होम /न्यूज /व्यवसाय /

किसानों के लिए बड़ी खबर! ग्‍लोबल मार्केट में 7 साल के उच्‍चस्‍तर पर पहुंचीं कपास की कीमतें

किसानों के लिए बड़ी खबर! ग्‍लोबल मार्केट में 7 साल के उच्‍चस्‍तर पर पहुंचीं कपास की कीमतें

टेक्‍सटाइल इंडस्‍ट्री में कपास की मांग में लगातार बढ़ोतरी हो रही है.

टेक्‍सटाइल इंडस्‍ट्री में कपास की मांग में लगातार बढ़ोतरी हो रही है.

कपड़ा उद्योग (Textile Industry) में कपास की मांग में पिछले कुछ समय में इजाफा दर्ज किया है. साल 2021-22 के लिए ग्लोबल कॉटन का स्टॉक करीब 8.93 करोड़ गांठ (Cotton Bales) रहने का अनुमान जताया गया है.

    नई दिल्‍ली. कपास की खेती इस साल भारतीय किसानों के लिए फायदेमंद साबित हो रही है. अब कपास उत्‍पादकों (Cotton Producers) के लिए ग्‍लोबल मार्केट से अच्‍छी खबर आ रही है. वैश्विक बाजार में कपास की कीमतें (Global Market Prices) 7 साल के उच्‍चस्‍तर पर पहुंच गई हैं. इससे भारतीय कॉटन की कीमतें (Cotton Prices) जुलाई 2021 में दर्ज किए गए उच्‍चस्‍तर के करीब पहुंच गई हैं. इस हफ्ते कपास की कीमतों में 3 फीसदी का उछाल दर्ज किया गया है. वहीं, जुलाई 2021 में इसके दाम 10 फीसदी बढ़े थे. वैश्विक कीमतों में 97 सेंट प्रति कपास की गांठ (Cotton Bales) की तेजी आई है. यह तेजी तब आई है, जब ग्लोबल मार्केट में कॉटन की आपूर्ति में कमजोरी आ गई है.

    भारत से निर्यात में 54% बढ़ोतरी
    कपड़ा उद्योग (Textile Industry) में कपास की मांग में पिछले कुछ समय में इजाफा दर्ज किया है. साल 2021-22 के लिए ग्लोबल कॉटन का स्टॉक करीब 8.93 करोड़ गांठ रहने का अनुमान जताया गया है. यह पिछले 3 साल में सबसे कम है, जबकि वैश्विक उत्‍पादन 5 फीसदी बढ़कर 11.8 करोड़ गांठ होने की उम्मीद की जा रही है. यह अब भी कोरोना महामारी के पहले के उत्‍पादन से काफी कम है. भारतीय बाजार में फसल के मजबूत होने की उम्मीद है. वहीं, निर्यात में पिछले साल के मुकाबले 54 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. इन सभी वजहों के चलते कपास की कीमतों में इजाफा हो रहा है.

    ये भी पढ़ें- पेट्रोल-डीजल की आसमान छूती कीमतों से मिलेगी राहत! जानें Fuel Cards कैसे करेंगे आपकी बचत में मदद

    बढ़ेगा कपास की बुवाई का रकबा
    वैश्विक बाजार में मार्च 2021 के दौरान कपास के दाम में आई तेजी के बाद देश में कपास का भाव न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) से 15 फीसदी बढ़ गया. सरकार ने कपास का एमएसपी 5,825 रुपये प्रति क्विंटल और मध्यम लंबाई वाले रेशा कपास का एमएसपी 5,515 रुपये प्रति क्विंटल तय किया था. उस समय गुजरात में कपास का भाव 6,500 रुपये प्रति क्विंटल था. कपास की कीमतें अब 7 साल के उच्‍चस्‍तर पर पहुंच गई हैं. इससे अगले सीजन में कपास की खेती के प्रति किसानों की दिलचस्पी बढ़ेगी. साथ ही कपास की बुवाई के रकबे में पिछले साल के मुकाबले इजाफा होगा.

    Tags: Agriculture producers, Business news in hindi, Farmers, India agriculture

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर