लाइव टीवी

आपकी जेब में है सोने की खान! जानिए गोल्ड से जुड़ी रोचक बातें

News18Hindi
Updated: May 3, 2019, 1:11 PM IST
आपकी जेब में है सोने की खान! जानिए गोल्ड से जुड़ी रोचक बातें
आपकी जेब में है सोने की खान! जानिए इससे जुड़ी रोचक बातें

मोबाइल फ़ोन, टैबलेट और लैपटॉप जैसे एक टन इलेक्ट्रॉनिक कचरे से क़रीब 350 ग्राम सोना निकाला जा सकता है.

  • Share this:
सोने की ये खान है आप का मोबाइल. मोबाइल ही नहीं, ऐसे ही तमाम इलेक्ट्रॉनिक सामानों में इतना सोना-चांदी होता है, जितना खदानों से बड़ी मशक़्क़त के बाद निकाला जाता है. किसी खदान से तीन से चार ग्राम सोना निकालने के लिए क़रीब एक टन अयस्क को छानना पड़ता है. वहीं, मोबाइल फ़ोन, टैबलेट और लैपटॉप जैसे एक टन इलेक्ट्रॉनिक कचरे से क़रीब 350 ग्राम सोना निकाला जा सकता है. इसको लेकर वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल की रिपोर्ट में कई बड़े खुलासे हुए है.

आइए जानें इससे जुड़ी रोचक बातें...

>> वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल की रिपोर्ट में बताया गया है कि मार्च तिमाही के दौरान टेक्नोलॉजी कंपनियों ने 79.3 टन सोना खरीदा है.

>> वहीं, इलेक्ट्रोनिक्स कंपनियों ने 62.9 टन और अन्य इंडस्ट्री कंपनियों ने 12.9 टन सोने की खरीदारी की है. रिपोर्ट बताती है कि पिछले एक तीन महीने में दातों के डॉक्टर्स ने भी 3.6 टन सोने की खरीदारी की है.

ये भी पढ़ें-भारत क्यों खरीद रहा है टनों सोना! जानिए ये राज़ की बात



>> आपको बता दें कि कर्नाटक में देश की सबसे ज्यादा सोने की खान है. इसमें कोलार, धारवाड़, रायचूर जिलों में स्थित है. इसके बाद आंध्रप्रदेश, झारखंड, केरल, मध्य प्रदेश में सोने और हीरे की खान है.
Loading...

>> संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट के मुताबिक़ केवल 20 प्रतिशत बेकार इलेक्ट्रॉनिक सामान ही रिसाइकिल किया जाता है. बाक़ी को लोग घरों में रखकर भूल जाते हैं. यहां यूं ही कहीं फेंक देते हैं.



ये भी पढ़ें-सोने से भरी है इन देशों की तिजोरी, जानिए भारत के पास है कितना

>> बढ़ रहा है ई-कचरा-संयुक्त राष्ट्र के आंकड़े बताते हैं कि साल 2016 तक दुनिया ने क़रीब साढ़े चार करोड़ टन इलेक्ट्रॉनिक कचरा पैदा किया था. ये कचरा हर साल 3-4 प्रतिशत की दर से बढ़ रहा है.

>> अगर आप इस इलेक्ट्रॉनिक कचरे को 18 पहियों वाले 40 टन के ट्रकों में लादें, तो इससे 12.3 करोड़ ट्रक भर जाएंगे. और इन ट्रकों को एक क़तार में खड़ा करें, तो पेरिस से सिंगापुर तक की दो लेन की सड़क भर जाएगी. 2021 तक दुनिया में इलेक्ट्रॉनिक कचरा 5.2 करोड़ टन पहुंचने की आशंका है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 3, 2019, 1:05 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...