होम /न्यूज /व्यवसाय /सरकार ने 10 YouTube चैनल और 45 वीडियो को किया ब्लॉक, फेक न्यूज फैलाने का आरोप

सरकार ने 10 YouTube चैनल और 45 वीडियो को किया ब्लॉक, फेक न्यूज फैलाने का आरोप

कुछ वीडियो राष्ट्रीय सुरक्षा के दृष्टिकोण से पाए गए संवेदनशील

कुछ वीडियो राष्ट्रीय सुरक्षा के दृष्टिकोण से पाए गए संवेदनशील

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय (I&B Ministry) ने गलत जानकारी फैलाने वाले यूट्यूब चैनलों (YouTube Channels) के खिलाफ कार्रवा ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली. सरकार ने धार्मिक समुदायों के बीच घृणा फैलाने के इरादे से कंटेंट में छेड़छाड़ करने और फर्जी खबरें प्रसारित करने के लिए 10 यूट्यूब (YouTube) चैनल के 45 वीडियो को ब्लॉक करने का आदेश दिया है. सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर (Anurag Thakur) ने सोमवार को यह जानकारी दी.

एक करोड़ 30 लाख से ज्यादा बार देखे गए वीडियो
एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि जिन वीडियो को ब्लॉक किया गया है, उन्हें कुल मिलाकर 1.30 करोड़ बार देखा जा चुका है और उनमें दावा किया गया है कि सरकार ने कुछ समुदायों के धार्मिक अधिकार छीन लिए हैं. ठाकुर ने कहा, ‘‘इन चैनलों में ऐसी सामग्री थी, जो समुदायों के बीच भय और भ्रम फैलाती है.’’

ये भी पढ़ें- डेस्कटॉप यूजर्स को यूट्यूब पर मिला नया फीचर, चुटकियों में डाउनलोड कर सकेंगे वीडियो

धार्मिक समुदायों के बीच घृणा फैलाने का आरोप
एक आधिकारिक बयान के अनुसार, प्रतिबंधित सामग्री में धार्मिक समुदायों के बीच घृणा फैलाने की मंशा से प्रसारित फर्जी खबरें और छेड़छाड़ किए गए वीडियो शामिल हैं.

" isDesktop="true" id="4653543" >

राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े मामलों पर पर गलत सूचनाएं प्रसारित करने का आरोप
इसमें कहा गया है, ‘‘मंत्रालय द्वारा प्रतिबंधित किए गए कुछ वीडियो का इस्तेमाल अग्निपथ योजना, भारतीय सशस्त्र बलों, भारत का राष्ट्रीय सुरक्षा तंत्र, कश्मीर से जुड़े मुद्दों पर गलत सूचनाएं प्रसारित करने के लिए किया जा रहा था.’’

IT Rules 2021: आईटी नियमों के तहत कार्रवाई
बयान के अनुसार, यह सामग्री राष्ट्रीय सुरक्षा और दूसरे देशों के साथ भारत के मैत्रीपूर्ण संबंधों के नजरिए से झूठी और संवेदनशील मानी गई. इसमें कहा गया है कि इन वीडियो को प्रतिबंधित करने का आदेश सूचना प्रौद्योगिकी (मध्यस्थ दिशा निर्देश एवं डिजिटल मीडिया नैतिकता संहिता) नियम 2021 के प्रावधानों के तहत 23 सितंबर को जारी किया गया.

पहले भी सरकार कर चुकी है कार्रवाई
ठाकुर ने बताया कि इससे पहले सरकार ने साम्प्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने वाले 102 यूट्यूब चैनल और फेसबुक अकाउंट को प्रतिबंधित किया था.

Tags: Anurag thakur, Youtube

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें