दुनिया में सबसे तेजी से आर्थिक ग्रोथ करने वाला देश बनेगा भारत, GDP में आएगी 10% की ग्रोथ: रिपोर्ट

गोल्डमैन सैक्स का अनुमान- 2021-22 में तेजी से बढ़ेगी भारत की GDP
गोल्डमैन सैक्स का अनुमान- 2021-22 में तेजी से बढ़ेगी भारत की GDP

गोल्डमैन सैक्स (Goldman Sachs) ने कैलेंडर ईयर 2021 में भारत की जीडीपी 10 फीसदी (GDP growth) की दर से बढ़ सकती है. बता दें दुनिया की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में यह सबसे ज्यादा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 12, 2020, 8:58 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: कोरोना वायरस की वैक्सीन की खबर के बाद ग्लोबल रिसर्च और ब्रोकिंग हाउस गोल्डमैन सैक्स (Goldman Sachs) कैलेंडर ईयर 2021 में भारत की जीडीपी 10 फीसदी (GDP growth) की दर से बढ़ सकती है. बता दें दुनिया की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में यह सबसे ज्यादा है. Pfizer और BioNTech की वैक्सीन की खबर के बाद रिसर्च कंपनियों का अनुमान है कि भारत समेत दुनिया की सभी अर्थव्यवस्थाओं में तेजी आ सकती है. वहीं, 2022 में यह ग्रोथ करीब 7.3 फीसदी रह सकती है.

इकोनॉमी में आएगी तेजी
गोल्डमैन सैक्स के विश्लेषकों को उम्मीद है कि वैक्सीन आने के बाद भारतीय अर्थव्यवस्था में तेजी आएगी. रिसर्च कंपनी ने बताया कि अगले साल इकोनमॉमी में 'V(accine)-Shaped' रिकवरी देखने को मिलेगी. वहीं, भारत के कैलेंडर वर्ष 2022 के सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर 7.3 फीसदी रहने का अनुमान लगाया है, जो फिर से दुनिया की 11 सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में सबसे अधिक है.

यह भी पढ़ें: केंद्र की पहाड़ी राज्यों के लिए बड़ी घोषणा! हवाई परिवहन पर मिलेगी 50 फीसदी सब्सिडी
सितंबर में क्या लगाया था अनुमान


आपको बता दें सितंबर में ऋणदाता ने भारत के 2021 कैलेंडर ईयर की ग्रोथ 9.9 फीसदी और वित्तीय वर्ष 2021-22 में 15.7 फीसदी रहने का अनुमान लगाया था.

दुनियाभर के लोगों को है इस वैक्सीन से उम्मीदें
ऐसा माना जा रहा है कि अब तक जितनी भी वैक्सीन को लेकर खबरे आई हैं उसके हिसाब से फाइजर और बायोएनटेक की वैक्सीन सबसे ज्यादा असरदार होने वाली है. भारत समत दुनियाभर के लोगों को इस टीके से काफी उम्मीदें हैं

ग्लोबल ग्रोथ में आ सकती है हल्की गिरावट
इसके साथ ही उन्होंने रिपोर्ट में कहा कि कोरोनावायरस संक्रमण की दूसरी लहर अब संयुक्त राज्य अमेरिका और यूरोप में फैल रही है, जिसकी वजह से सरकारों ने पहले ही नए आंशिक लॉकडाउन के साथ सतर्कता बरतनी शुरू कर दी है. इस वजह से ग्लोबल ग्रोथ में थोड़ी निगेटिविटी देखने को मिल सकती है.

रिपोर्ट के मुताबिक, जिस तरह वैश्विक अर्थव्यवस्था ने इस साल की शुरुआत में लॉकडाउन से तेजी से वापसी की, उम्मीद थी कि यूरोपीय लॉकडाउन समाप्त होने और वैक्सीन उपलब्ध होने पर इकोनॉमी में तेजी आएगी.

यह भी पढ़ें: PNB ग्राहकों के लिए खुशखबरी, बैंक ने शुरू की ये नई सुविधा, अब मिनटों में निपटाएं सभी बैंकिग कामकाज

FDA ने दी जानकारी
FDA की रिपोर्ट के मुताबिक, जनवरी तक कम से कम एक टीका लगाने और बड़े पैमाने पर टीकाकरण जल्द ही शुरु हो सकता है, जैसा कि हम उम्मीद करते हैं, अप्रैल-जून में विकास दर में तेजी से ग्रोथ होगी. प
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज