लाइव टीवी

लॉकडाउन से इस सेक्टर को हुआ सबसे ज्यादा नुकसान, सरकार ने दी जानकारी

News18Hindi
Updated: May 21, 2020, 3:05 PM IST
लॉकडाउन से इस सेक्टर को हुआ सबसे ज्यादा नुकसान, सरकार ने दी जानकारी
मैन्युफक्चरिंग में रिकॉर्ड गिरावट

सरकार (Government of India) ने बताया कि लॉकडाउन की वजह से मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर (Manufacturing Sector) पर सबसे ज्यादा असर हुआ है. साथ ही, सप्लाई चेन भी बुरी तरह प्रभावित हुई है.

  • Share this:
नई दिल्ली. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defence Minister of India Rajnath Singh) ने गुरुवार को कहा है कि लॉकडाउन की वजह से मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर (Manufacturing Sector) पर सबसे ज्यादा असर हुआ है. साथ ही, सप्लाई चेन भी बुरी तरह प्रभावित हुई है. ऐसे में डिफेंस सेक्टर पर भी असर होना लाजमी है. डिफेंस सेक्टर को अन्य क्षेत्रों की तुलना में अधिक दबाव का सामना करना पड़ा है.

मैन्युफक्चरिंग में रिकॉर्ड गिरावट- लॉकडाउन में सख्ती थी जिसकी वजह से इंडस्ट्रि​यल गतिविधियां लगभग ठप पड़ी थीं. इस वजह से अप्रैल महीने के दौरान भारत की मैन्युफक्चरिंग गतिविधि रिकॉर्ड निचले स्तर पर आ गई. सोमवार को जारी निक्केई आईएचएस मार्किट सर्वे में यह बात सामने आई है.

अप्रैल महीने के लिए आईएचएस मार्किट द्वारा जारी परचेजिंग मैनेजर इंडेक्स (पीएमआई) लुढ़ककर महज 27.4 रह गया. आईएचएस मार्किट हर महीने मैन्युफैक्चरिंग और सर्विस सेक्टर के आंकड़े जारी करता है. इस सूचकांक का 50 से ऊपर रहना वृद्धि और इससे नीचे रहना गिरावट को दर्शाता है, जबकि 50 पर होना स्थिरता दिखाता है. यानी मैन्युफैक्चरिंग गतिविधि में भारी गिरावट आई है.



ये भी पढ़ें-PM Kisan Scheme के साथ मिलते हैं ये तीन और फायदे जो आपको नहीं होंगे मालूम






अप्रैल महीने के लिए आईएचएस मार्किट द्वारा जारी परचेजिंग मैनेजर इंडेक्स (पीएमआई) लुढ़ककर महज 27.4 रह गया. आईएचएस मार्किट हर महीने मैन्युफैक्चरिंग और सर्विस सेक्टर के आंकड़े जारी करता है. इस सूचकांक का 50 से ऊपर रहना वृद्धि और इससे नीचे रहना गिरावट को दर्शाता है, जबकि 50 पर होना स्थिरता दिखाता है. यानी मैन्युफैक्चरिंग गतिविधि में भारी गिरावट आई है.

मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने अपनी एक रिपोर्ट में शुक्रवार को ये बात कही है. रेटिंग एजेंसी ने कहा कि भारत को लॉकडाउन के चलते बड़ी गिरावट झेलनी पड़ेगी. वित्तवर्ष 2020-21 में भारत की ग्रोथ जीरो पर ठहर सकती है, लेकिन 2022 में भारतीय अर्थव्यवस्था में तेज रिकवरी होगी. हालांकि मूडीज ने यह भी कहा कि वित्त वर्ष 2022 में भारतीय अर्थव्यवस्था की जीडीपी ग्रोथ 6.6 फीसदी तक जा सकती है. ऐसा होता है तो भारत को मंदी के संकट से निकलने में बड़ी मदद मिलेगी.

ये भी पढ़ें-HDFC-SBI बैंक की नई पेशकश! इन ग्राहकों को FD पर मिलेगा 0.25% ज्यादा ब्याज
First published: May 21, 2020, 1:48 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading