टैक्स डिफॉल्टरों को पकड़ने के लिए सरकार ने बनाया नया प्लान, इन चीजों पर किया खर्च तो भरना होगा Tax

टैक्स डिफॉल्टरों को पकड़ने के लिए सरकार ने बनाया नया प्लान, इन चीजों पर किया खर्च तो भरना होगा Tax
टैक्स डिफॉल्टरों को पकड़ने के लिए सरकार ने बनाया नया प्लान, जानिए सबकुछ

वित्त मंत्रालय (Finance Ministry) के सूत्रों ने कहा है कि उच्च मूल्य वाले सामानों (High value Products) के लेन-देन की एक लिस्ट बनाई जाएगी और इन सामानों को टैक्स के दायरे में रखा जाएगा. जिससे टैक्स विभाग (Tax Department) उन लोगों की पहचान कर सके जो महंगे सामान तो खरीदते हैं लेकिन आयकर रिटर्न दाखिल करने से बचते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 17, 2020, 12:36 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. वित्त मंत्रालय (Finance Ministry) के सूत्रों ने कहा है कि उच्च मूल्य वाले सामानों (High value Products) के लेन-देन की एक लिस्ट बनाई जाएगी. इन सामानों को टैक्स के दायरे में रखा जाएगा. जिससे टैक्स विभाग (Tax Department) उन लोगों की पहचान कर सके जो महंगे सामान तो खरीदते हैं लेकिन आयकर रिटर्न दाखिल करने से बचते हैं. एक व्यक्ति जिसने लक्जरी वस्तुओं की खरीदारी की है या होटल के बिल के लिए बड़ी राशि खर्च की है, वो संभावित करदाता है और उन्हें अपना आयकर रिटर्न दाखिल करना चाहिए. हालांकि, उन्होंने स्पष्ट किया कि इस तरह के लेनदेन की रिपोर्टिंग करदाताओं पर नहीं होगी, लेकिन इसकी सूचना तीसरे पक्ष के आईटी विभाग को दी जाएगी.

ये चीजें होंगी शामिल
इन लेन-देन में श्वेत वस्तुओं की खरीद, आभूषण, 1 लाख रुपये से अधिक की पेंटिंग, शैक्षणिक शुल्क का भुगतान / प्रति वर्ष 1 लाख रुपये से अधिक का दान, 20000 रुपये से ऊपर के होटलों को भुगतान, 50000 रुपये से ऊपर का जीवन बीमा प्रीमियम भुगतान और  प्रति वर्ष 1 लाख रुपये से ऊपर बिजली की खपत शामिल है. ये लेनदेन निर्दिष्ट वित्तीय लेनदेन का हिस्सा होंगे और करदाता के फॉर्म 26A में दिखाई देंगे.

सूत्रों ने कहा कि यह जरूरी था कि आईटी विभाग के पास उन लोगों के बारे में एक व्यापक एसएफटी रिपोर्ट हो, जो उच्च मूल्य के लेनदेन करते हैं, लेकिन फिर भी आयकर का भुगतान नहीं करते हैं. उदाहरण के लिए, एक व्यक्ति जो स्कूल फ़ीस का भुगतान कर रहा है या प्रति वर्ष 5 लाख रुपये का दान कह रहा है और अभी भी यह दावा करके आयकर रिटर्न दाखिल नहीं करता है कि उसकी आय कर योग्य नहीं है, वह व्यक्ति वास्तव में आयकर प्रणाली को चकमा देने की कोशिश कर रहा है. इसी तरह, एक व्यक्ति जिसने लक्जरी वस्तुओं की खरीदारी की है या होटल के बिलों पर बड़ी राशि खर्च की है, संभावित करदाता हैं और उन्हें अपना आयकर रिटर्न दाखिल करना चाहिए.
आपको बता दें कि इस साल की शुरुआत में, सरकार ने पहले ही एक साल में 1 लाख रुपये से अधिक का बिजली बिल भरने वालों और विदेश यात्रा में 2 लाख रुपये से अधिक का खर्च करने वालों के लिए इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करना अनिवार्य कर दिया है. (सोर्स: फाइनेंशियल एक्सप्रेस )
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज