लाइव टीवी

किसानों के लिए बड़ी खबर! घर बैठे मदद के लिए सरकार ने उठाया बड़ा कदम

ओम प्रकाश | News18Hindi
Updated: April 8, 2020, 10:33 AM IST
किसानों के लिए बड़ी खबर! घर बैठे मदद के लिए सरकार ने उठाया बड़ा कदम
गन्ना 'पर्ची' की अव्यवस्था में पिस रहे हैं यूपी के किसान

KCC: लॉकडाउन में किसान फोन पर ले सकते हैं कृषि वैज्ञानिकों की मदद, ये है टोल फ्री नंबर, रोजाना जुड़ रहे 20 हजार किसान, आप भी उठाईए फायदा

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 8, 2020, 10:33 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Covid-19) लॉकडाउन के दौरान घर से बाहर न निकल पाने की वजह से किसान खासे परेशान हैं. न तो कृषि अधिकारी के यहां जा पा रहे हैं और न तो कृषि विज्ञान केंद्र लेकिन फसलों की कटाई, बुआई तो समय पर ही करनी होगी, ऐसे में उनके लिए किसान कॉल सेंटर (KCC- Kisan Call Center) बड़ा मददगार बनकर उभरा है. ऐसे कठिन वक्त में किसानों के सहयोग के लिए कृषि मंत्रालय (Ministry of Agriculture) ने किसान कॉल सेंटर चालू रखा गया है. कॉल सेंटर के नंबर को कृषि वैज्ञानिकों के पर्सनल मोबाइल पर डायवर्ट कर दिया गया है. ताकि किसानों को वे घर बैठे ही सलाह देते रहें. केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के मुताबिक इस समय रोजाना करीब 20 हजार किसान फोन करके खेती के लिए वैज्ञानिक सलाह ले रहे हैं.

फिर आप क्यों पीछे हैं. आपको खेती-किसानी में कोई समस्या आ रही है तो चिंता करने की जरूरत नहीं. देश में 21 किसान कॉल सेंटर हैं. किसी को भी बंद नहीं किया गया है. सबमें सुबह 6 बजे से रात 10 बजे तक आप फोन करके अपनी खेती से जुड़ी समस्याओं का समाधान पा सकते हैं. फार्म टेली एडवाइजर आपका सवाल सुनकर उसका जवाब देगा. इसके लिए 1800-180-1551 पर फोन करना होगा. यह नंबर लैंडलाइन या मोबाइल दोनों से मिल जाएगा.

 किसान कॉल सेंटर, केसीसी, किसान, मोदी सरकार, किसान कॉल सेंटर का टोल फ्री नंबर, kisan call centre, KCC, Modi Government, Farmers, toll free number of kcc, how to registration in kcc, ministry of agriculture, कृषि मंत्रालय, farm tele advisor, फार्म टेली एडवाइजर
अपनी फसलों के बारे में 22 भाषाओं में जानकारी ले सकते हैं किसान




विशेषज्ञ हैं फार्म टेली एडवाइजर



किसान कॉल सेंटर में करीब सवा सौ कृषि विशेषज्ञ कॉल रिसीव करते हैं और समस्याओं का समाधान करते हैं. ये एक्सपर्ट बागवानी, पशुपालन, मत्स्य पालन, कुक्कुट, मधुमक्खी पालन, रेशम उत्पादन, एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग, एग्रीकल्चर बिजनेस, जैव प्रौद्योगिकी, गृह विज्ञान में स्नातक, पीजी और डॉक्टरेट हैं. आमतौर पर अगर कॉल तुरंत रिसीव नहीं होती है तो किसान (Farmer) को बाद में किसान कॉल सेंटर से कॉल की जाती है. किसान कॉल सेंटर में रजिस्ट्रेशन करने पर किसानों को टेक्स्ट मैसेज या वाइस मैसेज भी भेजा जाता है.

मोबाइल पर जानकारी पाने के लिए रजिस्ट्रेशन- किसान 51969 या 7738299899 पर एक एसएमएस भेजकर रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं. रजिस्ट्रेशन ऐसे करें-

मैसेज बॉक्स में ये टाइप करें: "किसान GOV REG < नाम > , <राज्य का नाम>, <जिला का नाम>, <ब्लॉक का नाम>" संदेश लिखने के बाद 51969 या 7738299899 पर भेज दें.

इंटरनेट के जानकार किसानों के लिए वेब रजिस्ट्रेशन- वह किसान जिनके पास इंटरनेट की सुविधा हैं वो पोर्टल के माध्यम से रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं अथवा वह पास के कस्टमर सर्विस सेंटर (सीएससी) में जाकर रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं. वेब रजिस्ट्रेशन के लिए http://mkisan.gov.in/hindi/wbreg.aspx पर क्लिक करें.

 किसान कॉल सेंटर, केसीसी, किसान, मोदी सरकार, किसान कॉल सेंटर का टोल फ्री नंबर, kisan call centre, KCC, Modi Government, Farmers, toll free number of kcc, how to registration in kcc, ministry of agriculture, कृषि मंत्रालय, farm tele advisor, फार्म टेली एडवाइजर
लॉकडाउन में किसानों का मददगार है कॉल सेंटर


क्या है मकसद 

किसान कॉल सेंटरों की शुरुआत कृषि मंत्रालय और भारत सरकार के प्रयास के द्वारा 21 जनवरी 2004 को हुई थी. मकसद था किसानों समस्यों का निवारण तुरंत करने का. वो भी स्थानीय भाषा में. न कि सिर्फ हिंदी और अंग्रेजी में. यही कारण है कि सभी राज्यों और जगहों के हिसाब से किसान कॉल सेंटर बनाए गए हैं. जिनमें हिंदी के अलावा मराठी, गुजराती, तेलगु, भोजपुरी, छत्तीसगढ़ी, तामिल और मलयालम सहित 22 भाषों में जानकारी मिलती है.

ये भी पढ़ें:  PM-किसान सम्मान निधि स्कीम: किसानों को खेती के लिए मिली 62 हजार करोड़ रुपये की मदद!

कैसे लुप्त हो गई सरस्वती नदी और सिंधु घाटी सभ्यता, वैज्ञानिकों की नई खोज

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 8, 2020, 9:28 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading