लाइव टीवी

GST रेट्स बढ़ाने की तैयारी में सरकार, महंगी हो जाएंगी ये चीजें

News18Hindi
Updated: December 10, 2019, 2:35 PM IST

लगातार घटते जीएसटी कलेक्शन (GST Collection) की वजह से ये तमाम चर्चाएं हो रही हैं. केंद्र सरकार ने पिछले हफ्ते राज्यों से सुझाव मांगे थे. सुझावों के मुताबिक दरें बढ़ाने की रणनीति तय होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 10, 2019, 2:35 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (GST) कलेक्शन बढ़ाने के लिए आज दिल्ली में केंद्र और राज्यों के अधिकारियों के बीच बैठक हो रही है. इसमें जीएसटी दरें बढ़ाने और मौजूदा जीएसटी स्लैब में बदलाव समेत कई सुझावों पर विचार भी किया जाएगा. इस बैठक में तीनों मोर्चों- जीएसटी रेट, जीएसटी स्लैब और कंपनसेशन सेस पर चर्चा होगी और इनमें बदलाव करने पर एक सिफारिश की जाएगी.

GST दरें बढ़ेंगी?
दरअसल, लगातार घटते जीएसटी कलेक्शन की वजह से ये तमाम चर्चाएं हो रही हैं. केंद्र सरकार ने पिछले हफ्ते राज्यों से सुझाव मांगे थे. सुझावों के मुताबिक दरें बढ़ाने की रणनीति तय होगी. सुझाव में यह कहा गया था कि जो एक्जम्पटेज कैटगरी गुड्स है यानी जिन पर अभी जीएसटी नहीं लगता है, उनको भी स्लैब के दायरे में लाना चाहिए.

ये भी पढ़ें: 160 रुपये प्रति किलोग्राम हुई प्याज की कीमत! जानिए आपके शहर में क्या है भाव

इन चीजों के बढ़ सकते हैं जीएसटी रेट
इसके अलावा कई दरों में बदलाव किया जा सकता है. संभावना है कि रॉ सिल्क, लग्जरी हेल्थकेयर, हाई वैल्यूम होम लीजिंग, ब्रांडेड सीरियल्स, पिज्जा, रेस्टोरेंट, क्रूज शिपिंग, प्रिंट एडवरटाइजिंग, एसी ट्रेन टिकट्स, ऑलिव ऑयल जैसे दर्जनों ऐसी चीजों के रेट में बदलाव पर चर्चा की जा रही है. यानी इनकी दरों में बढ़ोतरी करके जीएसटी राजस्व बढ़ाने पर विचार हो रहा है.

इसके अलावा जीएसटी स्लैब में भी बदलाव करने की चर्चा है. सबसे निचला स्लैब, जो 5 फीसदी वाला स्लैब है उसको बढ़ाकर 6 से 8 फीसदी की सिफारिश राज्यों ने की है.(आलोक प्रियदर्शी, संवाददाता- CNBC आवाज़)

ये भी पढ़ें:-

चीन में सूअर की वजह से 8 साल में सबसे ज्यादा हुई महंगाई, लोगों के डूबे करोड़ों 
PPF, NSC, सुकन्या समृद्धि समेत इन स्कीम में पैसा लगाने वालों के लिए बड़ी खबर!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 10, 2019, 2:18 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर