मजदूरों के लिए खुशखबरी! पैसे नहीं मिलने पर सीधे कर सकेंगे सरकार को शिकायत

न्यूनतम मजदूरी नहीं मिलने की शिकायतों के निवारण के लिए टोल फ्री फोन नंबर रखने की सिफारिश की गयी है.

News18Hindi
Updated: July 5, 2019, 10:21 AM IST
मजदूरों के लिए खुशखबरी! पैसे नहीं मिलने पर सीधे कर सकेंगे सरकार को शिकायत
न्यूनतम मजदूरी की शिकायतों को दूर करने के लिए सरकार लाएगी टोल फ्री नंबर
News18Hindi
Updated: July 5, 2019, 10:21 AM IST
निचले स्तर पर आर्थिक असमानता कम करने के लिए आर्थिक समीक्षा में इस बात पर जोर दिया गया है कि देश में एक अधिक समावेशी न्यूनतम मजदूरी प्रणाली स्थापित किये जाने की जरूरत है. यह प्रणाली श्रमिकों की सुरक्षा और गरीब उन्मूलन में कारगर भूमिका निभा सकती है. इसके साथ ही न्यूनतम मजदूरी नहीं मिलने की शिकायतों के निवारण के लिए टोल फ्री फोन नंबर रखने की सिफारिश की गयी है. जिससे लोग अपनी-परेशानियों को सरकार तक पहुंचा सखें.

इसके अलावा श्रम और रोजगार मंत्रालय के अंतर्गत राज्‍य सरकारों तक पहुंच वाला एक राष्‍ट्रीय स्‍तर का डैश बोर्ड स्‍थापित किया जा सकता है. कानूनी रूप से निर्धारित न्‍यूनतम मजदूरी का भुगतान नहीं होने पर शिकायतें दर्ज करने के लिए एक टोल फ्री नम्‍बर स्‍थापित करने की सिफारिश भी समीक्षा में की गयी है.

5 लाख तक सालाना इनकम पर टैक्स में छूट पर भरना होगा ITR

समीक्षा में कहा गया है कि एक प्रभावी न्‍यूनतम मजदूरी नीति औसत मांग बढ़ाने में मदद कर सकती है और मध्‍यम वर्ग को मजबूती प्रदान कर सकती है, जिसके परिणामस्‍वरूप निरंतर और समग्र विकास होगा. सरकार को ‘न्‍यूनतम मजदूरी के लिए एक राष्‍ट्रीय स्‍तर का एक मंच’ बनाना चाहिए, जो पांच भौगोलिक क्षेत्रों में विस्‍तृत रूप से फैला हो.

इसके बाद राज्‍य विभिन्‍न स्‍तरों पर अपनी न्‍यूनतम मजदूरी तय कर सकते हैं, जो ‘इस मंच में निर्धारित मजदूरी’ से कम नहीं होनी चाहिए. इससे देश भर में न्‍यूनतम मजदूरी में कुछ समानता लाई जा सकेगी और निवेश के लिए राज्‍यों को समान रूप से आकर्षित बनाया जा सकेगा. इससे पलायन रोकने में भी मदद मिलेगी.

PM मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट पर बजट में रहेगा खास फोकस

टोल फ्री नंबर की जरूरत
Loading...

समीक्षा में कहा गया है कि कानूनी तौर पर निर्धारित न्‍यूनतम मजदूरी का भुगतान नहीं होने पर शिकायत दर्ज करने के लिए आसानी से याद रखने लायक एक टोल फ्री नम्‍बर होना चाहिए और इसका काफी प्रचार किया जाना चाहिए, ता‍कि कम मजदूरी लेने वाले श्रमिकों को अपनी शिकायत दर्ज कराने के लिए एक मंच मिल सके. आर्थिक समीक्षा के अनुसार एक प्रभावी न्‍यूनतम मजदूरी प्रणाली की स्‍थापना एक तात्‍कालिक आवश्‍यकता है, जिसका विकास के विविध आयामों पर लाभकारी प्रभाव पड़ेगा.

आम बजट 2019 की सही और सटीक खबरों के लिए न्यूज18 हिंदी पर आएं. वीडियो और खबरों  के लिए यहां क्लिक करें
First published: July 5, 2019, 10:21 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...