होम /न्यूज /व्यवसाय /

सोने की चमक बरकरार, बेहतर मुद्रास्फीति आंकड़ों के कारण कीमतों में तेजी, चेक करें ताजा रेट्स

सोने की चमक बरकरार, बेहतर मुद्रास्फीति आंकड़ों के कारण कीमतों में तेजी, चेक करें ताजा रेट्स

डॉलर इंडेक्स के 4 हफ्ते के निचले स्तर पर खिसकने से सोने की कीमत चढ़ी.

डॉलर इंडेक्स के 4 हफ्ते के निचले स्तर पर खिसकने से सोने की कीमत चढ़ी.

जिंस बाजार के विशेषज्ञों के अनुसार, अमेरिकी मुद्रास्फीति के बेहतर आंकड़ों के कारण डॉलर सूचकांक 4 सप्ताह के निचले स्तर पर आ गया है जिससे सोने की कीमत को मजबूती मिली है. जानकारों के अनुसार, सोने में आगे भी मजबूती बनी रहेगी.

हाइलाइट्स

सोने की कीमतों में मजबूती बनी हुई है. यह लगातार चौथे सप्ताह बढ़त के साथ बंद हुआ.
एमसीएक्स पर अक्टूबर के लिए सोने का वायदा भाव 52,579 के स्तर पर समाप्त हुआ.
अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोने की कीमत 1820 डॉलर प्रति औंस तक जा सकती है.

नई दिल्ली. सोने की कीमतों में मजबूती बनी हुई है. यह लगातार चौथे सप्ताह बढ़त के साथ समाप्त हुआ. मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (एमसीएक्स) पर अक्टूबर के लिए सोने का वायदा भाव 52,579 के स्तर पर समाप्त हुआ, जो पिछले शुक्रवार के ₹51,864 प्रति 10 ग्राम के स्तर से लगभग 1.37 प्रतिशत अधिक है.

जिंस बाजार के विशेषज्ञों के अनुसार, अमेरिका के बेहतर मुद्रास्फीति आंकड़ों  की वजह से डॉलर इंडेक्स 4 सप्ताह के निचले स्तर पर आ गया. इससे सोने की कीमत को मजबूती मिली और यह 5 सप्ताह के उच्च स्तर पर चला गया.  जानकारों के मुताबिक, अल्पावधि में एमसीएक्स पर ₹53,500 के स्तर तक जा सकती है. सोने के निवेशकों को ‘डिप्स ऑन डिप्स’ रणनीति की सलाह देते हुए, कमोडिटी विशेषज्ञों ने कहा कि सोने की हाजिर कीमत 1,760 डॉलर से 1,820 डॉलर प्रति औंस के बीच चल रही है लेकिन सकारात्मक परिस्थितियों में यह 1,820 डॉलर प्रति औंस का स्तर छू सकती है.

यह भी पढ़ें – गोल्ड रिजर्व में 67.1 करोड़ डॉलर का हुआ इजाफा, विदेशी मुद्रा भंडार में आई गिरावट

सोने में तेजी की वजह
पिछले सप्ताह में सोने की कीमतों में वृद्धि के कारण पर बोलते हुए, कमोडिटी एंड करेंसी रिसर्च की उपाध्यक्ष सुगंधा सचदेवा ने कहा, “अमेरिका में अनुमान से कम मुद्रास्फीति सप्ताह का प्रमुख आकर्षण रही जिसने डॉलर को दबा दिया. अमेरिकी उपभोक्ता मूल्य सूचकांक जुलाई (वर्ष-दर-वर्ष) में 8.5 प्रतिशत बढ़ा, जो जून में 9.1 प्रतिशत था. इसके अलावा, आपूर्ति-श्रृंखला की स्थिति में सुधार के बीच, यूएस प्रोड्यूसर प्राइस में वार्षिक आधार पर जुलाई में  9.8 प्रतिशत की वृद्धि हुई. जबकि इसके 10.4 प्रतिशत तक रहने का अनुमान था. जून में यह 11.3% थी.

सोने की कीमत आउटलुक
निकट भविष्य में सोने की चमक जारी रहने की उम्मीद जताते हुए आईआईएफएल सिक्योरिटीज के उपाध्यक्ष-अनुज गुप्ता ने कहा, “सोने के लिए समग्र दृष्टिकोण सकारात्मक दिखता है और जब तक हाजिर बाजार में सोना 1,760 से $1,820 प्रति औंस के बीच मिल रहा है, इसे गिरावट की रणनीति के साथ खरीदना चाहिए. निचले स्तर पर खरीदकर ऊंचे दाम पर मुनाफावसूली करनी चाहिए. हालांकि, अगर सोने की कीमत 1,820 डॉलर के स्तर से ऊपर जाती है, तो यह 1,855 डॉलर से 1,860 डॉलर प्रति औंस के स्तर तक बढ़ सकती है.” आईआईएफएल सिक्योरिटीज के अनुज गुप्ता ने कहा कि एमसीएक्स पर सोना 52,800 के स्तर से ऊपर रहने के बाद जल्द ही 53,500 प्रति 10 ग्राम के स्तर को छू सकता है.

Tags: Business news, Dollar, Federal Reserve meeting, Gold price, Market

अगली ख़बर