लोबल फंड मैनेजर्स ​लिए दूसरा सबसे क्राउडेड ट्रेड है. इस सर्वे में 23 फीसदी मैनेसर्जस का मानना है कि गोल्ड में तेजी अभी भी जारी रहेगी. क्रेडिट सुईस वेल्थ मैनेजमेंट (Credit Suisse Wealth Management) का मानना है कि लंबी अवधि के लिए सोने में तेजी आएगी. उनका मानना है कि डॉलर में कमजोरी देखी जा रही है और रियल यील्ड् में भी कमी आ रही है, जिससे सोने में मजबूती देखने को मिलेगी.



यह भी पढ़ें: भारतीय कंपनियों को राहत देने के लिए सरकार जल्द उठाएगी बड़ा कदम, हर साल होगी करोड़ों की बचत

डॉलर में कमजोरी और कम ब्याज दर से सोने की मांग में तेजी
क्रेडिट सुईस वेल्थ मैनेजमेंट के इंडिया इक्विटी हेड जितेंद्रा गोहिल ने प्रेमल कामदार के साथ एक आर्टिकल में लिखा है कि कोविड-19 को लेकर अनिश्चितता अभी भी बरकरार है और कुछ देशों में संक्रमण की संख्या तेजी से बढ़ रही है. इससे सोने की मांग बढ़ेगी. ईटीएफ इनफ्लो (ETF Inflow) में यह साफ नजर आ रहा है. कमजोर डॉलर और ब्याज दरों में कमी के इस माहौल में गोल्ड को लेकर साकारात्मक परिदृश्य है.

अगस्त 2020 में 2,070 डॉलर प्रति आउंस के उच्चतम स्तर से गोल्ड में अब तक 6 फीसदी की गिरावट आ चुकी है. हालांकि, बीते एक साल में गोल्ड में अब तक 30 फीसदी की तेजी है. ईयर-टू-डेट (YTD) के आधार पर यह तेजी 27 फीसदी की है.

यह भी पढ़ें: आपके बैंक अकांउट पर है मोबाइल हैकर्स की नजर, बचना है तो मान लें SBI की ये बात

फिजिकल गोल्ड की मांग में बड़ी गिरावट
वुड का कहना है कि ​उभरते बाजार में फिजिकल गोल्ड की मांग में कमी आई है. खासतौर से भारत में. भारत में कंज्यूमर गोल्ड की मांग 70 फीसदी तक कम रही है. साल-दर-साल (YoY) के हिसाब से इसमें 64 फीसदी की गिरावट आई है. यह पिछले साल की दूसरी तिमाह की तुलना में इस साल की दूसरी तिमाही का आंकड़ा है. पिछले साल की पहली छमाही की तुलना इस साल पहली छमाही में यह 166 फीसदी कम है. YoY के आधार पर चीन और मीडिल ईस्ट में भी कंज्यूमर गोल्ड की मांग में गिरावट आई है. दोनों देशों में यह गिरावट क्रमश: 48 फीसदी और 34 फीसदी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज