Google Pay-PhonePe की नई सुविधा, ईएमआई और बिजली बिल जैसे भुगतान की चिंता से मिलेगी निजात

Google Pay-PhonePe की नई सुविधा, ईएमआई और बिजली बिल जैसे भुगतान की चिंता से मिलेगी निजात
Google Pay और PhonePe जल्‍द ही रिकरिंग पेमेंट्स सुविधा करने वाले हैं.

देश में ज्‍यादातर पेमेंट ऐप्‍स (Payments Apps) एक माह के भीतर रिकरिंग पेमेंट्स (Recurring Payments) सुविधा शुरू करने की तैयारी में हैं. इसी कड़ी में गूगल-पे (Google pay) और फोन-पे (PhonePe) नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) के साथ मिलकर काम कर रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 10, 2020, 9:59 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. डिजिटल पेमेंट कंपनी गूगल-पे (Google Pay) और फोन-पे (PhonePe) नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) के साथ मिलकर अपने ग्राहकों को एक बेहतरीन सुविधा उपलब्‍ध कराने की तैयारी में हैं. इससे बड़ी तादाद में ग्राहकों को हर महीने दिए जाने वाले बिजली बिल, मोबाइल बिल, ईएमआई, इंश्‍योरेंस प्रीमियम जैसे रिकरिंग पेमेंट्स (Recurring Payments) की चिंता से निजात मिल जाएगी.

सुविधा के लिए ग्राहकों को चुनना होगा ऑटो डेबिट सुविधा का विकल्‍प
गूगल-पे और फोन-पे ग्राहकों को इस सेवा का इस्‍तेमाल करने के लिए ऑटो डेबिट सुविधा के विकल्‍प को चुनना होगा. एक बैंकर ने बताया कि गूगल-पे और फोन-पे ने रिकरिंग पेमेंट्स प्‍लेटफॉर्म पर काम करना शुरू कर दिया है. दोनों एक महीने के भीतर ये सुविधा शुरू कर सकती हैं. उन्‍होंने बताया कि ये प्रोडक्‍ट अभी डेवलपेमेंट के चरण में है. प्रोडक्‍ट तैयार होने के बाद इसका परीक्षण किया जाएगा. इसके बाद ही करोड़ों ग्राहकों को उपलब्‍ध कराया जाएगा.

भी पढ़ें:- बैंक इन ग्राहकों के नहीं खोलेंगे नए खाते, RBI ने लागू किया नया नियम
एनपीसीआई ने कुछ बैंकों के साथ 22 जुलाई को शुरू कर दी थी सुविधा


एनपीसीआई ने हर महीने, तिमाही, छमाही या सालाना किए जाने वाले भुगतान यानी रिकरिंग पेमेंट्स (Recurring Payments) के लिए यूपीआई ऑटो-पे (UPI AutoPay) सुविधा 22 जुलाई को शुरू कर दी है. एनपीसीआई के मुताबिक, यूपीआई-2.0 के तहत इस सुविधा की शुरुआत की गई है. इसके तहत यूजर्स मोबाइल बिल, बिजली बिल, ईएमआई भुगतान, एंटरटेनमेंट/ओटीटी सब्सक्रिप्शन, बीमा, म्यूचुअल फंड, कर्ज भुगतान और मेट्रो कार्ड बिल जैसे भुगतान किसी भी यूपीआई ऐप के जरिये कर सकेंगे.

ये भी पढ़ें :- Swiggy ने शुरू की नई सेवा, 45 मिनट के भीतर घर पहुंचेगा राशन का सामान

2,000 रुपये तक के भुगतान पर बार-बार PIN की नहीं होगी जरूरत
एनपीसीआई ने बताया था कि इस नई सुविधा के तहत 2,000 रुपये तक के भुगतान के लिए यूपीआई पिन (UPI PIN) की जरूरत नहीं होगी. इससे ऊपर के भुगतान के लिए हर बार पिन की जरूरत होगी. हर यूपीआई ऐप में अब एक ई-मैंडेट (E-Mandate) का विकल्‍प उपलब्‍ध होगा. इस विकल्‍प को चुनकर यूजर्स किसी भी रिकरिंग पेमेंट की मंजूरी दे सकेंगे. अगर आपको लगता है कि किसी भुगतान को रोकना है तो आप इसी विकल्‍प पर जाकर पेमेंट रोक सकते हैं. वहीं, भुगतान राशि घटने या बढ़ने पर बदलाव भी कर सकेंगे.

ये भी पढ़ें :- चीन से तीन-चौथाई आयात घटाने के लिए विकल्‍प तलाश रहा है भारत, इन चीजों को मंगाने पर लग सकती है रोक

दैनिक से लेकर सालाना भुगतान तक की ग्राहकों को मिलेगी सुविधा
यूपीआई ऑटो-पे सुविधा के तहत सिंगल पेमेंट के साथ ही दैनिक, साप्‍ताहिक, 15 दिन, हर महीने, हर दूसरे महीने, तिमाही, छमाही, सालाना आधार पर भुगतान करने की सुविधा दी जाएगी. एनपीसीआई ने कहा कि इससे यूजर्स और कारोबारी दोनों को फायदा होगा. एसबीआई, एक्सिस बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, एचडीएफसी बैंक, एचएसबीसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, आईडीएफसी बैंक, इंडसइंड बैंक, पेटीएम पेमेंट्स बैंक, ऑटोपे-दिल्ली मेट्रो, ऑटोपे-डिश टीवी, पॉलिसी बाजार, पेटीएम, पेयू, रेजरपे जैसे कई बैंक व व्यवसाय इस सुविधा को पहले ही शुरू कर चुके हैं.

ये भी पढ़ें :- पीएम किसान की अब तक नहीं मिली किस्‍त तो ऐसे कराएं ऑनलाइन रजिस्‍ट्रेशन, हर साल मिलेंगे 6000 रुपये

फोन-पे 35 कर्जदाताओं के साथ ऑटो-डेबिट सुविधा की कर रही तैयारी
जियो पेंमेंट्स बैंक और यस बैंक जल्द ही यूपीआई ऑटो-पे सुविधा शुरू करने वाले हैं. बता दें कि गूगल-पे और फोन-पे के इस समय देश में करीब 7 करोड़ उपभोक्‍ता हैं. फोन-पे करीब 35 कर्जदाताओं के साथ इस सुविधा को शुरू करने की तैयारी कर रही है. सूत्रों के मुताबिक, ऑटो-डेबिट सुविधा ईएमआई तक ही सीमित नहीं रहेगी. इसमें म्‍यूचुअल फंड कंपनियों, इंश्‍योरेंस कंपनियों को भी जोड़ने की कोशिश हो रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज