शादियों के सीजन से पहले सोना क्यों हो रहा है सस्ता, जानें वजह

ग्लोबल Gold ETFs की होल्डिंग में 84.7 टन सोने की गिरावट आई है. अब तक के इतिहास में यह 7वां सबसे बड़ा मंथली लॉस है.

ग्लोबल Gold ETFs की होल्डिंग में 84.7 टन सोने की गिरावट आई है. अब तक के इतिहास में यह 7वां सबसे बड़ा मंथली लॉस है.

अमेरिकी बॉन्ड यील्ड (US Treasury yields) में बढ़ोतरी और मजबूत डॉलर के कारण सोने की कीमतें नीचें आ रही हैं. इसी तरह की स्थिति रही तो सोने के दाम सोने की कीमतें 41,500 प्रति 10 ग्राम तक गिर सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 5, 2021, 10:04 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. शादियों का सीजन शुरू होने वाला है. ऐसे में सोने की खपत बढ़ जाएगी. लेकिन राहत की बात यह है कि सोने की भाव में नरमी आने की उम्मीद जताई जा रही है. इसकी बड़ी वजह अमेरिकी बॉन्ड यील्ड (US Treasury yields) में बढ़ोतरी और मजबूत डॉलर के कारण सोना (Gold) में निवेश का आकर्षण घटना है.
एक्सपर्ट्स के मुताबिक गोल्ड आधारित एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (Gold ETFs) में सोने पर लगातार बिकवाली का दबाव बना हुआ है. इसकी वजह सोने में अपवार्ड मोमेंटम का नहीं दिखना है. इसी वजह से वह बीयर मार्केट में प्रवेश कर गया है. जब किसी ऐसेट, कमोडिटी या सिक्योरिटीज की कीमत अपने रिकॉर्ड हाई से 20% या उससे अधिक गिर जाती है और या गिरावट दो महाने से ज्यादा रहती है तो उसे बीयर मार्केट बोलते हैं.
यह भी पढ़ें : नौकरी की बात : अगले पांच साल में इस क्षेत्र में होंगे 7.5 करोड़ जॉब्स, बस करनी होगी यह तैयारी

कोविड 19 के दौर से बाहर निकलती दुनिया निवेश के दूसरे विकल्पों पर कर रहे फोकस
कोरोनावायरस महामारी के प्रभाव से निकलने के साथ वैश्विक अर्थव्यवस्था में स्थिरता आने और इंटरेस्ट रेट्स के स्थिर होने के साथ ग्रोथ आउटलुक पॉजिटिव होने से निवेशक अब निवेश के लिए बेहतर और ज्यादा मुनाफा वाले मौकों की तलाश कर रहे हैं. वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर पीआर सोमासुंदरम ने कहा कि बॉन्ड यील्ड बढ़ने और सोने की कीमतों में गिरावट के कारण फरवरी में Gold ETFs की होल्डिंग 2% से अधिक कम हुई है.
यह भी पढ़ें : बदलती तस्वीर : 77% महिलाओं का भराेसा म्युच्युल फंड पर, एफडी सिर्फ 31% को पसंद



होल्डिंग में 84.7 टन सोने की गिरावट, इतिहास में यह 7वां सबसे बड़ा मंथली लॉस
पीआर सोमासुंदरम ने कहा कि इस दौरान ग्लोबल Gold ETFs की होल्डिंग में 84.7 टन सोने की गिरावट आई है. उन्होंने कहा कि अब तक के इतिहास में यह 7वां सबसे बड़ा मंथली लॉस है. दुनिया की सबसे बड़ी गोल्ड आधारित एक्सडेंज ट्रेडेड फंड SPDR Gold Trust की होल्डिंग 21 सितंबर, 2020 को अपने लाइफटाइम हाई 1,278.82 तक पहुंच गई थी, उसमें 4 मार्च 2021 तक 200.5 टन यानी 15% की गिरावट आई है.
यह भी पढ़ें : नौकरी की बात : दस साल में 100 करोड़ नौकरियों की स्किल बदल जाएंगी, इसलिए सीखें नई स्किल और करें रि-स्किलिंग

विशेषज्ञों का अनुमान : 42 हजार रुपए तक गिर जाएंगे सोने के भाव
CapitalVia Global Research के प्रोडक्ट मैनेजर क्षितिज पुरोहित ने कहा कि MCX पर गोल्ड 43,800 से 44,000 रुपए के बीच ट्रेड करने का संभावना है. वहीं, COMEX पर 1,685-1,660 के बीच रह सकता है. उन्होंने कहा कि बॉन्ड यील्ड में अगर ऐसे ही बढ़ोतरी जारी रही तो सोने की कीमतें 41,500 प्रति 10 ग्राम तक गिर सकती है. वहीं, मोतीलाल ऑसवाल के वाइस प्रेसिडेंट नवनीत दमानी ने कहा कि MCX पर गोल्ड 44,200 से 43,500 के बीच रहने का अनुमान है. आज MCX पर अप्रैल में डिलिवरी वाला वायदा सोना 44,540 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ. Reliance Securities के सीनियर रिसर्च एनालिस्ट श्रीराम अय्यर ने कहा कि सोना 44,000 प्रति 10 ग्राम से स्तर पर आ सकता है और यदि यह इससे भी नीचे आता है तो 42,250 के स्तर पर आ सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज