चाइनीज के खिलाफ भारतीय कंपनियों ने मारी बाजी! दुनिया के मशहूर गारमेंट ब्रैंड ने दिए करोड़ों रुपये के ऑर्डर

चाइनीज के खिलाफ भारतीय कंपनियों ने मारी बाजी! दुनिया के मशहूर गारमेंट ब्रैंड ने दिए करोड़ों रुपये के ऑर्डर
भारतीय कंपनियों को मिले करोड़ों रुपये के ऑर्डर

बीते कुछ महीनों में दुनियाभर के बड़े ब्रैंड्स अब चीन की कंपनियों (Chinese Companies) को छोड़कर भारतीय कंपनियों (Indian Companies) को ऑर्डर दे रहे है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 5, 2020, 11:29 AM IST
  • Share this:
मुंबई. दुनिया के बड़े बैंड अब चीन (China) को छोड़ भारत की ओर अग्रसर होने लगे हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बीते कुछ महीनों में कई भारतीय कंपनियों (Indian Companies) को दुनिया के बड़े क्लॉथ ब्रैंड से करोड़ों रुपये के ऑर्डर मिले हैं. अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी खबर में बताया गया है कि हाल में जर्मन ब्रांड मार्क पोलो ने अपने भारतीय वेंडर वारसॉ इंटरनेशनल को नया ऑर्डर दिया है. वहीं, कार्टर ने भारतीय कंपनी एसपी अपेरल्स को मानव निर्मित फाइबर से कपड़े बनाने का ऑर्डर दिया है.

टाइम्स ऑफ इंडिया को भारतीय वेंडर वारसॉ इंटरनेशनल के प्रोपराइटर राजा शनमुगम ने बताया कि जब जर्मन ब्रांड मार्क पोलो ने जर्सी सप्लाई के लिए ऑर्डर दिया तो उन्होंने बताया कि ये हमें पता था कि यह ऑर्डर दूसरे ऑर्डर्स से अलग है. इससे पहले चीन में उनकी प्रतिद्वंद्वी कंपनी मार्क पोलो को यह उत्पाद सप्लाई करती थी. उन्होंने कहा कि हमारे पास बहुत बड़ा ऑर्डर है. यह हमारे और देश के लिए इम्तहान की तरह है. अगर हम इनका आर्डर पूरा करने में सक्षम रहे तो कई वैश्विक ब्रांड भारत आएंगे.शनमुगम, तिरुपुर एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन के प्रमुख भी हैं. उनका कहना है कि मुझे इस सीजन में सोर्सिंग में 25% वृद्धि की उम्मीद है.

शनमुगम ने बताया कि इस सीजन (आम तौर पर 1 सितंबर से शुरू होता है) में भारत को ग्लोबल ब्रांड्स से कई बड़े आर्डर मिलने की संभावना है. हम केवल यही चाहते हैं कि 6 महीने की मोरेटोरियम अवधि बढ़ाई जाए, क्योंकि हम फिर से पटरी पर लौटने के शुरुआती दौर में हैं. हमें सरकार की मदद की जरूरत है.



'ड्रैगन' को लगेगा एक और झटका! चीन छोड़कर भारत आने वाली कंपनियों को जापान देगा सब्सिडी
इसी तरह, कार्टर ने भारतीय कंपनी एसपी अपेरल्स को मानव निर्मित फाइबर से कपड़े बनाने का आर्डर दिया है. यह कंपनी ज्यादातर सप्लाई भारत से पूरा करने के मूड में है. कार्टर दुनिया के सबसे बड़े बेबी वियर ब्रांड में शामिल है. एसपी अपेरल्स के एमडी ने कहा कि यदि यह मौका मिलता है तो यह एक बहुत बड़ा अवसर है.



मार्च 2020 में समाप्त हुए वित्त वर्ष में तिरुपुर से परिधान निर्यात घटकर 25,000 करोड़ रुपये रह गया, जो पिछले वर्ष 26,000 करोड़ रुपये था. पिछले वित्त वर्ष में घरेलू बिक्री 25,000 करोड़ रुपये थी. शहर में 6 लाख श्रमिक कार्यरत हैं, जिनमें से आधे अन्य राज्यों से हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज