एक से दूसरे शहर में Gold ले जाने के लिए जरूरी होगा ये बिल! जानिए पूरा मामला

एक से दूसरे शहर में Gold ले जाने के लिए जरूरी होगा ये बिल! जानिए पूरा मामला
जीएसटी काउंसिल की बैठक में केरल की ओर से सोने को राज्‍य के भीतर एक से दूसरी जगह ले जाने के लिए ई-वे बिल अनिवार्य करने का प्रस्‍ताव पेश किया गया.

जीएसटी काउंसिल (GST Council) के तहत एक उच्‍चस्‍तरीय मंत्रिसमूह (GoM) का मानना है कि इससे राज्‍य के भीतर सोना एक से दूसरी जगह लाने-ले जाने (Intra-State Gold Movement) पर नजर रखी जा सकेगी. इससे कीमतें ऊंची होने के दौरान कर चोरी (Tax Evasion) और सोने की तस्‍करी (Smuggling) पर रोक लगाई जा सकेगी. साथ ही वस्‍तु व सेवा कर (GST) की चोरी भी थमेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 15, 2020, 2:35 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. वस्‍तु व सेवा कर परिषद (GST Council) के तहत आने वाले एक उच्‍चस्‍तरीय मंत्रिसमूह (GoM) ने सोने को राज्‍य के भीतर एक जगह से दूसरी जगह लाने-ले जाने (Intra-State Movement) के लिए ई-वे बिल (E-Way Bill) का समर्थन किया है. मंत्रिसमूह का मानना है कि इससे सोने की कीमतें बढ़ने के दौरान राज्‍य में कीमती पीली धातु की आवाजाही (Gold Movement) की निगरानी कर टैक्‍स चोरी (tax Evasion) पर अंकुश लगाया जा सकेगा. इससे जीएसटी कलेक्‍शन को नियंत्रित करने में आसानी होगी. हालांकि, मंत्रिसमूह ने व्‍यवहारिक आधार पर इस नियम को पूरे देश में लागू करने के विचार को खारिज कर दिया. मंत्रिसमूह का कहना था कि जो राज्‍य चाहें वे खुद इस नियम को लागू कर सकते हैं.

50,000 रुपये के माल पर ई-वे बिल अनिवार्य, सोने के लिए ये सीमा कम
गोल्‍ड मूवमेंट के लिए ई-वे बिल के लिए केरल के वित्‍त मंत्री की अध्‍यक्षता वाले मंत्रिसमूह ने सोने के लेनदेन पर ई-इनवॉसिंग (e-invoicing) पर भी चर्चा की. इस मुद्दे पर काउंसिल कीअगली बैठक में भी चर्चा होगी. फिलहाल 50,000 रुपये मूल्‍य से ज्‍यादा के किसी भी माल को लाने-ले जाने के लिए ई-वे बिल अनिवार्य है, लेकिन सोने को इससे छूट दी हुई है. गोल्‍ड मूवमेंट के लिए ई-वे बिल का प्रस्‍ताव केरल की ओर से रखा गया था. बता दें कि हाल में केरल में सोने की तस्‍करी का बड़ा मामला सामने आया था. बताया जा रहा है कि जीएसटी लागू होने के बाद राज्‍य को सोने से होने वाले राजस्‍व में काफी कमी आई है.

ये भी पढ़ें- ...तो क्या अब पुराना Gold और जूलरी बेचने पर देना होगा GST? जानिए क्या है मामला
कर्नाटक ने भी केरल सरकार के प्रस्‍ताव का किया समर्थन


बिहार के उपमुख्‍यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने बताया कि केरल के प्रस्‍ताव पर बैठक में राज्‍यों की ओर से खुद गोल्‍ड मूवमेंट पर ई-वे बिल पेश करने पर सहमति बन गई है. हालांकि, पूरे देश में ऐसी व्‍यवस्‍था लागू करना व्‍यवहारिक नहीं होगा. ऐसे में अगर कोई राज्‍य चाहे तो इस व्‍यवस्‍था को अपने स्‍तर पर लागू कर सकता है, क्‍योंकि इसे एकसाथ पूरे देश में लागू करना काफी मुश्किल प्रक्रिया साबित होगी. बता दें कि बैठक के दौरान कर्नाटक (Karnataka) ने भी इंट्रा-स्‍टेट गोल्‍ड मूवमेंट का समर्थन किया.

ई-वे बिल के पार्ट-बी में दर्ज होता वाहन का रजिस्‍ट्रेशन नंबर
केरल सरकार का मानना है कि सोने को एक सूटकेश में ले जाकर ग्राहक के घर पहुंचकर बेचना बहुत आसान है. केरल का कहना है कि गोल्‍ड पर ई-वे बिल की व्‍यवस्‍था पूरे देश में (Countrywide) लागू की जानी चाहिए. हालांकि, सोने पर 50,000 रुपये की सीमा बहुत कम होगी. शुक्रवार को सोना 54,630 रुपये प्रति 10 ग्राम (Gold Price) पर बंद हुआ था. बता दें कि ई-वे बिल में दो हिस्‍से होते हैं. इसके पार्ट-बी में माल ले जाने वाले वाहन का रजिस्‍ट्रेशन नंबर दर्ज करना होता है.

ये भी पढ़ें- आपके भी हैं एक से ज्यादा Bank Account तो हो जाएं सावधान!वरना हो सकता है नुकसान

कानून में बदलाव पर अगली बैठक में की जाएगी चर्चा
सुशील मोदी ने कहा कि कम मात्रा में सोने को ले जाने के लिए किसी वाहन की दरकार ही नहीं होगी. ऐसे में वाहन संख्‍या (Vehicle Number) दर्ज करने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी. इसलिए इसके लिए अलग तरह के ई-वे बिल की जरूरत होगी. इसके लिए ऐसी व्‍यवस्‍था की जरूरत होगी, जिसमें सोना ले जाने वाले व्‍यक्ति की निगरानी हो सके. इसके लिए कुछ कानूनों (Law) में बदलाव की जरूरत होगी, जिन पर अगली बैठक में बातचीत होगी. इसके अलावा सोने के लेनदेन पर ई-इनवायसिंग की व्‍यवहारिकता के मुद्दे पर भी अगली बैठक में चर्चा की जाएगी.

ये भी पढ़ें- पीएम मोदी ने की हेल्थ आईडी कार्ड की घोषणा, जानिए क्या होगा आम आदमी को फायदा

1 अक्‍टूबर से लागू होगी ई-इनवायसिंग की व्‍यवस्‍था
देशभर में 500 करोड़ रुपये से ज्‍यादा का कारोबार करने वाली कपंनियों के लिए 1 अक्‍टूबर 2020 से ई-इनवायसिंग की व्‍यवस्‍था पेश की जा रही है. सुशील कुमार मोदी के अलावा मंत्रिसमूह में पश्चिम बंगाल के वित्‍त मंत्री अमित मित्रा और पंजाब के वित्‍त मंत्री मनप्रीत बादल भी सदस्‍य हैं. ये सभी ई-वे बिल की व्‍यवहारिकता और उसे लागू करने को लेकर चर्चा करते हैं. कोविड-19 महामारी के दौरान सोना निवेश के सुरक्षित विकल्‍प के तौर पर उभरकर सामने आया है. इस दौरान सोने की कीमतें आसमान छू रही हैं. इस साल अब तक सोने की कीमतें 40 फीसदी से ज्‍यादा बढ़ चकी हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज