होम /न्यूज /व्यवसाय /किसानों के लिए खुशखबरी! सरकार ने दिए नैनो यूरिया की बिक्री बढ़ाने के निर्देश

किसानों के लिए खुशखबरी! सरकार ने दिए नैनो यूरिया की बिक्री बढ़ाने के निर्देश

नैनो यूरिया की उपलब्धता बढ़ सकती है.

नैनो यूरिया की उपलब्धता बढ़ सकती है.

नैनो यूरिया के इस्तेमाल से सरकार पर सब्सिडी का बोझ कम हो सकता है और किसानों को भी बचत होगी. किसानों को 41 रुपये प्रति ब ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली. किसानों के लिए राहत भरी खबर है. अब नैनो यूरिया की उपलब्धता बढ़ सकती है. इससे उर्वरा शक्ति बचाने में मदद मिलेगी ही, किसानों का पैसा, परिश्रम और समय भी बचाएगी. दरअसल, फर्टिलाइजर सब्सिडी कम करने और फर्टिलाइजर की उपलब्धता बढ़ाने के लिए सरकार ने फर्टिलाइजर कंपनियों को नैनो यूरिया (Nano Urea) की बिक्री बढ़ाने के निर्देश दिए हैं.

फर्टिलाइजर कंपनियों को निर्देश 
सरकार का दावा है कि इससे किसानों को भी बचत होगी और भारत फर्टिलाइजर में जल्दी से आत्मनिर्भर बन सकेगा. सरकार ने फर्टिलाइजर कंपनियों को निर्देश दिए है. सरकार ने फर्टिलाइजर कंपनियों के सीईओ को चिट्ठी लिखी है.

ये भी पढ़ें- किसानों के लिए खुशखबरी! प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में हो सकता है बदलाव, जानें स्कीम के फायदे

सरकार पर सब्सिडी का बोझ हो सकता है कम
सरकार का कहना है कि कंपनियां नैनो यूरिया की बिक्री बढ़ाने की तरफ कदम उठाए. इससे सरकार पर सब्सिडी का बोझ कम हो सकता है. साथ ही यूरिया की उपलब्धता भी बढ़ सकती है.

किसानों को भी होगी बचत
नैनो यूरिया के इस्तेमाल से किसानों को भी बचत होगी. किसानों को 41 रुपये प्रति बोरी की बचत संभव है. नैनो यूरिया की 500 ग्राम की बोतल पर 225 रुपये की बचत होगी.”

नैनो यूरिया पर किसी भी तरह की सब्सिडी नहीं
यूरिया के सब्सिडी वाले बैग की कीमत 266 रुपये है. वहीं, नैनो यूरिया पर किसी भी तरह की सब्सिडी नहीं है. सरकार का कहना है कि कंपनियां किसानों को नैनो यूरिया के इस्तेमाल के लिए बढ़ावा दें. राज्यों के कृषि निदेशकों को भी नैनो यूरिया इस्तेमाल बढ़ाने के निर्देश दिए है.”

ये भी पढ़ें- किसानों को नहीं चुकाना पड़ेगा बिजली बिल! बारिश से आहत किसानों को अब सरकार ने दी राहत

यूरिया उत्पादन में आत्मनिर्भरता के लिए भारत तेजी से तरल नैनो यूरिया की ओर बढ़ रहा है: PM
हाल ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नैनो यूरिया को कम खर्च में अधिक उत्पादन का माध्यम बताते हुए कहा था कि यूरिया उत्पादन में आत्मनिर्भरता के लिए भारत तेजी से तरल नैनो यूरिया की ओर बढ़ रहा है. प्रधानमंत्री ने यहां स्थित भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान के पूसा मेला ग्राउंड में दो दिवसीय पीएम किसान सम्मान सम्मेलन 2022 का उद्घाटन किया और प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अंतर्गत 16 हजार करोड़ रुपये की 12वीं किस्त जारी करने के बाद अपने संबोधन में यह बात कही.

Tags: Farmer, Urea production

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें