मोदी सरकार ने छोटे कारोबारियों को दिया तोहफा! सिर्फ SMS से भरें GST रिटर्न

मोदी सरकार ने छोटे कारोबारियों को दिया तोहफा! सिर्फ SMS से भरें GST रिटर्न
SMS से ही भर जाएगा जीएसटी रिटर्न,

आगामी 1 अप्रैल, 2020 से गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (GST) असेसी अपने फोन से सिर्फ एसएमएस (SMS) भेजकर जीएसटी रिटर्न (GST Return) फाइल कर सकेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 2, 2019, 11:01 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र सरकार (Central Government) ने छोटे कारोबारियों (Small Traders) को बड़ी राहत दी है. आगामी 1 अप्रैल, 2020 से गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (GST) असेसी अपने फोन से सिर्फ एसएमएस (SMS) भेजकर जीएसटी रिटर्न (GST Return) फाइल कर सकेंगे. इस सुविधा का फायदा उठाने के लिए एकमात्र शर्त यह है कि उनका टर्नओवर निल होना चाहिए. इसके अलावा छोटे कारोबारियों को तीन महीने में सहज (SAHAJ) और सुगम (SUGAM) फार्म से तीन महीने में एक बार रिटर्न दाखिल करना होगा.

जीएसटी नेटवर्क के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) प्रकाश कुमार ने कहा कि जीएसटी नंबर ( लिया हुआ है और इसके तहत रिटर्न दाखिल करने की बाध्यता के चलते उन्हें रिटर्न दाखिल करना पड़ता है. इनके लिए नई प्रणाली में एक विशेष श्रेणी बना दी गई है. ऐसे करदाता अपने पंजीकृत मोबाइल नंबर से सिर्फ एसएमएस भेज कर अपना रिटर्न दाखिल कर सकेंगे.

SMS से भर जाएगा जीएसटी रिटर्न
हिन्दू बिजनेस लाइन में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, नए सिस्टम के तहत निल टर्नओवर वाले असेसी को सिर्फ SMS भेजना होगा और उनके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर वन टाइम पासवर्ड (OTP) आएगा. इस ओटीपी को वापस भेजने पर उनका रिटर्न दाखिल किया हुआ माना जाएगा. ये भी पढे़ं: बांस से प्रोडक्ट बनाकर आप भी कर सकते हैं मोटी कमाई, जानिए इसके बारे में सबकुछ...




अप्रैल 2020 से सहज और सुगम जीएसटी रिटर्न फॉर्म होगा उपलब्ध
प्रकाश कुमार ने बताया कि साल में 5 करोड़ रुपये तक टर्नओवर वाले कारोबारियों को पहले जीएसटीएन 3बी फार्म (GSTR 3B) भरने की ही बाध्यता थी, लेकिन अब इस सीमा तक कारोबार करने वालों के लिए 2 फार्म बनाए गए हैं. जो कारोबारी साल में 5 करोड़ रुपये तक कारोबार करते हैं और बी2सी (B2B) बिजनेस करते हैं, उनके लिए आरईटी-2 (RET-2) फार्म बनाया गया है.

इसे ही सहज नाम दिया गया है. इसमें कारोबारी को कर तो हर महीने भरना होगा, लेकिन रिटर्न तीन महीने में भरना होगा. इसी तरह साल में पांच करोड़ रुपये तक का कारोबार करने वाले वैसे कारोबारी जो सिर्फ थोक माल बेचते हैं या बी2बी कारोबार करते हैं, के लिए जीएसटी आरईटी-3 या सुगम फार्म बनाया गया है. यह फार्म भी तिमाही आधार पर ही भरा जाएगा लेकिन कर का भुगतान मासिक होगा.

ये भी पढ़ें: सरकार ने लॉन्च किया गाय के गोबर से बना साबुन, यहां से खरीद सकते हैं आप
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज