अपना शहर चुनें

States

इंडियन इकोनॉमी के लिए अच्‍छी खबर! दिसंबर 2020 तिमाही में 1.3 फीसदी हो सकती है देश की जीडीपी

DBS Bank की रिपोर्ट के मुताबिक, दिसंबर 2020 तिमाही में सकारात्‍मक होगी भारत की जीडीपी.
DBS Bank की रिपोर्ट के मुताबिक, दिसंबर 2020 तिमाही में सकारात्‍मक होगी भारत की जीडीपी.

डीबएस बैंक (DBS Bank) की रिपोर्ट के मुताबिक, वित्‍त वर्ष 2020-21 की तीसरी तिमाही में भारत का सकल घरेलू उत्‍पाद (GDP) सकारात्‍मक हो सकता है. चालू वित्‍त वर्ष की शुरुआती दोनों तिमाही के दौरान कोरोना संकट के कारण देश की अर्थव्‍यवस्‍था (Indian Economy) में बड़ी गिरावट दर्ज की गई थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 23, 2021, 9:47 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र सरकार शुक्रवार यानी 26 फरवरी 2021 को चालू वित्‍त वर्ष की अक्‍टूबर-दिसंबर 2020 तिमाही के लिए देश के सकल घरेलू उत्‍पाद (GDP) के आंकड़े जारी करेगी. इससे पहले डीबीएस बैंक (DBS Bank) ने भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था (Indian Economy) को लेकर अच्‍छे संकेत दिए हैं. डीबीएस बैंक की रिपोर्ट के मुताबिक, वित्‍त वर्ष 2020-21 की तीसरी तिमाही में जीडीपी सकारात्‍मक हो सकती है. रिपोर्ट में कहा गया है कि देश की जीडीपी चालू वित्त वर्ष की दिसंबर तिमाही के दौरान सकारात्‍मक होकर 1.3 फीसदी पर पहुंच सकती है. बता दें कि शुरुआती दो तिमाहियों के दौरान कोरोना संकट के कारण देश की अर्थव्‍यवस्‍था में बड़ी गिरावट दर्ज की गई थी.

आम लोगों के खर्च में तेज बढ़ोतरी से मिलेगा बड़ा फायदा
डीबीएस बैंक की रिपोर्ट में कहा गया है कि वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान जीडीपी में 6.8 प्रतिशत की गिरावट रह सकती है. हालांकि, कैलेंडर वर्ष 2020 की आखिरी तिमाही में जीडीपी दर सकारात्मक दायरे में आ सकती है. डीबीएस समूह की शोध अर्थशास्त्री राधिका राव ने कहा कि देश में कोविड-19 की स्थिति में तेजी से सुधार आना और आम लोगों के खर्च में तेजी से बढ़ोतरी होना दिसंबर 2020 तिमाही के लिए बेहतर साबित होगा. बता दें कि देश की जीडीपी में पहली तिमाही यानी अप्रैल-जून 2020 के दौरान 24 फीसदी, जबकि दूसरी तिमाही यानी जुलाई-सितंबर 2020 में 7.5 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई थी.

ये भी पढ़ें- स्‍टेट बैंक रिटायरमेंट के बाद की आर्थिक जरूरतों को SBI Pension Loan से करेगा पूरा, ब्‍याज दर समेत जानें इस बारे में सबकुछ
अगले वित्‍त वर्ष के लिए क्‍या हैं जीडीपी को लेकर अनुमान


रिपोर्ट के मुताबिक, तीसरी तिमाही में जीडीपी सकारात्मक हो जाएगी और 1.3 फीसदी की वृद्धि दर्ज की जाएगी. डीबीएस बैंक की शोध रिपोर्ट के मुताबिक, आर्थिक गतिविधियों से पाबंदी हटने के बाद फेस्टिव सीजन में मांग बढ़ने, खपत बढ़ने और क्षमता उपयोग में सुधार से भारतीय अर्थव्यवस्था में सुधार आया. साथ ही विभिन्‍न क्षेत्रों में भी गतिविधियां शुरू हुई हैं. वर्ष 2020-21 की आर्थिक समीक्षा में अगले वित्त वर्ष के दौरान 11 फीसदी बढ़ोतरी का अनुमान लगाया गया है. यह अनुमान रिजर्व बैंक (RBI) के 10.5 फीसदी वृद्धि के अनुमान से थोड़ा ज्‍यादा है. हालांकि, अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) के मुताबिक 2021 में भारत 11.5 प्रतिशत वृद्धि हासिल करेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज