मोदी सरकार ने पके और छिले नारियल के लिए घोषित किया 2,700 रुपये क्विंटल MSP

मोदी सरकार ने पके और छिले नारियल के लिए घोषित किया 2,700 रुपये क्विंटल MSP
मोदी सरकार ने घोषित किया पके, छिले नारियल का एमएसपी

2020 के लिए 2,700 रुपये प्रति क्विंटल घोषित किया गया पके छिले नारियल का न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP), 2019 में 2,571 रुपये था रेट

  • Share this:
नई दिल्ली. मोदी सरकार ने मंगलवार को पके और छिले नारियल के लिए 2020 सीजन का न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP-Minimum Support Price) 2,700 रुपये प्रति क्विंटल घोषित कर दिया. जबकि, 2019 सीजन में इसका रेट 2,571 रुपये था. इसका मतलब ये कि एमएसपी में 5.02 प्रतिशत की बढ़ोतरी की गई है. इस बढ़ोतरी से लाखों किसानों को लाभ मिलेगा. केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर का कहना है कि केंद्र सरकार ने देश भर में सभी उपज के किसानों के हितों को सर्वोपरि रखा है.

तोमर ने कहा कि छोटे नारियल किसानों की फसल होने के नाते किसानों के स्तर पर एकत्रीकरण और खोपरा बनाने के लिए व्यवस्था करना आम बात नहीं है. खोपरा का न्यूनतम समर्थन मूल्‍य 2020 फसल सीजन के लिए प्रति क्विंटल 9,960 रुपये है. फिर भी छिले नारियल के लिए उच्चतर न्यूनतम समर्थन मूल्‍य की घोषणा से ऐसे छोटे किसानों को तुरंत नकद मिलना सुनिश्चित हो जाता है, जो उत्पाद को अपने पास रखने में असमर्थ होते हैं.

ये भी पढ़ें-एक स्पेलिंग ने किसानों के डुबोए 4200 करोड़ रुपये, ऐसे ठीक होगी गलती



जिनके पास खोपरा बनाने के लिए अपर्याप्त सुविधा होती है. उनके लिए भी यह कदम सहायक होगा.  कोविड-19 महामारी के संकट के दौर में न्यूनतम समर्थन मूल्‍य में बढ़ोतरी नारियल किसानों को राहत पहुंचाएगी, जो महामारी और इसकी वजह से सप्‍लाई चेन में उत्‍पन्‍न व्‍यवधान से पहले ही काफी प्रभावित हो चुके हैं.
ये भी पढ़ें: कैसे चाइनीज सामान के लिए मजबूर होते गए भारतीय लोग?

उल्लेखनीय है कि सरकार ने 1 जून से खरीफ फसलों का भी बढ़ा हुआ और नया एमएसपी लागू कर दिया है. धान, ज्चार, बाजारा, मक्का, उड़द, मूंगफली और सोयाबीन का समर्थन मूल्य पहले ही बढ़ाया गया है. बताया जाता है कि हर्टिकल्चर में नारियल एकमात्र फसल है जिसका न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित होता है. इसके नए एमएसपी की भी सरकार ने घोषणा कर दी.

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज