सरकारी कर्मचारियों को बड़ा तोहफा! जीपीएफ पर मिलेगा ज्यादा ब्याज

सरकारी कर्मचारियों को बड़ा तोहफा! जीपीएफ पर मिलेगा ज्यादा ब्याज
सरकार ने अक्टूबर-दिसंबर तिमाही के लिए जनरल प्रोविडेंट फंड (जीपीएफ) और अन्य स्कीमों पर ब्याज दर को बढ़ाकर 8 फीसदी कर दी है.

सरकार ने अक्टूबर-दिसंबर तिमाही के लिए जनरल प्रोविडेंट फंड (जीपीएफ) और अन्य स्कीमों पर ब्याज दर को बढ़ाकर 8 फीसदी कर दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 17, 2018, 11:06 AM IST
  • Share this:
सरकार ने अक्टूबर-दिसंबर तिमाही के लिए जनरल प्रोविडेंट फंड (जीपीएफ) और अन्य स्कीमों पर ब्याज दर को बढ़ाकर 8 फीसदी कर दी है. इससे पिछली तिमाही (जुलाई-सितंबर) में जीपीएफ पर ब्याज दर 7.6 फीसदी थी. फिक्स्ड इनकम के लिए ऐसी योजनाओं में निवेश करने वालों को काफी समय से ब्याज दरों के बढ़ने का इंतजार था. पिछली 2 तिमाही से ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं हुआ है. जबकि इससे पहले 2018 की जनवरी-मार्च तिमाही में ब्याज दरें कम कर दी गई थीं. (ये भी पढ़ें: LIC का बेस्ट पॉलिसी प्लान, 420 रुपए महीने खर्च कर पाएं 15 लाख का बीमा)

आर्थिक मामलों के विभाग द्वारा जारी एक नोटिफेशन बताया गया- 'वित्त-वर्ष 2018-2019 के दौरान 1 अक्टूबर 2018 से लेकर 31 दिसंबर 2018 तक जनरल प्रोविडेंट फंड और इस जैसे अन्य फंड धारकों को 8 फीसदी की ब्याज मिलेगी. नई ब्याज दर केंद्र सरकार के कर्मचारियों, रेलवे और सुरक्षाबलों के प्रोविडेंट फंडों पर भी लागू होगी.

पिछले महीने सरकार ने घोषणा की थी कि अक्टूबर-दिसंबर तिमाही के लिए एनएससी और पीपीएफ सहित छोटी बचत पर ब्याज दर को 0.4 पर्सेंटेज पॉइंट के साथ बढ़ाया जाएगा. गौरतलब है कि वित्त मंत्रालय द्वारा 19 सितंबर को जारी सर्कुलर के मुताबिक अलग-अलग छोटी बचत योजनाओं के लिए ब्याज दरों को 30 से 40 बेसिस पॉइंट्स तक बढ़ाया गया है. एक साल, द्विवर्षीय और त्रिवर्षीय टाइम डिपॉजिट पर ब्याज दरों में 30 बेसिस पॉइंट्स का इजाफा किया गया है.



ये भी पढ़ें: किसान विकास पत्र में तेजी से पैसा होता है डबल, जानिए जरूरी बातें
कौन खुलवा सकता है खाता- भारत सरकार या कर सरकारी कर्मचारी जनरल प्रोविडंट फंड में अपना अकाउंट खुलवा सकता है. यह खाता एक निश्चित आय वर्ग के कर्मचारियों के लिए जरूरी है. निजी क्षेत्रों में काम करने वाले कर्मचारी इस अकाउंट के लिए पात्र नहीं होते हैं.

कैसे काम करता है जीपीएफ- जनरल प्रोविडंट फंड एक तरह का सेविंग टूल है. जो एक कर्मचारी सरकार के साथ खोल सकता है. इस खाते में, खाताधारक एक निश्चित अवधि के लिए नियमित किस्तों के रूप में अपने वेतन का एक हिस्सा खाते में योगदान करता है. इस खाते में जमा राशि खाताधारक को रिटायरमेंट के समय दी जाती है. इसमें खाताधारक खाता खुलवाने के समय ही अपना नॉमिनी भी चुन सकता है. अगर खाताधारक को कुछ होता है तो नॉमिनी को अकाउंट से जुड़े तमाम फायदों का लाभ मिलता है.

ये भी पढ़ें: सस्ता हो सकता है पेट्रोल-डीजल, PM मोदी ने लगाई सऊदी से गुहार

जीपीएफ में खास फीचर- जीपीएफ खाते से जुड़ा एक खास फीचर होता है जिसे जीपीएफ एडवांस के नाम से भी जाना जाता है. यह जनरल प्रोविडंट फंड की सेविंग के अंतर्गत दिया गया इंटरेस्ट फ्री (ब्याजमुक्त) लोन होता है. इसे लोन इसलिए कहा जाता है क्योंकि उधार ली गई राशि का नियमित मासिक किश्तों में वापस भुगतान किया जाता है. जीपीएफ खाते से अग्रिम रूप में निकाली गई राशि पर कोई ब्याज का भुगतान नहीं करना होता है. आप अपने पूरे करियर में आवश्यकता पड़ने पर जितने चाहें जीपीएफ अग्रिम ले सकते हैं.

ये भी पढ़ें:  आ गया है अनोखा कार्ड, कर सकते हैं दोनों तरफ से स्वाइप करेगा डेबिट-क्रेडिट दोनों कार्ड का काम
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading