आज 10 ग्राम सोने के भाव में आई 512 रुपये की तेजी, चांदी हुई 1448 रुपये महंगी, जानिए नए रेट्स

Gold Price: सोने की कीमतों में आई तेजी
Gold Price: सोने की कीमतों में आई तेजी

Gold - Silver Update : बुधवार को दिल्ली सर्राफा बाजार में सोने की कीमतें बढ़ गई है. अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर आई तेजी का असर घरेलू बाजार पर पड़ा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 21, 2020, 4:44 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. एक दिन की गिरावट के बाद दिल्ली सर्राफा बाजार में एक बार फिर से सोने (Gold Price Today) का भाव बढ़ गए हैं. एचडीएफसी सिक्योरिटीज द्वारा दी गई जानकारी में बताया गया है कि वैश्विक बाजारों में सोने-चांदी की कीमतों (Gold Silver Price) में तेजी देखने को मिली है. लिहाजा सोमवार को घरेलू बाजार में भी इसका असर देखने को मिला है. आज सोने के अलावा चांदी के भाव (Silver Price) में भी इजाफा हुआ.एक्सपर्ट्स का कहना है कि त्योहारी सीजन के चलते देश में सोने-चांदी की हाजिर मांग बढ़ी है.उनका कहना है कि अमेरिका में चुनाव (US Election) से पहले अधिक राजकोषीय प्रोत्साहन उपायों की उम्मीदें और अमेरिका-चीन के बीच तनाव से आगे भी सोने की कीमतों में तेजी का अनुमान है. गुप्ता के मुताबिक विदेशी बाजार में भी सोने के दाम चढ़ेंगे और वहां सोने का भाव 1950 डॉलर और चांदी का भाव 26.50 डॉलर प्रति औंस का स्तर दिखा सकता है.

सोने की नई कीमतें (Gold Price, 21th October 2020) - राजधानी दिल्ली के सर्राफा बाजार में बुधवार को 10 ग्राम सोने का भाव 512 रुपये बढ़कर 51,415 रुपये प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गया है. इसके पहले मंगलवार को यह 50,903 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था. अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोना 1,921 डॉलर प्रति औंस पर पहुंच गया है.

चांदी की नई कीमतें (Silver Price, 21th October 2020) - सोने के साथ-साथ आज चांदी में भी तेजी देखने को मिली. चांदी आज 1,448रुपये प्रति किलोग्राम महंगी होकर 64,015 रुपये पर पहुंच गई है. इसके पहले यह 62,567 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुई ​था. अंतरराष्ट्रीय बाजार की बात करें तो यहां पर आज चांदी का भाव 2510 डॉलर प्रति औंस पर पहुंच गई.



अमेरिकी डॉलर और रुपये से गोल्ड की कीमतों पर क्या असर होता है? भारतीय सोने के मूल्य डॉलर के मुकाबले रुपये कीमत से प्रभावित होते हैं. हालांकि, सोने की अंतरराष्ट्रीय कीमतों पर इसका कोई असर नहीं पड़ता है. आमतौर पर सोने को आयात किया जाता है. इसलिए अमेरिकी मुद्रा की तुलना में रुपये के कमजोर होने से सोने की कीमतें भारतीय मुद्रा में बढ़ जाती हैं. इस तरह रुपये की कीमत घटने से सोने की मांग को चपत लगती है.सामान्य स्थिति में जब डॉलर कमजोर होता है तो सोना चढ़ता है. चूंकि अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोने की कीमतें डॉलर में होती हैं, इसलिए डॉलर में कमजोरी आने पर पीली धातु के दाम मजबूत होते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज