अपना शहर चुनें

States

लॉकडाउन के बीच लगातार तीसरे दिन सस्ता हुआ सोना! जानिए 10 ग्राम की नई कीमतें

आखिर क्यों सस्ता हुआ सोना खरीदना
आखिर क्यों सस्ता हुआ सोना खरीदना

Gold-Silver Price Today 26th May 2020-अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कीमतें गिरने से घरेलू बाजार में भी सोना खरीदना (Gold Price Today) सस्ता हो गया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. घरेलू बाजार में लगातार तीसरे दिन सोना खरीदना सस्ता (Gold-Silver Price Today 26th May 2020) हो गया है. मई में 47,980 रुपये का रिकॉर्ड स्तर बनाने के बाद घरेलू बाजार में सोना अब गिरकर 46799 रुपये के भाव पर आ गया है. इससे पहले मंगलवार को 24 कैरेट सोना यानी गोल्ड 999 का भाव शुक्रवार के मुकाबले 301 रुपया सस्ता हो गया था. इंडिया बुलियन एंड ज्वैलर्स एसोसिएशन की वेबसाइट (ibjarates.com) उनकी औसत कीमत अपटेड करती है.

क्यों सस्ता हुआ सोना- एक्सपर्ट्स का कहना है कि कई देशों में अब फिर से बिजनेस गतिविधियां शुरू हो गई है. इसीलिए शेयर बाजार में रौनक लौटी है. लिहाजा निवेशकों का रुझान अब सोने की ओर से कम हुआ है.

अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में सोने की कीमतें गिरकर 1710 डॉलर प्रति औंस पर आ गई है. ये दो हफ्ते का निचला स्तर है.



अब आगे क्या- दुनिया भर की रिसर्च रिपोर्ट की मानें तो अगले कुछ महीनों के दौरान भी सोने में निवेश जारी रहेगा. ऐसे में कीमतें 54,000 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर तक पहुंच सकती है.
शादी के लिए ज्वेलरी खरीदने से पहले रखें इन बातों का ख्याल-अगर आप ज्वेलरी खरीदने जा रहे हैं तो आपको बता दें कि हम ऐसे आभूषण खरीदते हैं जिनमें नग (पत्थर) जड़े होते हैं. ऐसे में कुछ बेईमान ज्वेलर पूरे नग का वजन करते हैं और इसे सोने की कीमत के साथ जोड़ देते हैं. यानी सोने के मूल्य के बराबर इनका दाम लगा दिया जाता है. इसे वापस बेचने पर सामान्य रूप से पत्थर के वजन और अशुद्धता को कुल मूल्य से घटा दिया जाता है.

(1) सोने की शुद्धता के हिसाब से सोने की ज्वेलरी अलग-अलग कैरेट में आती है. कैरेट सोने की शुद्धता का पैमाना है. सबसे शुद्ध सोना 24 कैरेट का होता है. ज्वेलरी अमूमन 22 कैरेट में आती है. इसमें 91.6 फीसदी सोना होता है.

(2) किन बातों पर निर्भर करता है सोने का दाम- सोने के गहनों का दाम दो चीजों पर निर्भर करता है.1-ज्वेलर में सोने का हिस्सा यानी वह 22 कैरेट की है या 18 कैरेट की 2-गहने बनाने के लिए सोने में मिलाए जाने वाली धातु

(3) मेकिंग चार्ज - मेकिंग चार्ज इस बात पर निर्भर करते हैं कि आप किस डिजाइन की ज्वेलरी खरीदने जा रहे हैं. कारण है कि हर एक गहने में कटिंग और फिनिशिंग के लिए अलग स्टाइल इस्तेमाल होता है.

(4) बीआईएस स्टैंडर्ड हॉलमार्क सोने की ज्वेलरी को सर्टिफाइड करने के लिए हॉलमार्किंग की जाती है. इसे भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) करता है. गहने खरीदते समय इसे जरूर देख लेना चाहिए.

ये भी पढ़ें-54 हजार तक पहुंच सकता है सोना! आज सोने-चांदी की कीमतों में इतने रुपए की हुई बढ़ोतरी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज