Google का Paytm पर पलटवार! कहा- गूगल प्ले स्‍टोर की सट्टेबाजी नीतियों का उल्लंघन नहीं हैं कैशबैक-वाउचर्स की पेशकश

गूगल ने पेटीएम के आरोपों पर पलटवार करते हुए कहा कि कैशबैक ऑफर्स और वाउचर्स प्ले स्टोरकी सट्टेबाजी नीतियों का उल्‍लंघन नहींं हैंं.
गूगल ने पेटीएम के आरोपों पर पलटवार करते हुए कहा कि कैशबैक ऑफर्स और वाउचर्स प्ले स्टोरकी सट्टेबाजी नीतियों का उल्‍लंघन नहींं हैंं.

डिजिटल पेमेंट ऐप पेटीएम (Paytm) ने गूगल (Google) पर भेदभावपूर्ण नीतियां मानने के लिए मजबूर करने का आरोप लगाया है. साथ ही कहा है कि गूगल की पेमेंट सर्विस गूगल पे (Google Pay) खुद क्रिकेट पर आधरित रन बनाकर पैसे कमाने की पेशकश कर रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 21, 2020, 3:39 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. डिजिटल पेमेंट कंपनी पेटीएम (Paytm) ने दावा किया कि भारत में वैध होने के बाद भी गूगल ने उसे कैशबैक (Cashback) की पेशकश हटाने के लिए मजबूर किया है. पेटीएम ने आरोप लगाया कि गूगल (Google) की भुगतान सेवा 'गूगल पे' (Google Pay) खुद क्रिकेट पर आधारित ऐसी ही पेशकश कर रही है. इस पर गूगल ने कहा कि सिर्फ कैशबैक (Cashback) और वाउचर गूगल प्ले की सट्टेबाजी से जुड़ी नीतियों (Betting Policy) का उल्लंघन नहीं हैं. साथ ही कहा कि अगर पेटीएम नीतियों का आगे भी उल्लंघन करेगा तो गूगल प्ले डेवलपर अकाउंट को सस्‍पेंड किया जा सकता है.

पेटीएम का आरोप, कैशबैक-स्‍क्रैच कार्ड सुविधा हटाने को किया मजबूर
गूगल ने आईपीएल क्रिकेट टूर्नामेंट (IPL-2020) से पहले 18 सितंबर के नीतिगत अपडेट के बाद पेटीएम के ऐप को अपने ऐप स्टोर ' गूगलप्ले स्टोर' से कुछ समय के लिए हटा दिया था. पेटीएम का ऐप वापस प्ले स्टोर पर तब आ पाया, जब उसने क्रिकेट से जुड़े एक फीचर से कैशबैक की सुविधा वापस ले ली. पेटीएम ने एक ब्लॉग पोस्ट में रविवार को कहा कि उसे एंड्रॉयड प्ले स्टोर पर वापस जगह पाने के लिये यूपीआई कैशबैक और स्क्रैच कार्ड (Scratch Card) सुविधा हटाने के नियम को मानने के लिए मजबूर किया गया. कंपनी ने कहा कि भारत में कैशबैक और स्क्रैच कार्ड की पेशकश वैध है. कंपनी सरकार के सभी नियमों और कानूनों के मुताबिक कैशबैक की सुविधा दे रही है.

ये भी पढ़ें- विदेशी चंदा कानून में संशोधन करेगी केंद्र सरकार, अब NGO रजिस्‍ट्रेशन के लिए Aadhaar होगा जरूरी
गूगल ने कहा, बार-बार नीतियों के उल्‍लंघन पर सस्‍पेंड होगा अकाउंट


गूगल के एक प्रवक्ता ने कहा कि सिर्फ कैशबैक या वाउचर की पेशकश करना गूगल प्ले सट्टेबाजी नीति का उल्लंघन नहीं है. गूगल प्ले स्टोर ने सट्टेबाजी नीति को पिछले सप्ताह नये सिरे से लागू किया है. यह नीति ऑनलाइन कसिनो या खेल में सट्टेबाजी की सुविधा देने वाले ऐप को प्रतिबंधित करता है. हम उपभोक्ताओं को सुरक्षित अनुभव देने के साथ ही डेवलपर्स को सस्‍टेनेबल बिजनेस बनाने के लिये प्‍लेटफॉर्म मुहैया कराने के लिये अपनी नीतियों को सोच-विचार करने के बाद लागू करते हैं. बार-बार नीतियों का उल्लंघन करने की स्थिति में हम इससे गंभीर कदम भी उठा सकते हैं, जिनमें गूगल प्ले डेवलपर अकाउंट को सस्‍पेंड भी किया जा सकता है. हमारी नीतियां सभी डेवलपर्स पर लागू होती हैं.

ये भी पढ़ें- Tata Group ने बनाई कोरोना टेस्‍ट किट, कम समय में देगी सटीक नतीजे, खर्चा भी होगा कम



'गूगल का बाजार में एकाधिकार कायम करने के लिए बनाईं नीतियां'
पेटीएम ने आरोप लगाया कि प्ले स्टोर की नीतियां भेदभाव वाली हैं. ये नीतियां बाजार में गूगल का एकाधिकार कायम करने के लिये बनाई गई हैं. हमें इस भेदभावपूर्ण नीति का पालन करने के लिये मजबूर किया गया है. पेमेंट कंपनी ने कहा कि गूगल पे ने खुद ही तेज शॉट्स कैंपेन की शुरुआत की है. इस कैंपेन में स्पष्ट तौर पर कहा गया है कि एक लाख रुपये तक का निश्चित इनाम पाने के लिये रन बनाएं. गूगल पे ने भी इसे क्रिकेट सीजन की शुरुआत के समय पेश किया है. पेटीएम ने आरोप लगाया कि गूगल ने कंपनी को आपत्तियों का जवाब देने का कोई मौका नहीं दिया. हमारा मानना है कि हमने किसी नीति या कानून का उल्लंघन नहीं किया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज