सोना पहली तिमाही में 25% हुआ महंगा, देश में 36 फीसदी घटी मांग

सोना पहली तिमाही में 25% हुआ महंगा, देश में 36 फीसदी घटी मांग
पहली तिमाही में सोना 25% हुआ महंगा

एक रिपोर्ट के अनुसार, सोने की कीमतों (Gold Price) में उतार-चढ़ाव और कोरोना वायरस की वजह से छायी आर्थिक अनिश्चिता के चलते जनवरी-मार्च तिमाही में देश की सोने की मांग घटकर 101.9 टन रह गई.

  • Share this:
नई दिल्ली. इस साल जनवरी-मार्च तिमाही में भारत में सोने (Gold) की मांग में 36 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है. एक रिपोर्ट के अनुसार, सोने की कीमतों (Gold Price) में उतार-चढ़ाव और कोरोना वायरस की वजह से छायी आर्थिक अनिश्चिता के चलते जनवरी-मार्च तिमाही में देश की सोने की मांग घटकर 101.9 टन रह गई. कैलेंडर वर्ष की पहली तिमाही में ज्वैलरी और सोने में निवेश की मांग भी घटी है. जब तक आभूषण उद्योग के कारीगर काम पर नहीं लौट आते और आपूर्ति श्रृंखला को जल्द से जल्द शुरू नहीं कर लिया जाता, तब तक आगे के हालात भी ‘चुनौतीपूर्ण’ रहने की आशंका है.

वर्ल्‍ड गोल्‍ड काउंसिल (WGC) ने समीक्षावधि में देश की सोने की मांग 37,580 करोड़ रुपये रही. यह 2019 की इसी तिमाही में 47,000 करोड़ रुपये की सोने की मांग से 20 प्रतिशत कम है. WGC India प्रबंध निदेशक सोमसुंदरम पीआर ने कहा कि समीक्षावधि में घरेलू बाजार में सोने की कीमतों में भारी उछाल देखने को मिला. सीमाशुल्क और कर की गणना किए बगैर सोने का मूल्य करीब 25 प्रतिशत बढ़कर 36,875 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गया. पिछले साल इसी अवधि में यह कीमत 29,555 रुपये थी.

ये भी पढ़ें: म्युचूअल फंड्स में पैसा लगाने वालों के लिए खबर! RBI के इस कदम से पैसा निकालने में मिलेगी मदद



इन वजहों से घटी मांग
उन्होंने कहा कि इस अवधि में भारत की सोने की मांग घटने के कई कारण रहे. कीमतों के ऊंचे और अस्थिर रहने के साथ-साथ बंद की वजह से आवाजाही पर पाबंदी, मालवहन में परेशानी और आर्थिक अनिश्चिता की वजह से यह मांग गिरी है.

इस बीच आभूषण की कुल मांग 41 प्रतिशत गिरकर 73.9 टन रही जो पिछले साल इस दौरान 125.4 टन थी. रुपये में यह मांग 27 प्रतिशत घटकर 27,230 करोड़ रुपये रही. पिछले साल इसी अवधि में यह 37,070 करोड़ रुपये थी. वहीं निवेश के लिए की जाने वाली सोने की मांग इस दौरान 17 प्रतिशत घटकर 28.1 टन रही. हालांकि रुपये में यह मूल्य सालाना आधार पर चार प्रतिशत बढ़कर 10,350 करोड़ रुपये रहा.

ये भी पढ़ें- इस बैंक के ग्राहक 31 अक्टूबर तक नहीं निकाल सकेंगे खाते से पैसा! RBI का फैसला

सालाना आधार पर मांग बढ़ी
कोरोना वायरस संकट के बीच वैश्विक स्तर पर शेयर बाजारों में उथल-पुथल मची हुई है. कच्चे तेल की कीमतें ऐतिहासिक तौर पर निचले स्तर पर बनी हुई हैं. ऐसे में निवेशक स्वर्ण को सुरक्षित निवेश के तौर पर देख रहे हैं. सालाना आधार पर जनवरी-मार्च में सोने की वैश्विक मांग एक प्रतिशत बढ़कर 1,083.8 टन रही है. पिछले साल सोने की वैश्विक मांग 1,070.8 टन थी.

ये भी पढ़ें- गरीबों की मदद के लिए खर्च करने होंगे 65 हजार करोड़ रुपये- रघुराम राजन
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading