अपना शहर चुनें

States

इस संस्था ने स्कूली बच्चों के लिए बनाए खास Face Mask, सुरक्षा के साथ दिखेगा देशभक्ति का रंग

खादी ने तैयार किया बच्चों के स्पेशल फेस मास्क
खादी ने तैयार किया बच्चों के स्पेशल फेस मास्क

खादी और ग्रामोद्योग आयोग (KVIC) स्कूली बच्चों के लिए फेस मास्क (Face Mask) तैयार कर रही है. हाल ही में अरुणाचल प्रदेश सरकार ने बच्चों के लिए केवीआईसी से डेढ़ लाख से ज़्यादा मास्क खरीदे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 25, 2020, 11:06 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. खादी और ग्रामोद्योग आयोग (KVIC) स्कूली बच्चों के लिए फेस मास्क (Face Mask) तैयार कर रही है. हाल ही में अरुणाचल प्रदेश सरकार ने बच्चों के लिए केवीआईसी से डेढ़ लाख से ज़्यादा मास्क खरीदे हैं. इसके साथ ही इंडियन रेडक्रॉस सोसाइटी ने भी केवीआईसी को 12 लाख से ज़्यादा मास्क का आर्डर दिया है. राष्ट्रपति भवन (President House), प्रधानमंत्री कार्यालय (PPMO) समेत तमाम सरकारी ऑफिसों को भी केवीआईसी फेस मास्क तैयार कर सप्लाई कर रही है. राष्ट्रीय भावना को ध्यान में रखते हुए यह फेस मास्क तीन रंगों में तैयार किए जा रहे हैं. मास्क पर केवीआईसी का लोगो भी लगा हुआ है.

पहले 60 हज़ार अब एक लाख मास्क का दिया आर्डर  
अरुणाचल प्रदेश सरकार स्कूली बच्चों के लिए तीन रंगों में बने खादी के एक लाख फेस मास्क और खरीद रही है. प्रदेश सरकार ने अपने यहां 8वीं कक्षा के बच्चों के लिए 4 जनवरी, 2021 से स्कूलों को फिर से खोलने का फैसला किया है. इसी के चलते सरकार सूती कपड़ों से बने 1 लाख मास्क फिर से खरीद रही है. केवीआईसी 27 दिसम्बर तक यह मास्क प्रदेश सरकार को सप्लाई कर रही है.

गौरतलब रहे इससे पहले अरुणाचल प्रदेश सरकार केवीआईसी से नवंबर 2020 में 60 हज़ार मास्क की खरीद कर चुकी है. यह मास्क राज्य सरकार ने 10वीं और 12वीं कक्षा में पढ़ने वाले छात्रों के लिए खरीदे थे.



ये भी पढ़ें : दिल्ली में सीलिंग को लेकर हुआ बड़ा फैसला, केन्द्र सरकार ने कही यह अहम बात...

केवीआईसी के बने फेस मास्क की यह है खासियत
फेस मास्क की खासियत के बारे में केवीआईसी के अध्यक्ष विनय कुमार सक्सेना ने बताया कि मास्क बनाने के लिए दोहरे बुने धागों का इस्तेमाल किया गया है. जिससे यह 70 फीसद नमी भीतर ही रोकने और हवा के सहज आने-जाने में सक्षम है. यह मास्क त्वचा के अनुकूल होते हैं और इनका लंबे समय तक उपयोग किया जा सकता है. खादी के सूती मास्क धोकर दोबारा से इस्तेमाल किए जा सकते हैं. वहीं इनका जैविक निपटान भी किया जा सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज