रविशंकर प्रसाद बोले- भारत मोबाइल ऐप्स का सबसे बड़ा यूजर, स्वदेशी ऐप स्टोर लाने की तैयारी

रविशंकर प्रसाद (फोटो- ANI)

रविशंकर प्रसाद (फोटो- ANI)

सरकार की ओर से कोई 'मैसेजिंग एंड कॉलिंग ऐप' शुरू किए जाने के बारे में पूछे गए सवाल के जवाब में प्रसाद ने बताया कि साइबर सुरक्षा अत्यंत महत्वपूर्ण है.

  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र सरकार अपने खुद का मोबाइल ऐप स्टोर विकसित और मजबूत करने में रूचि रखती है. संसद में सरकार ने गुरुवार को यह जानकारी दी गई. इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) ने बताया कि मोबाइल एप्लीकेशन (Mobile Application) का इस्तेमाल करने में भारत दुनिया में टॉप पर है.

मोबाइल ऐप तैयार करने के लिए प्रोत्साहन 

राज्यसभा में प्रसाद ने कहा कि डिजिटल इंडिया कार्यक्रम के साथ साथ सरकार भारतीय इन्नोवेटर्स को मोबाइल ऐप (Mobile App) तैयार करने के लिए प्रोत्साहन दे रही है और आने वाले समय में इस क्षेत्र में भारत अंतरराष्ट्रीय प्लेटफॉर्म पर कड़ी चुनौती पेश करेगा. उन्होंने बताया कि सरकार ने मोबाइल सेवा ऐप स्टोर (Mobile Seva App Store) को फ्री ऐप रखने की अनुमति दे दी है. प्रसाद ने कहा, ''हमारे मोबाइल सेवा ऐप में, सब कुछ है और कुल 8.65 करोड़ लोगों ने इसे डाउनलोड किया. यह सही दिशा में हो रहा सुधार है.

उन्होंने कहा, ''हम भारतीयों के लिए मेक इन इंडिया यानी भारत में तैयार किए गए ऐप को प्रोत्साहित कर रहे हैं. हमने आत्मनिर्भर भारत मोबाइल एप इनोवेशन स्पर्धा शुरु की जिसमें 6940 ऐप डेवलपर आगे आए. इनमें से हमने नौ कैटेगरी में 25 का चयन किया और उन्हें पुरस्कार भी दिया गया.''
साइबर सुरक्षा अत्यंत महत्वपूर्ण 

सरकार की ओर से कोई 'मैसेजिंग एंड कॉलिंग ऐप' शुरू किए जाने के बारे में पूछे गए सवाल के जवाब में प्रसाद ने बताया कि साइबर सुरक्षा अत्यंत महत्वपूर्ण है और ऐसे ऐप डेवलपर को कतई प्रोत्साहन नहीं दिया जाएगा जिनके ऐप जोखिम उत्पन्न कर सकते हैं.

उन्होंने कहा कि एक मोबाइल सेवा एप पहले से है और राज्य सरकारों के मैसेजिंग सेंटर भी हैं. उन्होंने, ''लेकिन हम चाहते हैं कि सरकार के बाहर से और अधिक संख्या में इनोवेशन आएं. बहरहाल साइबर सुरक्षा अत्यंत महत्वपूर्ण है और जिनके प्रोडक्ट सवालिया निशान वाले होंगे, वह निश्चित रूप से चुनौती होंगे. साइबर सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए हमने कुछ ऐप रोक दिए हैं.''



ये भी पढ़ें- Indian Railways: होली से पहले रेलवे चला रहा कई स्पेशल ट्रेनें, नोट कर लें टाइम और ट्रेन नंबर, मिलेगा कंफर्म टिकट!

उन्होंने बताया कि इंडिया एप मार्केट स्टैटिस्टिक्स रिपोर्ट 2021 के अनुसार, एंड्रॉयड पर मौजूद ऐप में से पांच फीसदी ऐप वह है जो भारतीय डेवलपर्स ने तैयार किए हैं. उन्होंने कहा, ''जरूरत को देखते हुए मोबाइल सेवा ऐप स्टोर शुरू किया गया जिस पर सरकारी ऐप हैं और वह निजी एप को भी रख सकता है. मोबाइल सेवा ऐप स्टोर भारत का पहला स्वदेश में विकसित ऐप स्टोर है जिसमें अलग अलग डोमेन और जन सेवा कैटेगरी के 965 से अधिक ऐप हैं. इन ऐप को फ्री डाउनलोड किया जा सकता है.''
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज