अपना शहर चुनें

States

किसानों के लिए अच्‍छी खबर! अब बीज से पता चल जाएगा कैसी होगी फसल

एग्रीकल्‍चर स्‍टार्टअप अगधी की बनाई एआई तकनीक से परखे गए बीजों का इस्‍तेमाल कर किसान नुकसान उठाने से बच जाएंगे.
एग्रीकल्‍चर स्‍टार्टअप अगधी की बनाई एआई तकनीक से परखे गए बीजों का इस्‍तेमाल कर किसान नुकसान उठाने से बच जाएंगे.

एग्रीकल्‍चर स्टार्टअप (Agriculture Startup) 'अगधी' ने कृषि क्षेत्र में विजन से लैस आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस टेक्‍नोलॉजी (AI Technology) पेश की है. इसकी मदद से अब बीज (Seeds) देखकर ही पता चल जाएगा कि फसल (Crop) कैसी हो सकती है. इसके बाद किसान इस रिपोर्ट के आधार पर बीजों का चयन (Seed Selection) कर बुआई कर सकेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 14, 2021, 9:36 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. किसानों की आय (Farmers' Income) और फसल बढ़ाने के लिए सिर्फ सरकार ही प्रयास नहीं कर रही है. इस दिशा में कृषि वैज्ञानिक, विशेषज्ञों समेत कई स्‍टार्टअप भी काम कर रहे हैं. इसी कड़ी में एग्रीकल्‍चर स्‍टार्टअप (Agriculture Startup) 'अगधी' ने खास आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस टेक्‍नोलॉजी (AI Technology) पेश की है. इसकी मदद से बीजों (Seeds) को देखकर ये पता लगाया जा सकेगा कि फसल की गुणवत्‍ता (Crop Quality) कैसी होगी. साथ ही ये भी पता चल जाएगा कि किस बीज के इस्‍तेमाल से कितनी पैदावार हो सकती है. स्टार्टअप के संस्थापक निखिल दास का कहना है कि यह तकनीक फसल की पैदावार बढ़ाकर किसानों की आय बढ़ाने में मदद करेगी.

किसानों को मिलेंगे अच्‍छे बीज और ज्‍यादा पैदावार
स्टार्टअप के तहत बीज और फसलों में कमी जानने के लिए मशीन लर्निंग और कंप्‍यूटर विजन तकनीक का इस्‍तेमाल किया जाएगा. इसकी मदद से किसान को अच्छे बीज और ज्‍यादा पैदावार मिल सकेगी. किसान कमजोर बीज की बुआई कर नुकसान उठाने से बच जाएंगे. स्टार्टअप की नई तकनीक की मदद से सिर्फ कुछ सेकेंड में पता लगाया जा सकता है कि बीच की गुणवत्‍ता कैसी है. वहीं, पुरानी तकनीक से किसानों को लंबा इंतजार करना पड़ता है. एआई तकनीक की मदद से बीज की जांच करने, बीज की सैंपलिंग करने और फसल की उपज में अंतर आसानी पता लगाया जा सकेगा, जो आज की जरूरत है.


ये भी पढ़ें- Signal App बेहतर सर्विस के लिए करेगा बड़े पैमाने पर भर्तियां, महज 7 दिन में हासिल की 62 गुना बढ़ोतरी



आटोमेटिक मशीनों से की जाएगी बीजों की जांच
बीज में कमियों का पता लगाने के पारंपरिक तरीके फिजिकल टेस्‍ट पर निर्भर करते हैं. इस तकनीक से ऑटोमैटिक मशीनों से बीजों की जांच की जा सकेगी. 'अगधी' की एआई विजन  तकनीक फोटोमेट्री, रेडियोमेट्री और कंप्‍यूटर विजन की मदद से बीज की गुणवत्‍ता की जांच करेगी. बीज की इमेज से उसका रंग, बनावट और आकार निकालकर कंप्‍यूटर विजन से बीज की कमियों की पहचान की जाएगी. बीजों की छंटाई के लिए किसी व्यक्ति द्वारा निरीक्षण करने की अपेक्षा यह ऑटोमेटिक तकनीक ज्यादा कारगर होगी. यह तकनीक बीजों का प्रोडक्शन करने वाली कंपनियों के लिए अधिक उपयोगी है. अगधी के संस्थापक निखिल दास के अनुसार, नई तकनीक के लॉन्च करने के साथ पैदावार बढ़ाने के लिए अब इलेक्ट्रॉनिक यंत्र बनाने की योजना है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज