इंडियन स्‍टूडेंट्स के लिए खुशखबरी! छात्रों को विशेष विमान से विदेश पहुंचा रही ये प्राइवेट एयरलाइन

विदेश में एजुकेशनल इंस्‍टीट्यूट्स खुलने शुरू हो गए हैं. ऐसे में इंडियन स्‍टूडैंट्स का विदेश जाने का सिलसिला शुरू हो गया है.
विदेश में एजुकेशनल इंस्‍टीट्यूट्स खुलने शुरू हो गए हैं. ऐसे में इंडियन स्‍टूडैंट्स का विदेश जाने का सिलसिला शुरू हो गया है.

स्‍पाइस जेट (Spice Jet) का अगला चार्टर विमान कल यानी 11 अक्टूबर को 174 छात्रों के साथ जॉर्जिया के लिए उड़ान भरेगा. कोच्चि से यह विमान कल सुबह 3:45 बजे उड़ान (Flight) भरेगा, जो स्थानीय समय के अनुसार 11:55 बजे पहुंचेगा. कोरोना काल में स्पाइस जेट ने अब तक 1.6 लाख फंसे लोगों को उनके देश तक पहुंचाया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 10, 2020, 8:27 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना काल में पुरी दुनिया में लोग जहां-तहां फंस गए थे. अनलॉक जैसे-जैसे आगे बढ़ रहा है, वैसे-वैसे लोगों की आवाजाही भी बढ़ती जा रही है. देश-विदेश में धीरे-धीरे एजुकेशनल इंस्‍टीट्यूट्स भी खुलने लगे हैं. कोरोना वायरस और लॉकडाउन की वजह से सैकड़ों इंडियन स्‍टूडेंट्स (Indian Students) अपनी पढ़ाई पूरी करने के लिए विदेश (Foreign) नहीं जा पा रहे थे. ऐसे में देश की निजी एयरलाइन कंपनी स्पाइस जेट (Spice Jet) ने आज 176 छात्रों को अपने चार्टर प्लेन (Charter Plane) से उनकी मंजिल तक पहुंचाया. इस चार्टर विमान ने शनिवार यानी आज तड़के सुबह 4:10 बजे चेन्‍नई एयरपोर्ट से तिलिसी (Tbilisi) के लिए उड़ान भरी और स्थानीय समय के अनुसार 11:55 बजे पहुंच गई.

174 स्‍टूडेंट्स के साथ जॉर्जिया के लिए उड़ान भरेगा दूसरा प्‍लेन
स्‍पाइस जेट का अगला चार्टर विमान कल यानी 11 अक्टूबर को 174 छात्रों के साथ जॉर्जिया के लिए उड़ान भरेगा. कोच्चि से यह विमान कल सुबह 3:45 बजे उड़ान (Flight) भरेगा, जो स्थानीय समय के अनुसार 11:55 बजे पहुंचेगा. कोविड 19 और लॉकडाउन की वजह से देश दुनिया में फंसे लोगों की वतन वापसी में सरकारी एयरलाइन के साथ निजी एयरलाइंस भी जुड़ गई थीं. कोरोना काल में स्पाइस जेट ने अब तक 1.6 लाख फंसे लोगों को उनके देश तक पहुंचाया है.

ये भी पढ़ें- Gold Price- सोने की कीमत 1.3 फीसदी बढ़ी, चांदी 2,500 रुपये हुई महंगी 
स्‍पाइस जेट ने जरूरी सामान पहुंचाने में निभाई अहम भूमिका


स्पाइस जेट ने यूके, इटली, कनाडा, फिलीपींस, किर्गिस्तान, कजाकिस्तान, रूस, नीदरलैंड, यूएई, सऊदी अरब, ओमान, कतर, लेबनॉन, बांग्लादेश, मालदीव, उज्बेकिस्तान, तुर्कमेनिस्तान व श्रीलंका से भारत और भारत से इन देशों के लिए हवाई उड़ान सेवा दी. 25 मार्च को लॉकडाउन की घोषणा के बाद सबसे ज्यादा दिक्कत जरूरी सामान की उपलब्धता और ट्रांसपोर्टेशन को लेकर हुई थी. इसमें सभी सरकारी और निजी एयरलाइंस ने अहम भूमिका निभाई. केवल स्पाइस जेट ने ही 8,200 से ज्‍यादा कार्गो फ्लाइट्स का संचालन किया. कोरोना महामारी के बीच इस एयरलाइन ने देश-दुनिया के विभिन्‍न स्थानों में दवाइयां, मेडिकल इक्विपमेंट्स, फल-सब्जियां जैसी जरूरी चीजें पहुंचाईं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज