Home /News /business /

अब मोदी सरकार सेंट्रल इलेक्ट्रॉनिक्स को भी बेचेगी, Air India के बाद दूसरी बड़ी बिक्री को दी मंजूरी

अब मोदी सरकार सेंट्रल इलेक्ट्रॉनिक्स को भी बेचेगी, Air India के बाद दूसरी बड़ी बिक्री को दी मंजूरी

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के अंतर्गत आने वाली सीईएल (CEL) का गठन 1974 में हुआ था.

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के अंतर्गत आने वाली सीईएल (CEL) का गठन 1974 में हुआ था.

सरकार ने सोमवार को सेंट्रल इलेक्ट्रॉनिक्स लि. यानी सीईएल (Central Electronics Ltd) को नंदल फाइनेंस एंड लीजिंग (Nandal Finance and Leasing) को 210 करोड़ रुपये में बेचने को मंजूरी दे दी. चालू वित्त वर्ष में यह दूसरी स्‍ट्रैटजिक डिसइन्‍वेस्‍टमेंट (Strategic Disinvestment) है. हाल ही में सरकार ने एयर इंडिया (Air India) के संचालन का जिम्मा टाटा को दिया है.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. सरकार ने सोमवार को सेंट्रल इलेक्ट्रॉनिक्स लि. यानी सीईएल (Central Electronics Ltd) को नंदल फाइनेंस एंड लीजिंग (Nandal Finance and Leasing) को 210 करोड़ रुपये में बेचने को मंजूरी दे दी. चालू वित्त वर्ष में यह दूसरी स्‍ट्रैटजिक डिसइन्‍वेस्‍टमेंट (Strategic Disinvestment) है. हाल ही में सरकार ने एयर इंडिया (Air India) के संचालन का जिम्मा टाटा को दिया है.

    साल 1974 में बनी थी सेंट्रल इलेक्ट्रॉनिक्स लि
    साइंस एंड टेक्‍नोलॉजी मिनिस्‍ट्री (Ministry of Science and Technology) के अंतर्गत आने वाली सीईएल (CEL) का गठन 1974 में हुआ था. कंपनी सौर फोटोवोल्टिक (SPV) के क्षेत्र में अग्रणी है और उसने अपने स्वयं के रिसर्च एंड डेवलपमेंट (R & D) प्रयासों के साथ टेक्नोलॉजी विकसित की है. कंपनी ने ‘एक्सल काउंटर सिस्टम’ (Axle Counter Systems) भी विकसित किया है जिसका उपयोग ट्रेनों के सुरक्षित संचालन के लिए रेलवे सिग्नल सिस्टम में किया जा रहा है.

    ये भी पढ़ें- खुलेगा नौकरियों का पिटारा, TeamLease का दावा- Q3 में इंडिया इंक की नई भर्तियों में हो सकती है 41% की बढ़ोतरी

    दो कंपनियों ने लगाई थी बोली
    सरकार ने तीन फरवरी, 2020 को लेटर ऑफ इन्‍टेंट (LoI) आमंत्रित किया था. उसके बाद तीन लेटर ऑफ इन्‍टेंट प्राप्त हुए. हालांकि, केवल दो कंपनियों नंदल फाइनेंस एंड लीजिंग प्राइवेट लि. और जेपीएम इंडस्ट्रीज लि. ने 12 अक्टूबर, 2021 को वित्तीय बोलियां जमा कीं. गाजियाबद की नंदल फाइनेंस एंड लीजिंग प्राइवेट लि. ने जहां 210 करोड़ रुपये की बोली लगाई, वहीं जेपीएम इंडस्ट्रीज ने 190 करोड़ रुपये की बोली लगाई थी.

    आधिकारिक बयान के अनुसार, ”अल्‍टरनेटिव मैकेनिज्‍म ने…. भारत सरकार की सेंट्रल इलेक्ट्रॉनिक्स लि. में 100 फीसदी इक्विटी हिस्सेदारी की बिक्री के लिये मेसर्स नंदल फाइनेंस एंड लीजिंग प्राइवेट लि. की सबसे ऊंची बोली को मंजूरी दे दी. सफल बोली 210 करोड़ रुपये की थी.”

    डील चालू वित्त वर्ष 2021-22 के अंत तक पूरा होने की उम्मीद
    स्‍ट्रैटजिक डिसइन्‍वेस्‍टमेंट पर गठित अल्‍टरनेटिव मैकेनिज्‍म में सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री जितेंद्र सिंह शामिल हैं. बयान के अनुसार, डील चालू वित्त वर्ष 2021-22 (अप्रैल-मार्च) के अंत तक पूरा होने की उम्मीद है.

    Tags: Air india, Disinvestment, Ministry of Finance

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर