क्रिकेट प्रेमियों के लिए खुशखबरी! केंद्र सरकार ने BCCI को दी मैच के दौरान ड्रोन के इस्तेमाल की सशर्त मंजूरी

नागरिक विमानन मंत्रालय ने बीसीसीआई को क्रिकेट के सीधे प्रसारण में ड्रोन के इस्‍तेमाल की मंजूरी दे दी है.

नागरिक उड्डयन मंत्रालय (Civil Aviation Ministry) ने कहा कि खेल और मनोरंजन के क्षेत्र में ड्रोन (Drone) के इस्‍तेमाल का चलन बढ़ रहा है. क्रिकेट (Cricket) में ड्रोन के इस्तेमाल की सशर्त अनुमति देने के पीछे मकसद है कि देश में इसके कमर्शियल इस्तेमाल को बढ़ावा दिया जाए.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. अगर आप क्रिकेट मैच देखने के शौकीन हैं तो आपके लिए बड़ी खुशखबरी है. क्रिकेट मैच का आंखों देखा हाल एरियल सिनेमेटोग्राफी ( Aerial Cinematography) के जरिये दिखाने के लिए केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्रालय (Civil Aviation Ministry) और डीजीसीए (DGCA) ने बीसीसीआई को ड्रोन के इस्तेमाल की इजाजत दे दी है. बीसीसीआई को यह अनुमति पूरे साल यानी दिसंबर 2021 के इंडिया क्रिकेट सीजन के लिए दी गई है. दरअसल, क्रिकेट प्रेमियों को एरियल लाइव मैच दिखाने के लिए ड्रोन के इस्तेमाल को लेकर बीसीसीआई (BCCI) और क्विडिच (Quidich) ने नागरिक उड्डयन मंत्रालय से निवेदन किया था. मंत्रालय ने सशर्त इजाजत दी है.

    क्रिकेट समेत कई क्षेत्रों में बढ़ा है ड्रोन का इस्तेमाल
    नागरिक उड्डयन मंत्रालय में संयुक्त सचिव अम्बेर दूबे ने कहा कि देश के विभिन्‍न क्षेत्रों में ड्रोन के इस्तेमाल का चलन लगातार बढ़ रहा है. कृषि ,खनन और स्वास्थ्य या आपदा हर क्षेत्र में ड्रोन के इस्तेमाल की अहमियत बढ़ रही है. इसके अलावा खेल और मनोरंजन के क्षेत्र में भी इसका चलन बढ़ा है. क्रिकेट में ड्रोन के इस्तेमाल की अनुमति देने के पीछे मकसद है कि देश में इसके कमर्शियल इस्तेमाल को बढ़ावा दिया जाए. साथ ही कहा कि ड्रोन नियम 2021 को लेकर कानून मंत्रालय के साथ बातचीत अंतिम दौर में है. उम्मीद है कि मार्च 2021 तक इसकी मंजूरी मिल जाएगी.

    ये भी पढ़ें- दिल्‍ली में घर खरीदना हुआ सस्‍ता! DCHFCL ने ब्याज दर में की कटौती, 7.45% से घटाकर की 6.75 फीसदी

    क्रिकेट मैच लाइव दिखाने को कई शर्तें होंगी लागू
    बीसीसीआई को 31 दिसंबर 2021 तक के लिए ड्रोन के इस्तेमाल की मंजूरी मिली है. बीसीसीआई को मिले मंजूरी पत्र में स्पष्ट जिक्र किया गया है कि सभी निर्धारित स्थितियों और सीमाओं के अंदर ड्रोन के संचालन किए जाने पर ही इसके इस्तेमाल की छूट होगी. अगर बीसीसीआई इन नियमों की अनदेखी करता है तो उसे ड्रोन के इस्तेमाल की इजाजत रद्द कर दी जाएगी.

    ये भी पढ़ें- Tesla ने बिटक्‍वाइन में 1.5 अरब डॉलर किए निवेश, आया 14% का उछाल, जल्‍द कंपनी ग्राहकों से क्रिप्‍टोकरेंसी में लेगी भुगतान

    ड्रोन के इस्तेमाल के लिए शर्तें
    >> नागरिक उड्डयन मंत्रालय के एयरक्राफ्ट रूल्स 1937 के नियम-15ए से बीसीसीआई को ड्रोन के इस्तेमाल की छूट होगी.

    >> ड्रोन के संचालन से पहले बीसीसीआई को स्थानीय प्रशासन, रक्षा मंत्रालय, गृह मंत्रालय, इंडियन एयरफोर्स से एयर डिफेंस क्लियरेंस और एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया से सभी जरूरी अनुमति लेनी होगी.

    >> बीसीसीआई की तरफ से सिर्फ Quidich को ही निर्धारित स्‍टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसिजर के तहत ड्रोन के इस्तेमाल की अऩुमति होगी. सिर्फ उसी ड्रोन का इस्तेमाल किया जाएगा, जिसके लिए ड्रोन अकनॉलेजमेंट नंबर यानी  (DAN) हासिल किया गया होगा. किसी तरह के बदलाव से पहले बीसीसीआई डीजीसीए को सूचित करेगा.

    >> बीसीसीआई को यह सुनिश्चित करना होगा कि सिर्फ प्रशिक्षित और अनुभवी व्यक्ति ही ड्रोन को ऑपरेट करेंगे. यह भी सुनिश्चित करना होगा कि प्रशिक्षित व्यक्ति एफटीओ या आरपीटीओ से प्रशिक्षण लिया हो.

    ये भी पढ़ें- Gold Price Today: गोल्‍ड में आज आया मामूली उछाल, चांदी भी हुई महंगी, फटाफट देखें नए भाव

    >> ड्रोन ऑपरेटर ये सुनिश्चित करेगा कि ड्रोन वर्किंग कडिशन में है और निर्धारित एसओपी के तहत इसका रखरखाव किया गया है. अगर इसके संचालन से किसी प्रकार की अप्रिय घटना होती है तो उसकी जिम्मेदारी इसी की होगी.

    >> ड्रोन ऑपरेटर को प्रत्येक आरपीए फ्लाइट का रिकॉर्ड रखना होगा और डीजीसीए की ओर से मांगे जाने पर उपलब्ध कराना होगा.

    >> हवाई फोटोग्राफी के लिए बीसीसीआई को डायरेक्टोरेट ऑफ रेगुलेशन्स एंड इंफोर्मेशन डीजीसीए या रक्षा मंत्रालय से जरूरी अनुमति हासिल करनी होगी.

    >> ड्रोन द्वारा की गई वीडियोग्राफी या फोटोग्राफी का इस्तेमाल सिर्फ बीसीसीआई करेगा. ड्रोन से जुटज्ञए गए डाटा की जिम्मेदारी बीसीसीआई की होगी.

    >> ड्रोन के संचालक को सुनिश्चित करना होगा कि ड्रोन एनपीएनटी अनुपालन के तहत बनाया गया हो.

    >> ड्रोन का इस्तेमाल दिन के उजाले या पर्याप्त रोशनी में ही करना होगा.

    >> कार (CAR) के प्रावधानों के मुताबिक, हवाईअड्डों के आस-पास वाले इलाकों में ड्रोन का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा. अगर इस क्षेत्र में ड्रोन का संचालन करना है तो एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया से अनुमति लेनी होगी.

    >> ड्रोन संचालन से संबंधित किसी भी तरह के कानूनी मामले में बीसीसीआई डीजीसीए को नहीं घसीटेगा.

    >> बीसीसीआई सुनिश्चित करेगा कि ड्रोन काम करने की स्थिति में है और उपकरण के खराब होने के लिए जिम्मेदार होगा.

    >> बीसीसीआई सुनिश्चित करेगा कि ड्रोन के इस्तेमाल से किसी भी सामान को नहीं गिराया जाएगा. साथ ही सुनिश्चित करेगा कि ड्रोन के जरिये खतरनाक समाग्री का इस्तेमाल नहीं हो.

    ये भी पढ़ें- अपनी इंश्योरेंस पॉलिसी पर कैसे कम करें प्रीमियम का खर्च? इन 5 बातों का हमेशा रखें ध्यान

    >> बीसीसीआई यह भी सुनिश्चित करेगा कि ऑपरेटिंग एरिया में ड्रोन संचालन से संबंधित व्यक्ति के अलावा कोई व्यक्ति उपस्थित नहीं रहेगा.

    >> ड्रोन संचालकों, संपत्तियों और आम जनता की सेफ्टी, सिक्योरिटी और प्राइवेसी को भी बीसीसीआई सुनिश्चित करेगा. किसी भी घटना के लिए डीजीसीए को जिम्मेदार नहीं ठहराया जाएगा.

    >> ड्रोन संचालन के दौरान उपकरण के संपर्क में आने से अगर किसी व्यक्ति को चोट लगती है तो मेडिकल या कानूनी मामले में बीसीसीआई जिम्मेदार होगा.

    >> किसी भी दुर्घटना को कवर करने के लिए बीसीसीआई बीमा की व्यवस्था करेगा.

    >> ड्रोन संचालन के दौरान अगर किसी तरह की दुर्घटना होती है तो इसकी एक रिपोर्ट एयर सेफ्टी डायरेक्टोरेट डीजीसीए को सौंपनी होगी.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.