GoM ने कोविड वैक्सीन पर 5% GST जारी रखने और PPE किट सहित इन पर टैक्स छूट की सिफारिश की: सूत्र

अभी इन मेडिकल प्रोडक्ट्स पर 12 से 18% GST लगता है.

सूत्रों ने बताया कि GoM ने अगले 3 महीने के लिए ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर, सैनिटाइजर, पीपीई किट, वेंटिलेटर आदि पर GST रेट में कटौती का सुझाव दिया है. गुरुवार को यह सुझाव वित्त मंत्रालय को सौंपा गया था.

  • Share this:

    नई दिल्ली. ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स (GoM) ने कोरोना वैक्सीन के साथ कोविड रिलेटेड मेडिकल इक्विपमेंटस् जैसे ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर, सैनिटाइजर, पीपीई किट, वेंटिलेटर आदि पर जीएसटी (GST) की दरों में कटौती पर अपनी सिफारिशें वित्त मंत्रालय को सौंप दी हैं. अपनी सिफारिश में  ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स ने कोविड वैक्सीन पर जीएसटी की दर पहले की तरह ही 5% पर बरकरार रखने का सुझाव दिया है. जबकि, ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स ने कोविड रिलेटेड मेडिकल इक्विपमेंटस् जैसे ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर, सैनिटाइजर, पीपीई किट, वेंटिलेटर आदि पर जीएसटी की मौजूदा दरों में कटौती करने का सुझाव दिया है. बिजनेस टुडे पर प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक, सूत्रों ने बताया कि ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स ने अगले 3 महीने के लिए ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर, सैनिटाइजर, पीपीई किट, वेंटिलेटर आदि पर जीएसटी  रेट में कटौती का सुझाव दिया है. गुरुवार को यह सुझाव वित्त मंत्रालय को सौंपा गया था.


    कोविड वैक्सीन और अन्य चीजों पर इतने जीएसटी की सिफारिश


    सूत्रों ने नाम नहीं बताने की शर्त पर बताया कि इनपुट टैक्स क्रेडिट के मसलों की वजह से ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स ने कोविड वैक्सीन पर जीएसटी 5% पर बरकरार रखने का सुझाव दिया, वहीं ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर, सैनिटाइजर, पीपीई किट, वेंटिलेटर आदि पर जीएसटी रेट को 3 महीने यानी अगस्त तक के लिए 5% करने की सिफारिश की. अभी इन मेडिकल प्रोडक्ट्स पर 12 से 18% जीएसटी लगता है. ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स ने अपनी सिफारिश में कहा कि वेंटिलेटर्स पर जीएसटी में कटौती करने से छोटे हॉस्पिटल भी इसे खरीद पाएंगे, जो कि कोरोना मरीजों के इलाज के लिए बहुत जरूरी है. इसके अलावा दान देने वाले लोग यानी समाज सेवा करने वाले लोग भी अस्पतालों को वेंटिलेटर खरीदकर दान कर पाएंगे. 


    ये भी पढ़ें - IT Refund: इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने FY22 में अप्रैल-मई के दौरान टैक्सपेयर्स को भेजे 26276 करोड़ रुपये, ऐसे चेक करें रिफंड का स्टेटस




    रिपोर्ट को GST Council के सामने पेश किया जाएगा


    अब ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स की इन सिफारिशों के आधार पर बनी रिपोर्ट को जीएसटी काउंसिल के सामने पेश किया जाएगा. ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स को यह रिपोर्ट सौंपने के लिए 8 जून का डेडलाइन दिया गया था, लेकिन ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स ने 4 दिन पहले ही यह रिपोर्ट वित्त मंत्रालय को सौंप दी. आपको बता दें कि 28 मई को जीएसटी की बैठक से पहले रेट फिटनमेंट कमिटी ने मेडिकल ऑक्सीजन, ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर और पल्स ऑक्सीमीटर पर जीएसटी में कटौती करने की सिफारिश की थी. लेकिन पीपीई किट और सैनिटाइजर आदि पर टैक्स में कटौती की सिफारिश नहीं की गई थी.