लाइव टीवी

शादी-ब्याह का सीजन शुरू होते ही सोने के भाव में आई तेजी, जानें 10 ग्राम की कीमत

पीटीआई
Updated: November 4, 2019, 4:41 PM IST
शादी-ब्याह का सीजन शुरू होते ही सोने के भाव में आई तेजी, जानें 10 ग्राम की कीमत
शादियों का सीजन आते ही बढ़ी सोने की मांग

सोमवार को दिल्ली सर्राफा बाजार में 10 ग्राम सोने का भाव (Gold Prices) 78 रुपये बढ़ गया.

  • Share this:
नई दिल्ली. सप्ताह के पहले दिन सोने-चांदी की कीमतों (Gold-Silver) Price Today) में उछाल आया है. सोमवार को दिल्ली सर्राफा बाजार में 10 ग्राम सोने का भाव (Gold Prices) 78 रुपये बढ़ गया. सोने की तरह चांदी की कीमतों (Siver Prics) में भी तेजी आई. चांदी का भाव 245 रुपये प्रति किलोग्राम बढ़ गया. एक्सपर्ट्स के मुताबिक, शादी-ब्याह के सीजन में मांग बढ़ने की वजह से कीमतों में तेजी आई है.

सोमवार को सोने की कीमत
दिल्ली सर्राफा बाजार में सोना का भाव 78 रुपये बढ़कर 39,263 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गया. शुक्रवार को दिल्ली में 24 कैरेट सोना 39,185 रुपये पर बंद हुआ था. अंतर्राष्ट्रीय बाजार में सोना 1,509 डॉलर और चांदी 18.058 डॉलर प्रति औंस रही.

चांदी का नया भाव

सोने की तरह चांदी की कीमतों में भी तेजी आई और दिल्ली सर्राफा बाजार में चांदी का भाव 245 रुपये बढ़कर 47,735 रुपये प्रति किलोग्राम हो गया. इससे पहले शुक्रवार को को चांदी 47,490 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुआ था. ये भी पढ़ें: 1 जनवरी 2020 से बदल जाएगा PF का ये नियम, 50 लाख से ज्यादा लोगों को अब होगा फायदा



सोने के भाव में उछाल की वजह
Loading...

HDFC सिक्योरिटीज के सीनियर एनालिस्ट (कमोडिटीज) तपन पटेल भारत में वेडिंग सीजन शुरू होने की वजह से सोने की मांग बढ़ने से भाव चढ़ा है. वहीं बाजार को अमेरिका और चीन में ट्रेड डील में फ्रेश ट्रिगर का इंतजार है. इससे भी दाम को सपोर्ट मिला है.

रोजना क्यों बदलते हैं सोने के दाम-
पेट्रोल और डीजल की कीमतों की तरह सोने की कीमत भी रोज बदलती है. क्या आपने कभी सोचा है कि ऐसा क्यों होता है?सोने की कीमत कई बातों पर निर्भर करती है. इनमें आर्थिक और राजनीति कारण सबसे अहम हैं.
>> ये घरेलू और विदेशी दोनों तरह के हो सकते हैं. जैसे अगर हमारे देश की सरकार ने सोने का आयात से जुड़ा कोई नया नियम लागू किया है तो इसका असर सोने की कीमत पर पड़ेगा.
>> इसी तरह सोने का निर्यात करने वाले देश में किसी साल उत्पादन घट जाता है तो इसका असर भी घरेलू बाजार में सोने की कीमत पर पड़ेगा. इसी तरह देश में या विदेश में ऐसे कई घटनाएं होती हैं, जिनका असर सोने की कीमत पर पड़ता है.

ये भी पढ़ें: SBI शुरू कर रहा नीलामी, आधी से भी कम कीमत पर खरीदें घर और दुकानें
> भारत में मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (एमसीएक्स) में सोने में ट्रेडिंग होती है. कारोबार के दौरान हर सेकेंड सोने की कीमत बदलती रहती है. पिछले दिन सोने की बंद कीमत लोकल मार्केट में सोना खरीदने की कीमत मानी जाती है.
>> धनतेरस, दिवाली, दशहरा या शादी-ब्याह के सीजन में सोने की ज्यादा खपत के चलते भी स्थानीय बाजार में इसकी कीमत बढ़ जाती है. हर साल ऐसे मौके पर सोने में सामान्य से ज्यादा खरीदारी होती है.
>> केंद्रीय बैंक के फैसलों का असर भी सोने की कीमतों पर पड़ता है. सोने को सबसे सुरक्षित एसेट माना जाता है. ज्यादातर देश सोने का भंडार रखते हैं, जिसका प्रबंधन उस देश के केंद्रीय बैंक द्वारा किया जाता है. भारत में सरकार के गोल्ड रिजर्व का प्रबंधन भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) करता है. इसलिए अगर आरबीआई गोल्ड रिजर्व से जुड़ी नीति में बदलाव करता है तो इसका असर सोने की कीमतों पर पड़ सकता है.
>> सरकार की नीति का सीधा या परोक्ष असर सोने की कीमत पर पड़ता है. बड़े विकसित या विकासशील देशों की नीति का असर भी सोने पर पड़ता है. उदाहरण के लिए अमेरिका में कई बार फेडरल रिजर्व की बैठक से पहले सोने की कीमतें बढ़ती या घटती हैं.
>> करेंसी के मूल्य में होने वाले बदलाव से भी सोना महंगा या सस्ता होता है. उदाहरण के लिए यदि डॉलर के मुकाबले रुपया मजबूत होता है तो सोने की कीमत घट सकती है. इसके विपरीत डॉलर के मुकाबले रुपये के कमजोर होने पर सोना महंगा हो सकता है. इसकी वजह यह है कि भारत अपनी खपत का ज्यादातर हिस्सा आयात करता है. इसकी कीमत सरकार डॉलर में चुकाती है.

ये भी पढ़ें: SBI खाताधारकों के लिए अलर्ट! 30 नवंबर तक नहीं जमा किया ये फॉर्म, तो अटक जाएगा पैसा 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 4, 2019, 4:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...