Gold Price: सोने के दाम में पूरे 12927 रुपये की गिरावट, जानें निवेश पर मिलेगा तगड़ा मुनाफा या होगा घाटा

सोने में मौजूदा कीमतों पर लंबी अवधि के निवेश से अच्‍छा मुनाफा मिल सकता है.

सोने में मौजूदा कीमतों पर लंबी अवधि के निवेश से अच्‍छा मुनाफा मिल सकता है.

सोने के दाम (Gold Prices) 7 अगस्‍त 2020 के सर्वोच्‍च स्‍तर से अब तक 12,927 रुपये प्रति 10 ग्राम घट चुके हैं. वहीं, चांदी 13,564 रुपये प्रति किग्रा (Silver Price) गिर चुकी है. विशेषज्ञों का कहना है कि पिछले वर्षों के आंकड़ों के मुताबिक गोल्‍ड की कीमतों में 2021 में भी बढ़ोतरी होना तय है. आइए जानते हैं कि इस साल कैसा रहेगा सोने के भाव में ट्रेंड और निवेश पर कैसा रहेगा रिटर्न?

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 29, 2021, 7:34 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना संकट के बीच पैदा हुईं आर्थिक चुनौतियों के बीच भारत ही नहीं दुनियाभर में लोगों ने गोल्‍ड में निवेश पर सबसे ज्‍यादा भरोसा किया. इसी का नतीजा निकला कि निवेशकों की जबरदस्‍त खरीदारी के दम पर अगस्‍त 2020 में सोने की कीमतें रिकॉर्ड स्‍तर पर पहुंच गईं. गोल्‍ड ने 2020 के दौरान निवेशकों को जमकर मुनाफा कमाकर दिया. दिल्‍ली सर्राफा बाजार में 7 अगस्‍त 2020 को गोल्‍ड की कीमत (Gold Prices) 57,008 रुपये प्रति 10 ग्राम के सर्वोच्‍च स्‍तर पर पहुंच गई थी. वहीं, चांदी की कीमतें भी इस दिन सर्वोच्‍च स्‍तर पर पहुंच गईं. इसके बाद जैसे-जैसे कोरोना वैक्‍सीन को लेकर अच्‍छी खबरें आती गईं, वैसे-वैसे सोना-चांदी के दाम गिरने शुरू हो गए क्‍योंकि लोगों ने आर्थिक गतिविधियों में सुधार के साथ दूसरे निवेश विकल्‍पों का रुख करना शुरू कर दिया.

कीमती पीली धातु के दाम 7 अगस्‍त 2020 के भाव से शुक्रवार 26 मार्च 2021 तक 12,927 रुपये की गिरावट के साथ 44,081 रुपये प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गए हैं. वहीं, चांदी 7 अगस्‍त 2020 को 77,840 रुपये प्रति किग्रा पर थी, जो बीते शुक्रवार को 13,564 रुपये कम होकर 64,276 रुपये पर पहुंच गई. इस बीच हर दिन सोने-चांदी की कीमतों में जारी उठापटक के कारण निवेशक ऊहापोह में हैं कि उन्‍हें गोल्‍ड में निवेश करना चाहिए या कुछ और इंतजार करना चाहिए. वहीं, कुछ निवेशक अपने पास मौजूद गोल्‍ड को बेचने या होल्‍ड करने को लेकर उलझन में हैं. आइए जानते हैं कि आने वाल समय में सोने में क्‍या ट्रेंड रह सकता है और अभी निवेश करने पर इससे मुनाफा मिलेगा या घाटा उठाना पड़ सकता है?

ये भी पढ़ें- घर में पड़े सोने पर 90 फीसदी तक लोन लेने के लिए बचा है सिर्फ 1 दिन, जानें कितनी हैं ब्‍याज दरें

2021 में रिकॉर्ड स्‍तर को छूएगा सोने का भाव
विशेषज्ञों का कहना है कि जैसे-जैसे दुनियाभर में कोरोना वैक्‍सीनेशन का अभियान रफ्तार पकड़ रहा है, वैसे-वैसे लोग दूसरे निवेश विकल्‍पों का रुख कर रहे हैं. इससे सोने के दामों में गिरावट हुई है. हालांकि, उन्‍हें नहीं लगता कि ये स्थिति ज्‍यादा समय तक बनी रहेगी. दुनिया के ज्‍यादातर शेयर बाजारों समेत इंडियन स्‍टॉक एक्‍सचेंज भी काफी रफ्तार पकड़ चुके हैं. अब बीच-बीच में मुनाफावसूली के कारण बाजारों में बड़ी गिरावट देखने को मिल रही है. शेयर बाजारों के ज्‍यादा ऊपर जाने पर मुनाफे के साथ जोखिम भी बढ़ जाता है. ऐसे में बड़ी संख्‍या में निवेशक फिर सबसे सुरक्षित निवेश विकल्‍प गोल्‍ड का रुख करेंगे. इससे सोने की कीमतों को सहारा मिलेगा और ये फिर ऊपर की ओर बढ़ना शुरू हो जाएंगी. विशेषज्ञों का मानना है कि पिछले सालों के आंकड़ों के आधार पर 2021 में भी गोल्‍ड की कीमतें बढ़ना तय है. अनुमान है कि 2021 में सोने की कीमतें नया रिकॉर्ड बनाते हुए 63,000 रुपये के स्‍तर को पार कर जाएंगी.

ये भी पढ़ें- अब कार-बाइक रखना पड़ेगा और महंगा! नया टैक्‍स लगाने की तैयारी में केंद्र सरकार, जानें सबकुछ

लंबी अवधि में मिल सकता है तगड़ा मुनाफा?



निवेशकों का बड़ा तबका ऐसा भी है, जो ये जानना चाहता है कि क्‍या मौजूदा कीमतों पर गोल्‍ड में निवेश करना सुरक्षित रहेगा. क्‍या उन्‍हें इस मौके का फायदा उठाकर लंबी अवधि के लिए निवेश करने पर तगड़ा मुनाफा मिल सकता है. इस पर विशेषज्ञों का कहना है कि सोने के दामों में हुई मौजूदा गिरावट के कई कारण हैं. इनमें सबसे बड़ा कारण कोरोना वैक्‍सीन के टीकाकरण अभियान में तेजी, नई वैक्‍सीन्‍स को लेकर लगातार आ रही अच्‍छी खबरों और इससे आर्थिक गतिविधियों में बढ़ोतरी है. वहीं, डॉलर का दूसरी बड़ी करेंसीज के मुकाबले मजबूत होने से भी गोल्‍ड की कीमतों पर असर पड़ रहा है. उनके मुताबिक, अमेरिकी डॉलर और सोना एकदूसरे के उलट व्‍यवहार करते हैं. अगर डॉलर की मांग में इजाफा होगा तो सोने के दाम दबाव में आ जाएंगे.

ये भी पढ़ें- अगर आप भी कराने जा रहे FDs तो फटाफट चेक कर लें लेटेस्ट रेट्स, इस बैंक ने ब्याज दरों में किया बदलाव

जल्‍द 1960 डॉलर प्रति औंस पहुंचेगा सोना

कोरोना वैक्‍सीनेशन रफ्तार बढ़ने के साथ आर्थिक गतिविधियों में भी तेजी आ रही है. ऐसे में लोग ज्‍यादा जोखिम वाले निवेश विकल्‍पों का रुख कर रहे हैं. इनमें इक्विटी और क्रिप्‍टोकरेंसी जैसे विकल्‍प शामिल हैं. क्रिप्‍टोकरेंसी को लेकर भारत सरकार जहां सख्‍ती बरत रही है. वहीं, इक्विट मार्केट में अब फिर तेज उठापटक शुरू हो गई है. वहीं, गोल्‍ड की कीमतों में गिरावट अस्‍थायी और कम समय के लिए है. लिहाजा, निवेशक मौजूदा कीमतों पर सोने में निवेश कर लंबी अवधि में तगड़ा मुनाफा कमा सकते हैं. विशेषज्ञों के मुताबिक, गोल्‍ड जल्‍द ही 1960 डॉलर प्रति औंस का उच्‍चस्‍तर छू सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज