चीन से टकराव के बीच केंद्र ने बनाई खास समिति! बीजिंग के एफडीआई प्रस्‍तावों पर करेगी विचार

चीन से टकराव के बीच केंद्र ने बनाई खास समिति!एफडीआई प्रस्‍तावों पर करेगी विचार
चीन से टकराव के बीच केंद्र ने बनाई खास समिति!एफडीआई प्रस्‍तावों पर करेगी विचार

चीन से आने वाले सभी प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के प्रस्ताव को चेक करने के लिए एक भारत सरकार ने स्क्रीनिंग पैनल नियुक्त किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 1, 2020, 6:59 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. चीन से आने वाले सभी प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के प्रस्ताव को चेक करने के लिए एक भारत सरकार ने स्क्रीनिंग पैनल नियुक्त किया है. इकनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक चीन से आने वाले निवेश प्रस्ताव अगर गैर विवादित होते हैं तो उन्हें मंजूरी दी जा सकती है. इस समय चीन के 100 से अधिक एफडीआई निवेश प्रस्ताव सरकार के पास लंबित पड़े हैं.

इस साल अप्रैल में ही सरकार ने एक नियम बनाया था जिसके तहत भारत की सीमा से लगते हुए देशों से आने वाले प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के लिए सरकार की पूर्व मंजूरी आवश्यक बना दी गई थी. इसे वास्तव में भारत में चीन की कंपनियों के अधिग्रहण को रोकने के उद्देश्य से बनाया गया नियम बताया जा रहा था.

ये भी पढ़ें:- बड़ी खबर- आ गए अक्टूबर महीने के लिए LPG रसोई गैस सिलेंडर के नए दाम, यहां देखें



चीन की कई कंपनियां भारतीय कंपनियों को खरीदने में दिलचस्पी ले रही
कोरोना नाम की महामारी के फैलने के बाद शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव के मद्देनजर चीन की कई कंपनियां भारतीय कंपनियों को खरीदने में दिलचस्पी ले रही थी. इस तरह की निगरानी में भारत चीन सीमा पर हुए तनाव के बाद और कड़ी कर दी गई थी.

भारत सरकार ने चीन से आने वाली एफडीआई के लिए जो पैनल बनाया है, उस पैनल की अध्यक्षता गृह सचिव करेंगे. इस पैनल में उद्योग संवर्धन एवं आंतरिक व्यापार विभाग के सचिव भी एक सदस्य के तौर पर शामिल होंगे.

पहले वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ईटी को दिए गए एक इंटरव्यू में कहा था कि चीन से आने वाले निवेश पर भारत में कोई प्रतिबंध नहीं लगाया गया है. उन्होंने कहा, "अगर आपको यह लग रहा है कि किसी एक देश से आने वाले निवेश को हमने रोक दिया है तो ऐसा नहीं है. हम ऐसा कोई भी कदम नहीं उठाने जा रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज